अंडे तोड़ने की इस बच्ची को मिली भयानक सजा

दुनिया में कई लोग ऐसे हैं जो आज भी अन्धविश्वास को मानते हैं. उस अन्धविश्वास के चलते वो कई बार बड़ी-बड़ी गलती कर देते हैं. कुछ लोग तो ऐसे होते हैं जो इसके चक्कर में अपनी जान से भी हाथ धो बैठते हैं. बहुत से किस्से अापने भी सुने होंगे जिसमें लोग अन्धविश्वास के चलते अपनी जान गंवा देते हैं. ऐसा ही एक किस्सा हम आपको बताने जा रहे हैं जो अन्धविश्वास से जुड़ा है. इसमें एक बच्ची एक साथ कुछ ऐसा हुआ है जो आपके साथ किसी को भी हैरान कर देगा.दुनिया में कई लोग ऐसे हैं जो आज भी अन्धविश्वास को मानते हैं. उस अन्धविश्वास के चलते वो कई बार बड़ी-बड़ी गलती कर देते हैं. कुछ लोग तो ऐसे होते हैं जो इसके चक्कर में अपनी जान से भी हाथ धो बैठते हैं. बहुत से किस्से अापने भी सुने होंगे जिसमें लोग अन्धविश्वास के चलते अपनी जान गंवा देते हैं. ऐसा ही एक किस्सा हम आपको बताने जा रहे हैं जो अन्धविश्वास से जुड़ा है. इसमें एक बच्ची एक साथ कुछ ऐसा हुआ है जो आपके साथ किसी को भी हैरान कर देगा.  आपको बता दें, राजस्थान के हरीपुरा गांव में एक पांच साल की बच्ची को अन्धविश्वास के चलते ऐसी सजा दी गई जो उसके साथ-साथ उसके माँ बाप के लिए भी बड़ी है. उस बच्ची की एक गलती थी कि उससे अंडे टूट गए थे और इसी के कारण उसे घर से निकाल दिया गया. इस बच्ची ने गलती से टिटहरी के अंडे पर पैर रख दिया जिससे वो टूट गया. इसके कारण उस बच्ची को समाज से बाहर कर दिया और उसके घर से दूर करके अकेला छोड़ दिया गया.     इस गाँव के लोगों का मानना है कि टिटहरी के अंडे टूटने से अपशकुन होता है जिसका नतीजा पूरे गाँव को झेलना होगा. उनका कहना है कि इसी के कारण गाँव में इस साल बारिश भी नहीं होगी. सजा के तौर पर बच्ची को बाहर कर दिया और 11 दिनों से अपने घर से दूर रह रही थी जिसे खाना भी दूर से फेंक कर दिया जाता था. इसकी शिकायत पिता ने पुलिस में की और पुलिस ने इसका केस भी दर्ज कर लिया है.

आपको बता दें, राजस्थान के हरीपुरा गांव में एक पांच साल की बच्ची को अन्धविश्वास के चलते ऐसी सजा दी गई जो उसके साथ-साथ उसके माँ बाप के लिए भी बड़ी है. उस बच्ची की एक गलती थी कि उससे अंडे टूट गए थे और इसी के कारण उसे घर से निकाल दिया गया. इस बच्ची ने गलती से टिटहरी के अंडे पर पैर रख दिया जिससे वो टूट गया. इसके कारण उस बच्ची को समाज से बाहर कर दिया और उसके घर से दूर करके अकेला छोड़ दिया गया.

इस गाँव के लोगों का मानना है कि टिटहरी के अंडे टूटने से अपशकुन होता है जिसका नतीजा पूरे गाँव को झेलना होगा. उनका कहना है कि इसी के कारण गाँव में इस साल बारिश भी नहीं होगी. सजा के तौर पर बच्ची को बाहर कर दिया और 11 दिनों से अपने घर से दूर रह रही थी जिसे खाना भी दूर से फेंक कर दिया जाता था. इसकी शिकायत पिता ने पुलिस में की और पुलिस ने इसका केस भी दर्ज कर लिया है.

You May Also Like

English News