अखिलेश ने PM मोदी को पछाड़ा, लखनऊ से ही दे दी पटकनी

 सीएम अखिलेश यादव लगातार बीजेपी से पहले ही अटैक करते दिख रहे हैं। इसी के तहत केन्द्र सरकार की योजनाओं के पहले ही सीएम अखिलेश यादव लगातार यूपी और खासतौर से पूर्वांचल के लिए योजनाओं की झड़ी लगा रहे हैं। पर पूर्वांचल में सीएम अखिलेश यादव ने योजनाओं की ऐसी झड़ी लगाई कि केन्द्र की योजनाओं से अधिक प्रचार मिला, इसका दावा सपा के साथ ही रातनैतिक पण्डित भी कर रहे हैं।

अखिलेश ने PM मोदी को पछाड़ा, लखनऊ से ही दे दी पटकनी

ये है साल 2016 का सबसे खतरनाक आशिक, जिसने चलाई अपनी प्रेमिका पर 27 बार कैंची

ताजा मामला बनारस का है, जहां पहुंचकर पीएम नरेन्द्र मोदी ने सौगातों की झड़ी लगाई तो सीएम अखिलेश ने यहां भी बाजी मारते दिखे। उन्होंने पीएम से ठीक पहले ही बनारस में वरुणा कॉरिडोर ओर रीवर फ्रंड का लोकार्पण कर दिया। इतन ही नहीं पूर्वांचल की सबसे बड़ी योजना पूर्वांचल समाजवादी एक्सप्रेस वे का भी शिलान्यास कर दिया। 

पीएम नरेन्द्र मोदी की वाराणसी में कोई रैली नहीं थी, यहां वह कार्यकर्ताओं से मिले और बीएचयू में एक कार्यक्रम में शामिल हुए। यहां उन्होंने बनारस में एक कैंसर इंस्टीट्यूट बनवाने की घोषणा समेत काशी को 2100 करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। बीएचयू ने कैंसर इंस्टीट्यूट के लिये 10 एकड़ जमीन मुहैय्या कराई। उन्होंने शताब्दी सुपर स्पेशियलिटी सेंटर की आधारशिला रखी। 

आने वाले साल में PM मोदी दे रहे हैं नोटबंदी से भी तगड़ा झटका

इसकी लागत 550 करोड़ बतायी गयी है। इसके पहले यूपी चुनाव को देखते हुए पीएम मोदी के मंत्रियों ने भी अपने विभाग के जरिये यूपी और खासतौर से पूर्वांचल के लिेय सौगातों की झड़ी लगा दी। इलाहाबाद में 120 करोड़ में स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट, इलाहाबाद में गंगा पर छह लेन का पुल, एनएच 96 पर प्रतापगढ़ से इलाहाबाद तक 34.70 किमी तक फोर लेन व एनएच 27 पर इलाहाबाद से मध्य प्रदेश तक 41.71 किमी तक फोर लेन समेत कुल 5000 करोड़ की योजनाओं की सौगात दी गईं। 

सीएम अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी ने जैसे पैनी नजर रखी थी। यही वजह है कि पीएम मोदी और उनके मंत्रियों की घोषणा के पहले ही सीएम अखिलेश ने ताबड़तोड़ बैटिंग करते हुए योजनाओं की झड़ी लगा दी। उन्होंने पीएम मोदी के बनारस पहुंचन से पहले ही वाराणसी में वरुणा नदी पर बने बड़े प्रोजेक्ट वरुणा कॉरिडोर व रिवर फ्रंट का उद्घाटन कर दिया। 201.65 करोड़ की लागत से 10.3 किमी तक शहर के अंदर नदी को चैनलाइज किया गया है। 
 
साथ ही रिवर फ्रंट के तहत पांच घाट, सात सीढ़ियां शामिल होंगी। वरुणा नदी के सुंदरीकरण के लिये 14 बड़े और 40 छोटे नालों को ट्रैप कर दोनों किनारों को इंटरसेप्ट किया गया है। इतना ही नहीं पूर्वांचल की सबसे बड़ी योजना पूर्वांचल समाजवादी एक्सप्रेस वे का भी लखनऊ से ही शिलान्यास कर दिया 348.10 किलोमीटर लम्बा यह एक्सप्रेस वे बलिया से लखनऊ को जोड़ेगा। यह पूर्वांचल के बलिया, गाजीपुर, मऊ व आजमगढ़ से होकर गुजरेगा। एक्सप्रेस वे बलिया को आगरा एक्सप्रेस वे से भी जोड़ देगा। बताया जा रहा है कि यह एक्सप्रेसवे पूर्वांचल के विकास में मील का पत्थर साबित होगा।
 
गोरखपुर के रामगढ़ ताल का तकरीबन 19 करोड़ में होगा सौंदर्यीकरणगोरखपुर के रामगढ़ ताल के दिन बदलने वाले हैं। सीएम अखिलेश यादव ने मंगलवार को कैबिनेट में इस के सौंदर्यीकरण के लिये 18 करोड़ 85 लाख रुपये मंजूर कर दिये हैं। इस धनराशि से ताल को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का बनाय जाएगा। इसमें मार्बल, ग्रेनाइट स्टोन, डेकोरेटिव पोल लगाए जाएंगे। यही नहीं ताल के चारों ओर जॉगिंग ट्रैक, साइकिल ट्रैक, विकलांगों के लिये रैम्प, बैठने के लिये विजिटर्स बेंच, गोमती तट जैसे फव्वारे, महापुरुषों की मूर्तियां, घाट, सीढ़ी, एलईडी लाइट, सजावटी पोल, लैण्ड स्केपिंग, पार्किंग प्लेटफॉर्म के साथ ही लेक फ्रंट रेलिंग आदि बनाए जाएंगे। इेस गोमती तट की तर्ज पर विकसित किये जाने का प्लान बताया जा रहा है।
 
पिता के संसदीय क्षेत्र और सपा का गढ़ माने जाने वाले आजमगढ़ पर सीएम अखिलेश कुछ ज्यादा ही मेहरबान हुए हैं। सीएम की कैबिनेट ने आजमगढ़ में घाघरा नदी पर पुल के लिये 228 करोड़ 75 लाख रुपये स्वीकृत किये हैं। यह पुल आजमगढ़ में महुल गढ़वल बंधे पर ग्राम हाजीपुर लखेड़िया-गोला बाजार में घाघरा नदी पर बनाया जाएगा। इसके अलावा सपर्क मार्ग व पुल का सुरक्षात्मक कार्य भी कराया जाएगा। आजमगढ़-जौनपुर-इलाहाबाद मार्ग के लिये 649 करोड़ 32 लाख रुपये खर्च किये जाने की मंजूरी दी गई है। आजमगढ़ बस अड्डे के विस्तारीकरण व आधुनीकीकरण के लिये भी 56 करोड़ 88 लाख रुपये स्वीकृत किये गए हैं। वहां इस धनराशि से ग्लास पैनल, फॉल्स सीलिंग, एल्यूमीनियम कम्पोजिट पैनल व मल्टीवॉल पॉलीकॉर्बोनेट शीट आदि लगवाई जाएंगी। आजमगढ़ में सप्ताह भर पहले ही पूर्वांचल का इकलौता मुफ्त डायलिसिस सेंटर भी शुरू हो चुका है।
 
कैबिनेट के मुफ्त इलाज के फैसले से भी पूर्वांचल के लोगों को काफी सहूलियत होगी। सरकार के इस फैसले से इलाहाबाद, गोरखपुर, आजमगढ़, वाराणसी समेत जिलों में बने मल्टीस्पेशालिटी निजी अस्पतालों, मेडिकल कॉलेजों में मुफ्त इलाज की सुविधा दी है। इसके तहत कार्डियोलॉजी, कार्डियोथेरैसिक सर्जरी, चेस्ट सर्जरी, कैंसर, अंग प्रत्यारोपण का इलाज मुफ्त होगा। राष्ट्रीय राजधानी वाले सुपर स्पेशालिटी अस्पतालों में भी इलाज की सुविधा मिलेगी।
 
सीएम अखिलेश यादव की कैबिनेट ने बलिया में गंगा पर एक पुल बनाने के लिये भी 233 करोड़ 54 लाख रुपये की मंजूरी दी है। यह पुल बलिया में नौरंगा के पास शुवपुर घाट पर बनाया जाएगा। पुल के साथ ही इसके सम्पर्क मार्ग और सुरक्षात्मक कार्य भी कराए जाएंगे। सीएम ने बलिया में पहले ही विश्वविद्यालय बनवाने की ऐलान कर चुके हैं। आजमगढ़-जौनपुर-इलाहाबाद मार्ग जो 72.71 किमी लम्बा है, उसके लिये सीएम अखिलेश यादव की कैबिनेअ से 649 करोड़ 32 लाख रुपये मंजूर किये गए हैं। जौनपुर, आजमगढ़, अंबेडकर नगर जिलों से जाने वाले वाहनों को सीधे प्रदेश मुख्यालय लखनऊ से होगा। जौनपुर को मेडिकल कॉलेज की सौगात पहले ही मिल चुकी है। 
 
सीएम अखिलेश यादव की कैबिनेट ने इलाहाबाद को एक और विश्वविद्यालय का तोहफा दिया है। कैबिनेट ने इलाहाबाद के हग्गिनबॉटम डीम्ड विश्वविद्यज्ञालय को कृषि प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान विश्वविद्यालय का दर्जा दे दिया है। यह इलाहाबाद ही नहीं पूरे पूर्वांचल के लिेय एक बड़ी सौगात है। सीएम अखिलेश यादव की कैबिनेट के फैसले से पूर्वांचल में बंद पड़े सैकड़ों सिनेमा हॉल मालिकों को राहत मिलेगी। सीएम अखिलेश यादव की कैबिनेट ने बंद पड़े सिनेमा हॉल्स पर मनोरंजर कर में छूट की घोषणा की है। इसके तहत 31 मार्च 2015 तक बंद सिंगल स्क्रीन सिनेमा हॉल्स को छूट दी जाएगी। इसके अतह पहले, दूसरे व तीसरे साल के मरोरंजन कर में 30 प्रतिशत की छूट दी जाएगी।
 
सीएम अखिलेश यादव ने बनारस के सांसद और प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मेदी को विकास पर घेरने की कोशिश की है। उन्होंने बनारस के शिवपुर-लहरतारा (फुलवरिया) मार्ग के चैड़ीकरण की बात कही है। पर इसके लिये धनराशि का जिम्मा उन्हों ने केन्द्र सरकार पर छोड़ दिया है। सीएम ने इस चैड़ीकरण के लिये 396 करोड़ 54 लाख रुपये की अनुमानित राशि जल्द अवमुक्त करने के लिेय प्रधानमन्त्री को पत्र भी लिखा है।
बनारस से सटे होने के चलते चंदौली विकास की राह में पिछड़ता माना जाता रहा है। पर इस बार चुनावी ही सही सीएम अखिलेश यादव ने इस पर भी नजरे इनायत की है। उन्होंने चंदौली को एक मेडिकल कॉलेज की सौगात दी है। इससे चंदौली ही नहीं सीमा से सटे बिहार के जिलों को भी मेडिकल सहूलियतें मुहैय्या होंगी।

You May Also Like

English News