अगर हमने अच्छा खेला होता तो धोनी को टीम इंडिया में मौका नहीं मिलता: पार्थिव पटेल

टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से पहले भारतीय टीम के लिए डेब्यू करने वाले विकेटकीपर पार्थिव पटेल ने धोनी को लेकर बड़ा बयान दिया है.टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से पहले भारतीय टीम के लिए डेब्यू करने वाले विकेटकीपर पार्थिव पटेल ने धोनी को लेकर बड़ा बयान दिया है.  दरअसल, धोनी को लेकर टिप्पणी करते हुए पार्थिव पटेल ने कहा कि अगर उस दौर के विकेटकीपरों ने खराब प्रदर्शन नहीं किया होता तो धोनी को टीम इंडिया में कभी मौका नहीं मिलता.  हम खराब नहीं खेलते तो धोनी को नहीं मिलता मौका  पार्थिव पटेल ने यह बात एक शो 'ब्रेकफास्ट विद चैंपियंस' के साथ हुए इंटरव्यू में कही है. इस इंटरव्यू में पार्थिव पटेल से यह पूछा गया कि क्या वो भी मानते हैं कि वो गलत दौर में क्रिकेट में आ गए?  इस पर पार्थिव ने जवाब दिया कि नहीं, 'मुझे ऐसा नहीं लगता है. ज्यादातर लोग ऐसा बोलते हैं, लेकिन मैं इसको इस तरह से देखता हूं कि अगर हम लोग खराब नहीं खेलते तो धोनी को टीम इंडिया में मौका नहीं मिलता.'  पार्थिव ने कहा, 'हमारे टीम से बाहर होने के लिए धोनी नहीं हम खुद जिम्मेदार हैं. हमने अगर मिले मौकों को भुनाया होता तो आज धोनी टीम इंडिया में शायद ही होते.'  इस इंटरव्यू में पार्थिव ने अपने संघर्षों के बारे में बताया जिनके बाद वो आज इस मुकाम तक पहुंचे हैं और अपनी पहचान बनाई. पढ़ाई के दिनों में 12-13 किमी तक बैग टांगकर साइकिल से स्कूल जाना और साइकिल के पीछे उनका किट बैग भी होता था. स्कूल की पढ़ाई से समय बचने के बाद क्रिकेट पर फोकस करना होता था.  कार्तिक भी संन्यास का मन बना चुके थे  यह कोई पहला मौका नहीं है जब महेंद्र सिंह धोनी को लेकर किसी अन्य विकेटकीपर ने यह प्रतिक्रया दी हो इससे पहले हाल ही में दिनेश कार्तिक ने कहा था कि धोनी के चलते में एक बार उन्होंने सोच लिया था कि वो क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे या फिर विकेटकीपिंग ही छोड़ देंगे.

दरअसल, धोनी को लेकर टिप्पणी करते हुए पार्थिव पटेल ने कहा कि अगर उस दौर के विकेटकीपरों ने खराब प्रदर्शन नहीं किया होता तो धोनी को टीम इंडिया में कभी मौका नहीं मिलता.

हम खराब नहीं खेलते तो धोनी को नहीं मिलता मौका

पार्थिव पटेल ने यह बात एक शो ‘ब्रेकफास्ट विद चैंपियंस’ के साथ हुए इंटरव्यू में कही है. इस इंटरव्यू में पार्थिव पटेल से यह पूछा गया कि क्या वो भी मानते हैं कि वो गलत दौर में क्रिकेट में आ गए?

इस पर पार्थिव ने जवाब दिया कि नहीं, ‘मुझे ऐसा नहीं लगता है. ज्यादातर लोग ऐसा बोलते हैं, लेकिन मैं इसको इस तरह से देखता हूं कि अगर हम लोग खराब नहीं खेलते तो धोनी को टीम इंडिया में मौका नहीं मिलता.’

पार्थिव ने कहा, ‘हमारे टीम से बाहर होने के लिए धोनी नहीं हम खुद जिम्मेदार हैं. हमने अगर मिले मौकों को भुनाया होता तो आज धोनी टीम इंडिया में शायद ही होते.’

इस इंटरव्यू में पार्थिव ने अपने संघर्षों के बारे में बताया जिनके बाद वो आज इस मुकाम तक पहुंचे हैं और अपनी पहचान बनाई. पढ़ाई के दिनों में 12-13 किमी तक बैग टांगकर साइकिल से स्कूल जाना और साइकिल के पीछे उनका किट बैग भी होता था. स्कूल की पढ़ाई से समय बचने के बाद क्रिकेट पर फोकस करना होता था.

कार्तिक भी संन्यास का मन बना चुके थे

यह कोई पहला मौका नहीं है जब महेंद्र सिंह धोनी को लेकर किसी अन्य विकेटकीपर ने यह प्रतिक्रया दी हो इससे पहले हाल ही में दिनेश कार्तिक ने कहा था कि धोनी के चलते में एक बार उन्होंने सोच लिया था कि वो क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे या फिर विकेटकीपिंग ही छोड़ देंगे.

You May Also Like

English News