अपराधियों से केस वापस लेने पर SP का योगी सरकार पर हमला

उन्नाव गैंगरेप मामले में सियासत तेज हो गई है. समाजवादी पार्टी के नेता सुनील यादव ने योगी सरकार पर हमला बोला है. सुनील यादव का कहना है कि योगी सरकार जिस तरह अपराधियों से केस वापस ले रही है ये गलत है. बीजेपी जो कहती है वो नहीं करती है. उन्होंने कहा कि जो लोग आज बंद बुला रहे हैं, वो दलितों से आरक्षण छीनना चाहते हैं.उन्नाव गैंगरेप मामले में सियासत तेज हो गई है. समाजवादी पार्टी के नेता सुनील यादव ने योगी सरकार पर हमला बोला है. सुनील यादव का कहना है कि योगी सरकार जिस तरह अपराधियों से केस वापस ले रही है ये गलत है. बीजेपी जो कहती है वो नहीं करती है. उन्होंने कहा कि जो लोग आज बंद बुला रहे हैं, वो दलितों से आरक्षण छीनना चाहते हैं.  पीड़िता ने किए थे कई खुलासे  आपको बता दें कि सोमवार को आजतक से बात करते हुए पीड़ित युवती ने काफी खुलासे किए थे. पीड़ित युवती ने आरोप लगाया था कि विधायक और उनके भाई अतुल सिंह ने उसके साथ दुष्कर्म किया और अब उसे जान से मारने की धमकी दे रहे हैं. विधायक के गुर्गे आए दिन उसके और परिवार के लोगों के साथ मारपीट किया करते हैं.  पीड़िता रविवार को मुख्यमंत्री आवास के सामने अपनी मां, चाची, दादी, चार बहनों व एक मासूम भाई के साथ पहुंची थी. इन लोगों ने खुद पर मिट्टी तेल छिड़ककर आत्मदाह का प्रयास किया था. पीड़िता का आरोप था कि पुलिस में शिकायत करने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई. न्याय न मिलने पर वह परिवार संग आत्मदाह के लिए मजबूर हुई.  जेल में पिता की हुई थी मौत  गौरतलब है कि सोमवार को युवती के पिता की जेल में मौत हो गई थी, जिसके बाद मामला काफी बढ़ गया था. युवती के बयान के मुताबिक, अदालत में चल रहा एक मुकदमा वापस लेने से इनकार करने पर पांच दिन पहले विधायक के भाई और उनके गुर्गों ने उसके पिता को पेड़ से बांधकर बुरी तरह पीटा था और घसीटते हुए ले गए थे.  बाद में पता चला कि पुलिस से मिलीभगत के कारण फर्जी मामला दर्ज करवाकर उसके पिता को उन्नाव जिला जेल भिजवा दिया गया. सोमवार को खबर आई कि उसके पिता ने जेल में दम तोड़ दिया है. पीड़िता के पिता की मौत के बाद पुलिस प्रशासन हरकत में आया था.

पीड़िता ने किए थे कई खुलासे

आपको बता दें कि सोमवार को आजतक से बात करते हुए पीड़ित युवती ने काफी खुलासे किए थे. पीड़ित युवती ने आरोप लगाया था कि विधायक और उनके भाई अतुल सिंह ने उसके साथ दुष्कर्म किया और अब उसे जान से मारने की धमकी दे रहे हैं. विधायक के गुर्गे आए दिन उसके और परिवार के लोगों के साथ मारपीट किया करते हैं.

पीड़िता रविवार को मुख्यमंत्री आवास के सामने अपनी मां, चाची, दादी, चार बहनों व एक मासूम भाई के साथ पहुंची थी. इन लोगों ने खुद पर मिट्टी तेल छिड़ककर आत्मदाह का प्रयास किया था. पीड़िता का आरोप था कि पुलिस में शिकायत करने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई. न्याय न मिलने पर वह परिवार संग आत्मदाह के लिए मजबूर हुई.

जेल में पिता की हुई थी मौत

गौरतलब है कि सोमवार को युवती के पिता की जेल में मौत हो गई थी, जिसके बाद मामला काफी बढ़ गया था. युवती के बयान के मुताबिक, अदालत में चल रहा एक मुकदमा वापस लेने से इनकार करने पर पांच दिन पहले विधायक के भाई और उनके गुर्गों ने उसके पिता को पेड़ से बांधकर बुरी तरह पीटा था और घसीटते हुए ले गए थे.

बाद में पता चला कि पुलिस से मिलीभगत के कारण फर्जी मामला दर्ज करवाकर उसके पिता को उन्नाव जिला जेल भिजवा दिया गया. सोमवार को खबर आई कि उसके पिता ने जेल में दम तोड़ दिया है. पीड़िता के पिता की मौत के बाद पुलिस प्रशासन हरकत में आया था.

You May Also Like

English News