अब तेज गेंदबाजों का भविष्य खतरे में हैं

ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज जेम्स पैटिंन्सन ने तेजगेंद्बाजो की चिंता करते हुए कहा है कि कहा है कि मौजूदा दौर में ज्यादा क्रिकेट के खेले जाने के कारण तेज गेंदबाजों का भविष्य खतरे में हैं. ज्यादा क्रिकेट खेले जाने की वजह से आने वाले समय में शायद तेज गेंदबाजों को क्रिकेट का सिर्फ एक ही प्रारूप खेलने के लिए मजबूर होना पड़े. तेज गेंदबाजों पर बात करते हुए बातचीत के दौरान पैटिंन्सन ने बताया कि उन्हें लगता है कि आजकल क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट को मिलाकर देखा जाए तो काफी ज्यादा क्रिकेट खेला जा रहा है, जिसके चलते आने वाले दिनों में तेज गेंदबाजों को क्रिकेट के एक ही प्रारूप तक सीमित होना पड़ सकता है या फिर वो शायद एकदिवसीय मैचों में ही हिस्सा लें.

पैटिन्सन ने इंग्लैंड की मौजूदा टीम का उदाहरण देते हुए कहा कि, इंग्लैंड की टीम में क्रिकेट के हर प्रारूप के अलग-अलग गेंदबाज हैं. इंग्लैंड की टीम के लिए एकदिवसीय मैचों के लिए अलग गेंदबाज हैं. अपने गेंदबाजों को देखते हुए इंग्लैंड ने यह एक बेहतरीन काम किया है स्टुअर्ट ब्रॉड और जेम्स एंडरसन केवल टेस्ट मैचों में ही अपनी सेवाएं देते हैं, इससे उनका गेंदबाजी आक्रमण और भी धारदार हो गया है मौजूदा दौर में बढ़ते क्रिकेट मैचों की संख्या को देखकर आने वाले दिनों में इंग्लैंड की ये रणनीति सभी देश अपना सकते हैं.

 

पैटिंन्सन ने जोश हेजलवुड, मिशेल स्टार्क और पैट कमिंस के बारे में कहा कि इन तीनों ही गेंदबाजों ने बेहतरीन गेंदबाजी की थी लेकिन ज्यादा क्रिकेट खेलने से इनके फिटनेस पर प्रभाव पड़ा ये चोटिल हो गए और अब इन्हें टीम से बाहर बैठना पड़ रहा है.

You May Also Like

English News