अब नहीं टूटेगी स्मार्टफोन की स्क्रीन, मोबाइल एयरबैग बचाएंगे इसे

कार में एयरबेग आपने देखे ही होंगे। यह एयरबैग किसी भी दुर्घटना में कार में सवार लोगों की जान बचाने के लिए लगाए जाते हैं। लेकिन क्या कभी आपने मोबाइल एयरबैग के बारे में सुना है। जर्मनी के एक इंजीनियरिंग स्टूडेंट ने ऐसे ही एयरबैग विकसित किए हैं। इन एयरबैग्स के कारण स्मार्टफोन की टूटी हुई स्क्रीन जल्द बीते जमाने की बात हो जाएगी।कार में एयरबेग आपने देखे ही होंगे। यह एयरबैग किसी भी दुर्घटना में कार में सवार लोगों की जान बचाने के लिए लगाए जाते हैं। लेकिन क्या कभी आपने मोबाइल एयरबैग के बारे में सुना है। जर्मनी के एक इंजीनियरिंग स्टूडेंट ने ऐसे ही एयरबैग विकसित किए हैं। इन एयरबैग्स के कारण स्मार्टफोन की टूटी हुई स्क्रीन जल्द बीते जमाने की बात हो जाएगी।  जानकारी के अनुसार एलन यूनिवर्सिटी जर्मनी के छात्र फिलिप फ्रेंजल ने एक ऐसा मोबाइल केस विकसित किया है जो मोबाइल के लिए एयरबैग का काम करता है। यह केस मोबाइल के जमीन पर गिरने से पहले ही अपने सेंसर्स की मदद से इसमें लगे एयरबैग्स को एक्टीवेट कर देता है और जब मोबाइल जमीन पर पहुंचता है तो यह केस अपनी चार टांगों की तरह नजर आने वाले बैग्स से उसे टूटने से बचा लेते हैं।  इसकी खास बात यह है कि शॉक अब्जार्बर के रूप में चार कोनों में लगे यह एयरबैग्स फोन के लुक को बिल्कुल खराब नहीं करते और जैसे ही केस को फ्री फॉल का अहसास होता है यह एक्टिवेट होकर बाहर निकल आते हैं। साथ ही इन एयरबैग्स को फोन गिरने के बाद फिर से फोल्ड कर केस में डाला जा सकता है। अपने इस अविष्कार के लिए फ्रेंजल को जर्मन मैकट्रोनिक्स सोसायटी की तरफ से पुरस्कृत भी किया जा चुका है।

जानकारी के अनुसार एलन यूनिवर्सिटी जर्मनी के छात्र फिलिप फ्रेंजल ने एक ऐसा मोबाइल केस विकसित किया है जो मोबाइल के लिए एयरबैग का काम करता है। यह केस मोबाइल के जमीन पर गिरने से पहले ही अपने सेंसर्स की मदद से इसमें लगे एयरबैग्स को एक्टीवेट कर देता है और जब मोबाइल जमीन पर पहुंचता है तो यह केस अपनी चार टांगों की तरह नजर आने वाले बैग्स से उसे टूटने से बचा लेते हैं।

इसकी खास बात यह है कि शॉक अब्जार्बर के रूप में चार कोनों में लगे यह एयरबैग्स फोन के लुक को बिल्कुल खराब नहीं करते और जैसे ही केस को फ्री फॉल का अहसास होता है यह एक्टिवेट होकर बाहर निकल आते हैं। साथ ही इन एयरबैग्स को फोन गिरने के बाद फिर से फोल्ड कर केस में डाला जा सकता है। अपने इस अविष्कार के लिए फ्रेंजल को जर्मन मैकट्रोनिक्स सोसायटी की तरफ से पुरस्कृत भी किया जा चुका है।

You May Also Like

English News