अभी अभी: आतंकी हमलों की लगातार मार झेल रहे ब्रिटेन में वोटिंग शुरू

ब्रिटेन में आतंकी हमलों की दहशत के बीच आज यानि गुरुवार कई है। यहां के मतदाताओं हाल ही में हुए आतंकी हमले के बाद सदमे में हैं ऐसे में उनके बड़ी संख्या में शामिल होने पर सस्पेंस बरकार है। यहां आतंकी हमलों के बाद राजनीतिक फिजां काफी हद तक बदल गई है और आतंकी हमले प्रमुख मुद्दा बन गए हैं।
GST: घूमने के हैं शौकीन तो अब 1 जुलाई से महंगा हो जाएगा होटल में रहना-खाना अभी अभी: आतंकी हमलों की लगातार मार झेल रहे ब्रिटेन में वोटिंग शुरूअभी अभी: ट्रंप बोले- कतर को अलग करना आतंक के खात्मे की शुरुआत होगी..
इस बीच कंजर्वेटिव पार्टी से पीएम पद की उम्मीदवार टेरीजा मे और लेबर पार्टी के नेता जेरेमी कोर्बिन ने शहरी क्षेत्रों को लक्ष्य करते हुए मतदान से पहले चुनाव प्रचार किया। इन इलाकों को वोट चुनाव में निर्णायक भूमिका निभा सकते हैं। 

टेरीजा मे ने अंतिम दिन बड़ी आबादी वाले इंग्लिश मिडलैंड में जोरदार चुनाव प्रचार किया जबकि कोर्बिन ने इंग्लैंड, स्कॉटलैंट और वेल्स में छह रैलियां कीं। दोनों नेताओं के चुनाव प्रचार में आतंकवाद एक बड़ा मुद्दा रहा।

गृह सुरक्षा और पुलिस बल की संख्या में कमी हाल ही में मैनचेस्टर और लंदन के आतंकी हमलों के बाद चुनाव अभियान का प्रमुख मुद्दा रहीं। दोनों प्रत्याशियों ने कहा कि लंदन में आतंकवाद से निपटने के लिए जरूरत पड़ी तो मानवाधिकार कानूनों को बदला भी जाएगा।

जबकि कोर्बिन ने मतदाताओं को याद दिलाया कि टेरीजा जब गृहमंत्री थीं तब उन्होंने पुलिस बल की संख्या में कटौती की थी। इस मुद्दे पर टेरीजा अपनी तरह से बचाव भी करती दिखाई दीं लेकिन कोर्बिन के हमले काफी तीखे रहे। 

टेरीजा ने मतदाताओं से उनके हाथ मजबूत करने का आव्हान किया। जबकि जेरेमी कोर्बिन ने कहा कि सार्वजनिक सेवाएं और राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा उनके हाथों में सुरक्षित रहेगी। गत 18 अप्रैल को पीएम टेरीजा मे ने जब अचानक मध्यावधि चुनाव की घोषणा कर सभी को चौंका दिया था तब उनकी लोकप्रियता चरम पर थी और उन्होंने लेबर पार्टी के मुकाबले दोहरे अंकों की बढ़त हासिल कर ली थी लेकिन अब आतंकी हमलों के बाद उनका यह ग्राफ गिरता दिखाई दिया है।

एक माह पहले प्रचार अभियान की शुरूआत के दौरान हुए जनमत सर्वेक्षण में टेरीजा मे अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी से 20 अंकों की बढ़त बनाए हुए थीं जबकि नए आंकड़ों में दोनों के बीच कड़ी टक्कर होती दिखाई दे रही है। बृहस्पतिवार को देश के पांच करोड़ मतदाता प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला करेंगे।

कांटे की टक्कर है टेरीजा और कोर्बिन के बीच 

ब्रिटेन में हुए ताजा सर्वेक्षणों में खंडित जनादेश के आसार दिखाई दे रहे हैं। यहां कंजर्वेटिव पार्टी को 41.6 फीसदी और लेबर पार्टी को 40.4 फीसदी लोगों का समर्थन मिल रहा है जो बेहद नजदीकी है। जबकि देश में ब्रेग्जिट की प्रक्रिया 19 जून से प्रारंभ होनी है।

ऐसे में टेरीजा मे को उम्मीद है कि यूके इंडिपेंडेंट पार्टी के समर्थकों का बड़ा हिस्सा उन्हें समर्थन दे देगा। इसके अलावा उन्हें लेबर पार्टी से भी कुछ सीटें छीनने की उम्मीद है। लेकिन चुनाव परिणामों से पहले राजनीतिक विश्लेषक इस गठबंधन के बारे में कोई टिप्पणी करने से बचते देखे गए।

You May Also Like

English News