अभी-अभी: आदित्य पंचोली ने कंगना रनौत पर किया पलटवार….

बॉलीवुड की क्वीन के ऋतिक रोशन और आदित्य पंचोली पर ‘आप की अदालत’ में निशाना साधने के बाद खूब हंगामा कटा। लेकिन अब आदित्य ने कंगना रनौत पर पलटवार किया है। उन्होंंने कहा है कि अगर कंगना के सारे आरोप सही हैं तो वो FIR की कॉपी सार्वजनिक करें। दरअसल कंगना रनौत ने कहा था कि जब वह बॉलीवुड में स्ट्रगल कर रहीं थीं तो आदित्य पांचोली ने उन्हें घर में जबरदस्ती रखा और उसका जमकर शोषण किया। इसके खिलाफ उस वक्त कंगना ने आदित्य के खिलाफ FIR भी करवाई थी।अभी-अभी: आदित्य पंचोली ने कंगना रनौत पर किया पलटवार....बॉलीवुड के नायक अनिल कपूर ने ‘फन्ने खां’ पर ली अंगड़ाई….

अब आदित्य ने कहा है कि कंगना एफआईआर की कॉपी सार्वजनिक करें। इतनी ही नहीं उन्होंने कहा कि अगर वो ये कहती हैं कि कॉपी उनसे खो गई है तो फिर वो थाने से जाकर कॉपी निकलवाएं। आदित्य ने पूछा क्या कंगना उनका ये चैलेंज मंजूर करेंगी ?

आदित्य पंचोली ने कहा कंगना रनौत ने दरअसल कभी कोई  FIR कभी करवाई ही नहीं। कंगना के सारे आरोप झूठे हैं। और अगर वो सच्ची हैं तो अब सारे प्रूफ सामने लाएं। 

….कहा कंगंना सबको सामने लाएं एज प्रूफ  

आदित्य पंचोली यहीं नहीं रुके। उन्होंने कहा कि कंगना ने आरोप लगाया है कि 17 साल की उम्र में उन्हें मैंने प्रताड़ित किया और खूब मार पीट की। इतना ही नहीं ये तक कहा कि तब मैं कंगना से उम्र में  बड़ी एक बेटी का पिता भी था। तो मैं अपनी बेटी का आधार कार्ड भी सबके सामने ले आया हूं। ये बताने के लिए कि सना की असली उम्र क्या है? अब कंगना भी अपना बर्थ सर्टिफिकेट सबके सामने लाएं।

पंचोली ने बेटी सना का जो आधार कार्ड रिलीज किया है उसके अनुसार सना की डेट ऑफ बर्थ 21/01/1987 है। जबकि कंगना के पासपोर्ट के अनुसार उनकी डेट ऑफ बर्थ 23/03/1986 है। 

कंगना रनौत

कंगना रनौत ने एक इंटरव्यू में कहा,अब वो बाहरी नहीं बल्कि बॉलीवुड का लीडिंग फेस हैं। बॉलीवुड की क्वीन ने दरअसल एक इंटरव्यू के दौरान कहा वो अब बॉलीवुड में अपने पैर जमा चुकी हैं। उन्होंने कई बेहतरीन फिल्में बॉलीवुड को दी हैं और तीन नेशनल अावार्ड भी जीत चुकी हैं। उन्होंने कहा मेरी कई फिल्मों ने बॉक्स आफिस में रिकार्ड बनाए हैं। मैं अब बाहरी नहीं बल्कि बालीवु़ड का बेहद जरूरी हिस्सा हूं।  

‘बीमार है हमारा समाज, फेमिनिज्म है दवा’ 

कंगना ने ये भी कहा कि औरतों के लिए इस इंडस्ट्री में बेहद बुरा नजरिया रखा जाता है। अगर एक औरत सफल होती है तो उसके बारे में गॉसिप्स होती हैं। कैरेक्टर पर सवाल खड़े किए जाते हैं। हालांकि पूरी सोसायटी में ही ऐसा नजरिया औरतों के लिए है। दरअसल ‘ये सोसायटी बीमार है और फैमिनिज्म एक मेडिसिन है।’

You May Also Like

English News