अभी-अभी: चीन ने कहा- सिर्फ बातों के नहीं काम के नेता हैं मोदी जी…

चीनी मीडिया का मानना है कि मोदी जिस तरह से सत्ता पर अपनी पकड़ बना चुके हैं उससे उनका 2019 में फिर सरकार में आना और पीएम बनना तय है।

उम्मीद यह भी जताई गई है कि उनके रहते भारत-चीन के बीच बॉर्डर विवाद सुलझाया जा सकता है।  ग्लोबल टाइम्स के एक ओपन एडिटोरियल (op-ed) में लिखा है कि नरेंद्र मोदी की अगुआई में बीजेपी ने हाल ही में उत्तर प्रदेश चुनाव में जबर्दस्त जीत हासिल की है। यह देश का सबसे ज्यादा आबादी वाला राज्य है।

अभी-अभी भाजपा सांसद का आया बड़ा बयान; पार्टी का दलित नेता ही अगला सीएम !

इसके साथ ही देश के कुछ और राज्यों में भी उन्हें पब्लिक का जोरदार सपोर्ट मिला है। इससे न सिर्फ मोदी की 2019 के चुनावों में जीतने की उम्मीद बढ़ी है, बल्कि कुछ लोगों का अनुमान है वो दूसरे टर्म के लिए भी सेट हो चुके हैं।

उम्मीद यह भी जताई जा रही है कि उनके रहते भारत-चीन के बीच बॉर्डर विवाद सुलझ सकता है। ओपन एडिटोरियल में आगे लिखा गया है कि कुछ समय से भारत-चीन के रिश्तों में तल्खी देखने को मिली है। लेकिन मोदी की सत्ता पर मजबूत होती पकड़ से ऑबजर्वर्स चौकस हो गए और वो साेचने लगे कि दोनों देशों के रिश्ते बेहतर कैसे होंगे।
मोदी के कुछ कदम भले ही नतीजे देने में नाकाम रहे हों, फिर भी उन्होंने साबित किया है कि वो सिर्फ नारे लगाने वाले राजनेता नहीं हैं, बल्कि काम करने वाले शख्स हैं। मोदी का सख्त रवैया दोनों जगह नजर आता है। घरेलू राजनीति में, जैसे उन्होंने नोटबंदी की और उनके डिप्लोमैटिक लॉजिक में भी।
ओपन एडिटोरियल में लिखा गया है कि मोदी ने इंटरनेशनल लेवल पर भारत की किसी को अपमानित नहीं करने वाली इमेज को बदला। उन्होंने दूसरे देशों के बीच विवादों पर अपनी सोच को खुलकर उजागर करना शुरू किया।  उन्होंने भारत के चीन और रूस के साथ रिश्तों को बढ़ाया। शंघाई को-ऑपरेशन ऑर्गेनाइजेशन का मेंबर बनने के लिए एप्लाई किया। मोदी ने अमेरिका और जापान के साथ रक्षा सहयोग बढ़ाया है। इसके साथ ही साउथ चाइना सी मुद्दे और एशिया-पैसिफिक पर अमेरिका की स्ट्रैटजी को भी सपोर्ट किया है।
loading...

You May Also Like

English News