अभी अभी: जेल विभाग की रिपोर्ट – नियमों के तहत संजय दत्त की अब होगी रिहाई

बॉम्बे हाईकोर्ट में जेल विभाग द्वारा पेश किए जाने वाली रिपोर्ट में कहा गया है कि महाराष्ट्र सरकार के मौजूदा नियमों के मुताबिक ही संजय दत्त को जेल की सजा में माफी दी गई है.

अब 16 जून से पेट्रोल- डीजल की होगी किल्लत , 3300 पेट्रोल पंप रहेंगे बंदअभी अभी: जेल विभाग की रिपोर्ट - नियमों के तहत संजय दत्त की अब होगी रिहाईअभी अभी: दुर्घटना में लेखपाल की हुई मौत, दूसरा गंभीर रूप से घायल..

बॉम्बे उच्च न्यायालय ने यह आदेश प्रदीप भालेकर नाम के एक सामाजिक कार्यकर्ता की जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान दिए हैं. प्रदीप ने संजय दत्त की रिहाई को चुनौती देने के साथ ही उनको जेल में रहते हुए जो पैरोल मिलते रहे थे, उन पर भी सवाल उठाए हैं. इस याचिका को गंभीरता से लेते हुए न्यायालय ने कहा है कि ‘जेल अधिकारियों ने यह आकलन कर कैसे लिया कि संजय दत्त का व्यवहार अच्छा था? उन्हें यह आकलन करने का समय कब मिला जबकि आधे समय तो संजय दत्त पैरोल पर जेल से बाहर रहते थे.’ न्यायालय ने यह भी सवाल किया है कि क्या संजय दत्त की रिहाई के लिए जो प्रक्रिया अपनाई गई, आम कैदियों के लिए भी वही अपनाई जाती है?

संजय दत्त को कभी अपनी बेटी की नाक की सर्जरी के लिए 30 दिनों का पैरोल मिला तो कभी उन्हें पत्नी के खराब स्वास्थ्य के चलते पैरोल पर छोड़ा गया. उन्हें कई बार फर्लो पर भी रिहाई दी गई. इस दौरान वे पार्टियों में झूमते हुए भी पाये गये. मई 2013 से मई 2014 के दौरान संजय दत्त कुल 118 दिन जेल से बाहर रहे और अपनी सजा के शुरुआती दो सालों में उन्होंने पांच महीनों से ज्यादा समय जेल से बाहर ही बिताया. 

संजय दत्त को 1993 बम धमाकों के मामले में पांच साल की जेल हुई थी. उन्हें AK-56 राइफल रखने के लिए आर्म्स एक्ट के तहत दोषी पाया गया था. उन्होंने अपनी सजा महाराष्ट्र के यरवाडा सेंट्रल जेल में काटी. जहां से उन्हें फरवरी 2016 में अच्छे व्यवहार के कारण जल्द रिहा कर दिया गया था.

सोमवार को कोर्ट में क्या हुआ?
जस्टिस आरएम सावंत और साधना जाधव की बेंच ने सरकार से इस संबंध में एक हलफानामे की मांग की. इसमें पूछा गया कि संजय दत्त को रिहा करने से पहले कौन सी प्रक्रिया और पैरामीटर फॉलो किया गया, इसकी विस्तृत जानकारी दी जाए.

बेंच ने पूछा- क्या पुलिस इंसपेक्टर जनरल (जेल) से सलाह ली गई थी या जेल सुप्रीडेंट ने सीधे गवर्नर को सुझाव भेज दिए थे? कैसे ऑथरिटी ने संजय दत्त के अच्छे व्यवहार का फैसला कर लिया. सरकार को यह समझने का आखिर मौका कब मिल गया जब संजय दत्त ज्यादातर वक्त पैरोल पर जेल से बाहर ही रहे. हाईकोर्ट में संजय दत्त की रिहाई को लेकर जारी एक जनहित याचिका पर सुनवाई हो रही थी.

संजय दत्त को कब-कब मिला पैरोल?
अक्टूबर 2013 को संजय दत्त को पौरोल मिला था. उसे 14 दिन और बढ़ा दिया गया था. दिसंबर 2013 में उन्हें 30 दिन का पौरोल दिया गया था, जिसे दो बार बढ़ाया गया. एक्टर की बहन इसके लिए गारंटर थीं. जब से उनकी सजा शुरू हुई थी तब से उन्होंने जेल से बाहर 146 दिन बिताए थे?

You May Also Like

English News