अभी-अभी: पटना यूनिवर्सिटी में PM मोदी ने दिया बड़ा बयान, कहा- सरस्वती के साथ लक्ष्मी की कृपा भी जरूरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पटना यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में पहुंचे। वहां नीतीश कुमार ने यूनिवर्सिटी को सेंट्रल करने की मांग उठाई। इसके बाद भाषण देते हुए मोदी ने बिहार और पटना यूनिवर्सिटी की तारीफ की।अभी-अभी: पटना यूनिवर्सिटी में PM मोदी ने दिया बड़ा बयान, कहा- सरस्वती के साथ लक्ष्मी की कृपा भी जरूरीBreaking: UPTET परीक्षा में सेंधमारी की फिराक में लगे दो जालसाज एसटीएफ के हत्थे चढ़े!

-मोदी ने कहा कि हर राज्य में सिविल सर्विस के ज्यादातर सीनियर अधिकारी पटना यूनिवर्सिटी से पढ़े हैं। 

-मोदी ने कहा कि बिहार के पास सरस्वती की कृपा है, लेकिन अब वक्त बदल गया है और अब लक्ष्मी की कृपा की भी जरूरत है।

-चीन की एक कहावत सुनाते हुए मोदी ने कहा अगर आप सालभर का सोचते हैं तो अनाज बोइए, दस-बीस साल का सोचते हैं फलों का काम कीजिए और पीढ़ियों का सोचते हैं तो मनुष्य को बोइए।

-मोदी ने कहा कि गंगा धारा की तरह बिहार पुरानी विरासत का मालिक है। मोदी ने बिहार की तारीफ करते हुए कहा कि राज्य के पास ज्ञान और गंगा दोनों है।

-मोदी बोले नीतीश जी ने बताया कि मैं देश का पहला मुख्यमंत्री हूं जो पटना यूनिवर्सिटी के कार्यक्रम में शामिल हो रहा हूं। पिछले लोग मेरे लिए कई काम छोड़कर करके गए हैं।

-नीतीश ने कांग्रेस नेता अशोक चौधरी पर चुटकी लेते हुए कहा कि मुझे हमारे पूर्व शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी यहां दिख रहे हैं, आशा करता हूं कि उनको पार्टी से निकाला नहीं जाएगा।

-सबसे पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भाषण दिया। नीतीश ने यूनिवर्सिटी का दर्जा बढ़ाकर उसको केंद्रीय करने की मांग उठाई।  

इससे पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उनका स्वागत करने के लिए एयरपोर्ट पहुंचे थे। पीएम मोदी के दौरे के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। इससे पहले शुक्रवार की देर शाम पटना पुलिस ने एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया।

यूनिवर्सिटी प्रशासन की ओर से मिली शिकायत के आधार पर पीरबहोर थाने की पुलिस टीम ने पीयू (पटना यूनिवर्सिटी) के दो छात्र नेताओं को अपने हिरासत में ले लिया है। इसमें राजद के छात्र नेता राहुल यादव और एनएसयूआई के प्रभात कुमार शामिल हैं। दोनों को पुलिस टीम अपने साथ पीरबहोर थाने ले आई है। करेंगे कई परियोजनाओं का शिलान्यास
पीएम मोदी अपने इस दौरे के दौरान बिहार में चार जलमल निकासी परियोजनाओं और चार राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे। जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्रालय ने बताया है कि चार जलमल निकासी परियोजनाओं की लागत 738 करोड़ रुपये और चार राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं की लागत 3031 करोड़ रुपये है।

इन सभी परियोजनाओं का शिलान्यास कार्यक्रम मोकामा में होगा जहां प्रधानमंत्री के अलावा केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी मौजूद रहेंगे। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री के शामिल होने के कारण यह कार्यक्रम राजनीतिक रूप से काफी विवादित हो चुका है। कॉलेज के पुरान छात्र रहे राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद और स्थानीय सांसद शत्रुघ्न सिन्हा को आमंत्रण नहीं दिया गया है।

You May Also Like

English News