अभी-अभी: मोदी सरकार का ये बड़ा फैसला, सिंधु घाटी का वजूद खत्म करने की तैयारी

हरियाणा सरकार ने गुड़गांव का नाम बदलकर गुरुग्राम कर दिया था। और अब खबर आ रही है कि हरियाणा की बीजेपी सरकार विश्व की प्राचीनतम मानव सभ्यता यानी कि सिंधु घाटी सभ्यता का नाम बदलने की तैयारी कर रही है।

अभी-अभी: मोदी सरकार का ये बड़ा फैसला, सिंधु घाटी का वजूद खत्म करने की तैयारी

अभी-अभी: आज रात से पूरे देश में शराब होगी बंद! जानिए क्या है इसकी सच्चाई!

हरियाणा सरकार की संस्था हरियाणा सरस्वती हेरिटेज डेवलपमेंट बोर्ड (HSHDB) का मानना है कि चूंकि अब सरस्वती नदी का अस्तित्व दुनिया को पता चल चुका है, इसलिए अब सिंधु घाटी सभ्यता का नाम बदलकर सरस्वती नदी सभ्यता रखा जाना चाहिए।

अगर आप भी पीते हैं कोल्ड ड्रिंक तो जरुर पढ़ें ये खबर

HSHDB अब इससे जुड़ी एक सिफारिश सरकार को भेजने वाली है। इस बोर्ड के चेयरमैन मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर खुद हैं। इससे पहले हरियाणा सरकार ने दिल्ली/एनसीआर के मशहूर शहर गुड़गांव का नाम बदलकर गुरुग्राम रख दिया था।

हरियाणा सरकार ने इसी साल कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में सरस्वती महोत्सव का आयोजन किया था, इसमें सरस्वती नदी की एतिहासिकता पर चर्चा करने के लिए देश विदेश से पुरातत्ववेता, इतिहासकार और प्रोफेसर आए थे। इस सफल आयोजन के बाद ही सिंधु घाटी सभ्यता का नाम बदलने का मन बनाया गया।

इससे सात महीने पहले हरियाणा सरकार ने दावा किया था कि पुरातात्विक खुदाई में सरस्वती नदी के अस्तित्व का पता चल चुका है, और सरकार ने खुदाई के स्थल पर पानी भी छोड़ कर नदी की धारा को पहचानने का काम किया था।

बोर्ड के मुताबिक जब राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय एक्सपर्ट ये मान चुके हैं कि सरस्वती नदी एक कल्पित कथा नहीं है, और इसका वजूद एक वास्तविकता है तो हमारे देश में इसका नाम सिंधु घाटी सभ्यता से बदलकर सरस्वती नदी सभ्यता रखा जाना चाहिए।

HSHDB के डिप्टी चेयरमैन प्रशांत भारद्वाज ने कहा कि, “अब किसी को भी सरस्वती नदी को कपोल कथा नहीं कहनी चाहिए क्योंकि इसका वजूद अब प्रमाणित हो चुका है”। प्रशांत भारद्वाज के मुताबिक सरस्वती नदी को अब धार्मिक कथा के तौर पर भी पेश नहीं करना चाहिए, क्योंकि ऐसा कहकर अब अपनी सभ्यता और विरासत को खुद कम आंकते हैं।

You May Also Like

English News