अभी-अभी : यूपी एटीएस ने फर्जी पासपोर्ट बनाने वाले 6 एजेंटों को किया गिरफ्तार !

लखनऊ : अनपढ़ लोगों के फर्जी दस्तावेज बनवा कर उनका पासपोर्ट बनवाने वाले एक गैंग का पर्दाफाश करते हुए यूपी एटीएस ने 6 पासपोर्ट दलालों को सोमवार को गिरफ्तार किया। आरोपियों के पास से 73 पासपोर्ट, लैपटाप, कम्प्यूटर, प्रिंटर व अन्य दस्तावेज मिले। इस मामले में कुछ कर्मचारियों की भी भूमिका संदिग्ध मिली है, फिलहाल एटीएस उनकी जांच कर रही है।

 


एटीएस के आईजी असीम अरूण ने बताया कि कुछ देश जैसे हैं जहां पर नौकरी के लिए पढ़े-लिखे लोगों को एमीग्रेशन चेक की जरूरत नहीं पड़ी है। वहीं अनपढ़ लोगों को इन देशों में नौकरी के लिए एमीगे्रश चेक की आवश्यकता होती है। इसी एमीग्रेशन चेक से बचने के लिए अक्सर अनपढ़ लोग पासपोर्ट दलालों की मदद से फर्जी शैक्षिक प्रमाण पत्र बनाकर वह पासपोर्ट हासिल कर लेते हैं, जो पासपोर्ट शिक्षित लोगों को जारी किया जाता है। इस गोरखधंधे के बारे में यूपी एटीएस को कुछ अहम जानकारी मिली थी। इन सूचनाओं पर यूपी एटीएस ने काम करना शुरू किया तो पता चला कि लखनऊ पासपोर्ट दफ्तर के कुछ कर्मचारी रुपये लेकर दलालों की मदद से फर्जीवाड़ा कर रहे हैं।

इस मामले में यूपी एटीएस ने छापेमारी करते हुए 6 जालसाजों को गिरफ्तार किया। एटीएस ने उनके पास से 73 लोगों के पासपोर्ट, लैपटाप, कम्प्यूटर, प्रिंटर व भारी मात्रा में दस्तावेज बरामद किये। इस बारे में यूपी एटीएस के आईजी असीम अरूण का कहना है कि इस मामले में पासपोर्ट दफ्तर के कुछ कर्मचारियों की भूमिका संदिग्ध मिली है। फिलहाल रिपोर्ट दर्ज कर ली गयी है और विवेचना की जा रही है। विवचेना के बाद ही उनके खिलाफ आगे की कार्रवाई की जायेगी। उनका कहना है कि इस तरह फर्जी पासपोर्ट बनवाने राष्टï्रीय सुरक्षा को भी प्रभावति कर सकता है।
यह लोग हुए गिरफ्तार
एटीएस के हत्थे चढ़े लोगों ने चौक निवासी मोहम्मद मारुफ, कैसरबाग निवासी मोहम्मद फैसल, अमीनाबाद निवासी मोहम्मद जावेद, अमीनाबाद निवासी अरमान खान, एलडीए कालोनी निवासी कुलविंदर सिंह और हुसैनगंज निवासी मोहम्मद शोएब शामिल हैं।
इन देशों में एमीग्रेश चेक की पड़ती है आवश्यकता
अनपढ़ लोगों को नौकरी के लिए जाने के लिए ब्रूनेई, कुवैत, जार्डन, लिबया, ओमान, कतर, सऊदी अरब, यूएअई और अन्य कुछ देश हंै जहां एमीग्रेशन चेक की जरूरत पड़ती है। वहीं शिक्षित लोगों के पासपोर्ट पर एमीगे्रश चेक की जरुरत नहीं पड़ती है। इसी एमीग्रेशन चेक से बचने के लिए दलाल अनपढ़ लोगों की हाईस्कूल की फर्जी मार्कशीट बनाकर वह पासपोर्ट बनाकर दे देते हैं जिसने एमीग्रेश चेक नाट रिक्वायर्ड होता है।

You May Also Like

English News