अभी-अभी: सामने आया एक और बैंक घोटाला, इस कंपनी ने किया 10 बैंकों में 500 करोड़ का फ्रॉड

नीरव मोदी, मेहुल चौकसी का पंजाब नेशनल बैंक में 126 अरब का महाघोटाला उजागर होने के बाद देश भर में ऐसे कई बड़े डिफॉल्टर के नाम सामने आने लगे हैं, जो पिछले कई सालों से बैंकों को चूना लगा रहे थे। अब विक्रम कोठारी, सेठ दामोदरदास अग्रवाल के बाद केंद्रीय जांच ब्यूरो सीबीआई ने एक और कंपनी पर 500 करोड़ रुपये का घोटाला करने का केस दर्ज किया है।अभी-अभी: सामने आया एक और बैंक घोटाला, इस कंपनी ने किया 10 बैंकों में 500 करोड़ का फ्रॉड 10 बैंकों को लगाया चूना
कोलकाता की कंपनी आरपी इन्फो सिस्टम जो कि चीराग ब्रांड से कंप्यूटर बनाती है, उसने 10 बैंकों को करीब 500 करोड़ रुपये से ज्यादा का चूना लगाया है। सीबीआई ने केनरा बैंक सहित 10 बैंकों के कंशोर्सियम की शिकायत पर मामला दर्ज किया है।

केनरा बैंक ने अपनी शिकायत में कहा है कि कंपनी के डायरेक्टर्स ने जाली स्टॉक और फर्जी स्टेटमेंट के आधार पर बैंक से लोन लिया और उसके बाद डिफॉल्ट कर गया। 

2013 में आईडीबीआई ने किया था केस

कंपनी के खिलाफ सबसे पहले आईडीबीआई बैंक ने 2013 में सीबीआई के पास 180 करोड़ रुपये का घोटाला करने की शिकायत दर्ज की थी। इसके बाद केनरा बैंक ने 2015 में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया में फ्रॉड करने की शिकायत दर्ज की थी। 

डायरेक्टर की थी ममता बनर्जी से नजदीकी
इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, कंपनी के तीन डायरेक्टरों में से एक शीबाजी पांजा की पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की काफी नजदीकी थी। पांजा एक बार मुख्यमंत्री के सरकारी ढाका यात्रा पर भी उनके साथ नॉन-ऑफिशियल डेलीगेट बनकर के गया था।

लेकिन ममता ने शिकायत मिलने के बाद पांजा से दूरी बना ली थी। पांजा को एक बार दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा द्वारा लुकआउट नोटिस जारी करने के बाद पश्चिम बंगाल पुलिस ने गिरफ्तार भी किया था। पांजा के अलावा कंपनी के अन्य डायरेक्टर्स कौस्तुव रे, विनय बाफना और वाइस प्रेसीडेंट देबनाथ पाल के खिलाफ भी सीबीआई ने केस दर्ज किया है।   

You May Also Like

English News