अभी-अभी: हनीप्रीत की इस हरकत से भड़के, पंचकूला के SP चावला दिया बड़ा बयान..!

हनीप्रीत के रिमांड का दूसरा दिन है, लेकिन वह जांच में सहयोग नहीं कर रही। वह लगातार गुमराह कर रही, ये कहना है पंचकूला एसपी एएस चावला का। उन्होंने शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस करके कई बातों का खुलासा हुआ।अभी-अभी: हनीप्रीत की इस हरकत से भड़के, पंचकूला के SP चावला दिया बड़ा बयान..!
पुलिस कमिश्नर ने कहा कि अगर रिमांड के दौरान हनीप्रीत ने पूछताछ में सहयोग नहीं किया तो पुलिस रिमांड की अवधि और बढ़ाने के लिए अदालत में अपना पक्ष रखेगी। बठिंडा में जहां हनीप्रीत रह रही थी,वहां से सिम कार्ड की बरामदगी और इंटरनेशनल कॉल्स के बारे में पुलिस आयुक्त ने कहा कि इस बारे में जानकारी मिली है, जिसकी छानबीन की जा रही है।

बठिंडा में हनीप्रीत को लेकर गई पुलिस टीम को वहां से कुछ और अहम जानकारियां मिली हैं, जिसकी छानबीन की जा रही है। कमिश्नर ने बताया कि आदित्य इंसां देश में ही है और उसको पकड़ने के लिए छापेमारी की जा रही है। ये सच है कि हनीप्रीत ने हिंसा के लिए पैसा बांटने की बात कही है। अगर ऐसा है तो किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा।

हनीप्रीत और सुखदीप कौर को लेकर बठिंडा पहुंची एसआईटी

विशेष जांच टीम वीरवार को हनीप्रीत और सुखदीप कौर को लेकर बठिंडा पहुंची। एसआईटी की अगुवाई पंचकूला पुलिस के डीएसपी मुकेश कुमार कर रहे थे। मौके पर जिला मजिस्ट्रेट सुखबीर सिंह बराड़ की ड्यूटी भी लगाई गई थी।

सबसे पहले टीम दोनों को सदर थाना रामपुरा ले गई, वहां पर करीब डेढ़ घंटे तक रुकी। सुखदीप कौर की निशानदेही पर टीम शहर के आर्य नगर स्थित उस मकान में गई, जहां पर हनीप्रीत सुखदीप के साथ काफी दिनों तक रुकी थी। यहां लोगों और डेरा समर्थकों का जमावड़ा लगा रहा। तहसीलदार सुखबीर सिंह बराड़ के अनुसार हनीप्रीत ने एसआईटी को बताया कि वह 25 दिनों तक उक्त मकान में रही है।

इसके अलावा उनको कोई अन्य जानकारी नहीं है। वहीं इस बारे में डीएसपी मुकेश कुमार ने मीडिया से बात करने से इंकार कर दिया। पता चला है कि एसआईटी ने उक्त मकान से तीन मोबाइल सिम बरामद किए हैं, उनसे हनीप्रीत ने विदेशों में ही कॉल की है। इसकी डिटेल पहले से ही एसआईटी ने हासिल कर ली थी।

पंचकूला के डीएसपी मुकेश कुमार ने बताया कि जांच में अगर कोई भी बड़ा व्यक्ति मामले से जुड़ा पाया जाता है तो उससे भी पूछताछ की जाएगी। करीब दो घंटे तक उक्त मकान में रुकने के बाद हरियाणा पुलिस की टीम हनीप्रीत और सुखदीप को लेकर वापस रवाना हो गई।

सुखदीप के रिश्तेदार फार्मासिस्ट का मकान

आर्य नगर स्थित मकान सुखदीप के करीबी रिश्तेदार फार्मासिस्ट नैब सिंह का है। वह केंद्रीय जेल बठिंडा में तैनात है। यह भी पता चला कि उक्त मकान को डेरे के नाम करवा दिया था। मकान हनीप्रीत के आने से पहले खंडहर बना हुआ था, लेकिन जैसे ही उसके ठहरने का बंदोबस्त होना शुरू हुआ तो मकान को रंग रोगन करवा दिया गया। साथ ही बाकी सुविधाएं भी उपलब्ध करवाई गईं। ग्रामीणों के अनुसार 1980 के दौरान शाह सतनाम भी इस घर में रुक चुके हैं।

कांग्रेस नेता बोले, मेरा हनीप्रीत से कोई संबंध नहीं
राम रहीम के समधी कांग्रेस नेता हरमंदर सिंह जस्सी का कहना था कि पहले हरियाणा पुलिस को जाने दो उसके बाद मैं बठिंडा आऊंगा। हनी को छिपाकर रखने के आरोपों को खारिज करते हुए उन्होंने कहा कि हनीप्रीत से मेरा कोई संबंध नहीं है। मुझे तो मीडिया डेरा मुखी का रिश्तेदार होने के चलते इस मामले में शामिल कर रही है।

जस्सी ने कहा कि वे 25 अगस्त के बाद अपनी बेटी से मिलने के लिए गुरुसर मोडिया गए थे, लेकिन कुछ टीवी चैनलों ने उन्हें गलत तरीके से पेश कर दिया। पता चला है कि जस्सी ने एक हफ्ते पहले ही बठिंडा में अपना मकान किराए पर दे दिया है और खुद परिवार समेत चंडीगढ़ शिफ्ट हो गए हैं।

जस्सी का नाम आया तो होगी पूछताछ
हरियाणा पुलिस के डीएसपी मुकेश कुमार का कहना था कि उक्त मामले की जांच गहराई से चल रही है। अगर हनीप्रीत और सुखदीप से पूछताछ के दौरान कांग्रेस नेता हरमंदर सिंह जस्सी का नाम सामने आता है, तो उनसे भी गहराई से पूछताछ की जाएगी।

 

You May Also Like

English News