अभी-अभी: 700 साल बाद आया पद्मिनी का वंशज, और किये बड़े खुलासे…

‘पद्मावती’ का विरोध कर रहे करणी सेना के चीफ लोकेंद्र सिंह ने खुद को पद्मावती की 37वीं पीढ़ी का वंशज बताया है. उन्होंने कहा, ‘सेंसर बोर्ड को कोई अधिकार नहीं कि वह ऐसी फिल्म को पास करे जिसमें लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ किया गया है. हमें कब तक इन सब चीजों को सहन करना होगा. यह कहा जा रहा है कि कोई पद्मावती नहीं थी. अगर ऐसा है तो मैं कहां से आया? मैं पद्मावती की 37वीं पीढ़ी का वंशज हूं.’अभी-अभी: 700 साल बाद आया पद्मिनी का वंशज, और किये बड़े खुलासे...…तो क्या ये सुपरस्टार थे एक्ट्रेस रेखा के पिता, जिन्होंने कभी नहीं दिया अपना नाम.?

उन्होंने आगे कहा, ‘किसी भी हालत में पद्मावती को रिलीज नहीं किया जा सकता.’ दीपिका राष्ट्रपति हैं या प्रधानमंत्री? हमने 1 दिसंबर को पद्मावती के विरोध में भारत बंद का ऐलान किया है.

आपको बता दें कि करणी सेना का निर्माण साल 2006 में हुआ था. इसके फाउंडर लोकेंद्र सिंह ही हैं. जयपुर में उन्होंने दीपिका पादुकोण पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा, एक्ट्रेस का कथित बयान भड़काऊ है, जिसमें उन्होंने कहा है कि फिल्म रिलीज होने से कोई नहीं रोक सकता. उनका बयान उकसाने वाला है और मैं इसे चुनौती के रूप में लेता हूं. इसलिए मैंने राष्ट्रव्यापी बंद बुलाया है. उन्होंने धमकी भरे के लहजे में कहा, ये जौहर की ज्वाला है. रोकना है तो पद्मिनी को रोक लो. करणी सेना ने धमकी दी थी कि जिस सिनेमाघर में यह फिल्म लगेगी, उसे जला दिया जाएगा. 

यह फिल्म 700 साल पहले की एक कहानी पर बन रही है. हिंदी कवि मालिक मोहम्मद जायसी ने पद्मावत लिखी थी. इसमें रानी पद्मिनी और खिलजी का जिक्र है. कुछ लोग गल्प मानते हैं तो वहीं कई लोग इसे ऐतिहासिक कहानी बताते हैं. कहा जाता है कि खिलजी रानी पद्मिनी को लेकर आशक्त था. उसने मेवाड़ पर हमला कर दिया था. रानी पद्मिनी ने 16 हजार राजपूत महिलाओं के साथ जौहर कर लिया था.

दीपिका नाचने वाली, जला देंगे सिनेमाघर : लोकेंद्र सिंह ने कहा था, ‘दीपिका पादुकोण एक नाचने वाली है. फिल्म में राजपूत रानी की गलत छवि पेश की गई है. अगर फिल्म रिलीज हुई तो हम सिनेमाघर जला देंगे.’ ‘हम यह फिल्म नहीं देखना चाहते. किसने कहा कि हमें ये फिल्म देखनी है. भंसाली ने 3 मिनट का ट्रेलर जारी किया है. क्या हिंदुस्तान उसके बाप का है. हम ईंट का जवाब पत्थर से देंगे. हम हमारी जान दे देंगे.’ उन्होंने कहा, जब तक फिल्म पूरी तरह से बैन नहीं हो जाती हम अपना विरोध जारी रखेंगे. यह हमारे राजपूत समाज की बेइज्जती है. इस फिल्म को दिखाने की कोई जरूरत नहीं है.’

You May Also Like

English News