अभी-अभी: CM वीरभद्र स‌िंह को लगा बड़ा झटका, मनी लांड्रिंग मामले में ED ने अटैच की 5.6 करोड़ की संपत्ति

विधानसभा चुनाव की घोषणा के तुरंत बाद मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से जुड़े मनी लांड्रिंग मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बड़ी कार्रवाई की है। ईडी ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री से संबंधित इस मामले में 5.6 करोड़ की संपत्ति अटैच की है।अभी-अभी: CM वीरभद्र स‌िंह को लगा बड़ा झटका, मनी लांड्रिंग मामले में ED ने अटैच की 5.6 करोड़ की संपत्ति#बड़ा खुलासा: कुछ इस तरह से डेरा की चेयरपर्सन विपासना ने खोले हनीप्रीत का असली राज..

अब तक इस मामले कुल चालीस करोड़ की संपत्ति ईडी अटैच कर चुकी है। ईडी ने वीरभद्र सिंह पर की कार्रवाई का ट्वीट भी किया है। अब चुनाव से ठीक पहले मुख्यमंत्री की और संपत्ति अटैच होने से सियासी हलचल तेज होगी। 

ईडी पहले कर चुकी है ये कार्रवाई 

ईडी मुख्यमंत्री और उनके परिवार के खिलाफ कथित धनशोधन (मनी लांड्रिंग) से जुड़े मामले की जांच कर रहा है। इससे पहले जांच एजेंसी धनशोधन निरोधक अधिनियम (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत वीरभद्र सिंह के फार्महाउस को अटैच कर चुकी है। 

इसका बाजार मूल्य 27.29 करोड़ रुपये है। हालांकि फार्म हाउस की खरीद पर 1.20 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं, जिसका भुगतान दो चैकों के माध्यम से किया गया है। जांच में ईडी को पता चला कि इसके  रजिस्ट्री में अंकित राशि के अलावा 5.41 करोड़ रुपये का भुगतान भी किया गया है। 

ये धनराशि जलविद्युत परियोजना निर्माण करने वाले कंपनी, जिसके निदेशक वाकामुल्ला चंद्रशेखर ने दी है। वाकामुल्ला ने कुल 5.90 करोड़ रुपये का भुगतान सीएम और उनके परिवार को किया है।

ये हैं फार्महाउस के बड़े शेयर होल्डर 

जांच एजेंसी के अनुसार फार्महाउस मेसर्स मेपल डेस्टिनेशन व ड्रीमबिल्ड प्राइवेट लिमिटेड के नाम पर है। सीएम के बेटे विक्रमादित्य कंपनी में बड़े शेयर होल्डर हैं। बेटी अपराजिता भी शेयर होल्डर है। दोनों का नाम फर्म के निदेशकों के तौर पर दर्ज है।

मार्च में दक्षिणी दिल्ली में महरौली के पास डेरा मंडी इलाके में यह संपत्ति कुर्क की थी। 4 सितंबर को ईडी ने अर्जित संपत्तियों की कुर्की के लिए फैसले पर विशेष अदालत में गई थी। विशेष अदालत ने ईडी के उस आदेश की पुष्टि की है, जिसमें वीरभद्र के फार्म हाउस की कुर्की की बात है।

You May Also Like

English News