अभी-अभी: IDBI में 445 करोड़ का घोटाला आया सामने, CBI ने दर्ज किया मामला

केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआई) ने बैंक घोटाले के एक अन्य मामले में शुक्रवार (23 मार्च) को आईडीबीआई के महाप्रबंधक सहित 31 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. आईडीबीआई बैंक द्वारा शिकायत दर्ज कराने के बाद महाप्रबंधक बट्टू रामा राव, पूर्व मुख्य महाप्रबंधक आर. दामोदरन, 21 एग्रेगेटर समूहों और बैंक कर्मियों पर फर्जी दस्तावेजों से किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) तथा मछली पालन ऋण के तहत 445.32 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी करने का आरोप है. बैंक ने पिछले साल 14 दिसंबर को मामला दर्ज करते हुए कहा था कि उसने राव को बर्खास्त कर दिया है.अभी-अभी: IDBI में 445 करोड़ का घोटाला आया सामने, CBI ने दर्ज किया मामला

बैंक ने आरोप लगाया कि आईडीबीआई की हैदराबाद के बशीराबाद शाखा में कार्यरत राव तथा चेन्नई शाखा में दामोदरन तथा बैंक कर्मियों की मिलीभगत से 21 एग्रेगेटर समूहों के लगभग 220 कर्जदारों ने केसीसी तथा मछली पालन पर उपलब्ध ऋण व अन्य ऋण सुविधाओं के तहत आईडीबीआई की विभिन्न शाखाओं से जारी करा लिया था. यह ऋण साल 2009-08, 2010-11 और 2011-12 के दौरान जारी किए गए.

बैंक के अनुसार 21 दलों द्वारा फर्जी दस्तावेजों तथा दिखाई गई सम्पत्ति से अधिक के मान पर कुल 192.98 करोड़ रुपए का ऋण लिया गया. बैंक ने अलग-अलग ऋण को विभिन्न तारीखों पर डूबा हुआ कर्ज (एनपीए) घोषित कर दिया. बैंक की शिकायत के अनुसार 30 सितंबर, 2017 तक 220 कर्जदारों पर कुल कर्ज 445.32 करोड़ रुपए था.

प्राथमिकी में दर्ज अन्य व्यक्तियों में आदिलक्ष्मी समूह के एम.एल. राव, एस. सुधाकर समूह के समयमंथूला सुधाकर, एन.वी. सुब्बा राजू समूह से नदीमपल्ली वेंकट, सुब्बा राजू, के.एस.वी. प्रसाद राजू, नदीमपल्ली रामा राजू, टी.सी. वेंकटेश्वर राव, पी.एस. चौधरी और बी.सी. रेड्डी व अन्य लोग हैं. सीबीआई ने बैंक समिति के सात सदस्यों पर भी आपराधिक षड्यंत्र रचने, धोखाधड़ी, जालसाजी और आपराधिक कृत्य करने का मामला दर्ज किया है.

 

You May Also Like

English News