अमरनाथ यात्रा: पूर्ण आकार में प्रकट हुए बाबा बर्फानी, 29 जून से शुरू होंगे दर्शन

वर्ष 2017 की पवित्र बाबा श्री अमरनाथ यात्रा को शुरू होने में अभी करीब एक महीने का समय बाकी है, लेकिन उससे पहले यात्रा मार्ग और पवित्र गुफा का वीडियो सामने आया है। वीडियो में यात्रा ट्रैक पर बर्फ की चादर बिछी दिख रही है और पवित्र गुफा में प्रकृतिक रूप से बने हिम शिवलिंग भी पूरे आकार में विराजमान है।अमरनाथ यात्रा: पूर्ण आकार में प्रकट हुए बाबा बर्फानी, 29 जून से शुरू होंगे दर्शन
 अभी अभी: Pm मोदी की संपत्तिक को लेकर हुआ बड़ा खुलासा, जानकर आम जनता को लगा बड़ा झटका….पढिये रिपोर्ट
वहीं पहलगाम डेवलपमेंट अथॉरिटी (पीडीए) का कहना है कि यात्रा मार्ग से बर्फ हटाने का काम शुरू कर दिया गया है और 10 जून तक यात्रा मार्ग से पूरी तरह जल्द बर्फ हटा दी जाएगी। बाबा श्री अमरनाथ  की वार्षिक यात्रा शुरू होने से पूर्व सामने आए वीडियो में साफ देखने को मिल रहा है कि पहलगाम से पवित्र गुफा तक के रास्ते पर अभी करीब 5 फुट तक बर्फ जमा है और कई जगहों पर तो हिमस्खलन के चलते 10 से 12 फुट बर्फ जमा है, जिससे कई जगह यात्रा मार्ग को भी नुकसान पहुंचा है।

वीडियो में साफ दिख रहा है कि बाबा बर्फानी, माता पार्वती और पुत्र गणेश पूरे आकार में अपने भक्तों को दर्शन देने के लिए पवित्र गुफा में विराजमान हुए हैं। जिस तरह से इस वर्ष बर्फबारी हुई है, उससे यह भी उम्मीद लगाई जा रही है कि इस बार काफी समय तक बाबा बर्फानी भक्तों को दर्शन देने के लिए पवित्र गुफा में बने रहेंगे। इससे भक्तों को निराशा का सामना नहीं करना पड़ेगा।

5 लाख से ज्यादा लोगों के दर्शन को आने की संभावना
पहलगाम डेवलपमेंट अथॉरिटी (पीडीए) के सीईओ मुश्ताक अहमद सिमनानी ने बताया कि पहलगाम का जो पारंपरिक 32 किलोमीटर का रास्ता है, उसमें पहलगाम से पवित्र गुफा तक के रास्ते को क्लीयर करने की जिम्मेदारी उनकी है। उन्होंने बताया कि इस यात्रा मार्ग को दोबारा से ठीक करने का काम 20 मई से शुरू कर दिया गया है, ताकि यात्रा सुचारु ढंग से संचालित कराई जा सके। इसमें बर्फ हटाने, हिमस्खलन को क्लीयर करने, लकड़ी के पुल ठीक करने के अलावा अन्य कई कार्य किए जा रहे हैं।
सीईओ ने उम्मीद जताई कि 29 जून से शुरू होने वाली इस वर्ष की यात्रा के लिए 10 जून तक वह यात्रा मार्ग को पूरी तरह से क्लीयर कर पाएंगे और इस समय भी पीडीए के मजदूर लगे हुए हैं। उन्होंने बताया कि हमारे दल ने यात्रा मार्ग की रेकी कर उसकी रिपोर्ट हमें सौंपी है।
उन्होंने यह भी बताया कि यात्रा मार्ग पर करीब 44 जगहों पर भारी हिमस्खलन हुआ है और कई जगहों पर ट्रैक को भी नुकसान पहुंचा है। सीईओ ने यह भी कहा कि हुमें उम्मीद है कि जल्द मार्ग क्लीयर किया जाएगा और आश्वासन दिलाया कि इस बार ट्रैक में भी सुधार लाया जाएगा। गौरतलब है की पीडीए के सीईओ ने यह भी उम्मीद जताई है कि जो साढ़े पांच लाख यात्रियों का यात्रा में शामिल होने का रिकॉर्ड 2010 में बना था, वह इस वर्ष टूटेगा।  

You May Also Like

English News