अमित शाह की रैली पर ‘सियासत’ हावी, सर्द मौसम में चढ़ा राजनीतिक पारा

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की जींद रैली ने हरियाणा के सर्द मौसम में सियासी गर्मी बढ़ा दी है। दौरे को लेकर भाजपा और विपक्षी दलों में जुबानी जंग तो पहले ही शुरू हो गई थी, लेकिन अब यह निजी हो चुकी है। रैली पर तो सियायत हावी ही है, नेता एक-दूसरे पर टिप्पणियों से भी गुरेज नहीं कर रहे। अमित शाह की रैली पर 'सियासत' हावी, सर्द मौसम में चढ़ा राजनीतिक पारामंगलवार को यहां पहुंचे शरद यादव ने विशेष बातचीत में शाह के जींद दौरे को लेकर तीखा हमला बोला। यादव ने कहा कि शाह जींद में सूबे भर से मोटरसाइकिल बुलाकर रैली निकाल क्या दिखाना चाहते हैं। जिनकी केंद्र और हरियाणा में सरकारें हैं, वही रैलियां निकाल रहे हैं। ये हैरत भरा है।

इन्हें दफ्तर में बैठकर चुनाव के समय जनता से किए वादों को पूरा करने के लिए काम करना चाहिए। जनता सजग हो और देश निर्माण के लिए ऐसे ड्रामे करने वालों को वोट न दे। सीएम मनोहर लाल पर भी यादव बरसे। उन्होंने कहा कि सीएम भी संविधान से बाहर बोलते हैं। हरियाणा में सरकार नाम की चीज नहीं है। राम रहीम जैसे असामाजिक तत्वों का बोलबाला है। 

अमित शाह जहां जाते हैं, होते हैं दंगे: कांग्रेस

दूसरे राजनीतिक दल की रैली का विरोध अनुचित: सीएम
उधर, सीएम मनोहर लाल ने भी पलटवार में देर नहीं लगाई। जींद के लिए रवाना होने से पहले बोले कि रैली बिना किसी व्यवधान के आयोजित होगी। लोकतांत्रिक व्यवस्था में एक राजनीतिक दल का दूसरे राजनीतिक दल की रैली का विरोध किया जाना अनुचित है। यह एक घटिया और शर्मनाक कार्य है। 

अमित शाह जहां जाते हैं, होते हैं दंगे: कांग्रेस
कांग्रेस प्रदेश कोषाध्यक्ष तरुण भंडारी ने कहा है कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह जहां-जहां भी जब-जब गए उसके बाद दंगे हुए हैं। छह महीने पहले वह हरियाणा आए थे, उसके बाद पंचकूला जला। आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नवीन जयहिंद कहते हैं कि मोटर साइकिल रैली से ज्यादा शाह हरियाणा में प्रदूषण फैलाएंगे। वह पकौड़ा खाएं न कि हरियाणा का भाईचारा। छह सवाल दागते हुए नवीन ने कहा कि चुनावों के समय जनता से किए वादों का जवाब शाह साथ लेकर आएं।  

You May Also Like

English News