अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति ट्रंप बोले- दुनिया से मिटा देंगे कट्टर इस्लामिक आतंकवाद

दिग्गज रियल एस्टेट कारोबारी से राजनेता बने डोनांड ट्रंप ने सोमवार को अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति पद की शपथ ले ली। कैपिटॉल में आयोजित एक शानदार समारोह में शपथ लेने के बाद 70 वर्षीय ट्रंप ने अपने जोशीले भाषण में धरती से कट्टर इस्लामिक आतंकवाद खत्म करने, अमेरिकियों की नौकरी वापस लाने और अपनी सीमा की सुरक्षा सुनिश्चित करने का वादा किया। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि उनकी सरकार का मंत्र ‘अमेरिका फर्स्ट’ होगा और वह शक्तियां वाशिंगटन डीसी से जनता तक पहुंचाएंगे।

अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति ट्रंप बोले- दुनिया से मिटा देंगे कट्टर इस्लामिक आतंकवाद

 कैपिटॉल के नेशनल मॉल में आयोजित समारोह में उमड़ी करीब आठ लाख लोगों की भीड़ को संबोधित करते हुए ट्रंप ने कहा कि हम कट्टरपंथी इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ पुराने साथियों को फिर से जोड़ेंगे, नया गठजोड़ बनाएंगे और सभ्य समाज को एक साथ लाएंगे। उन्होंने दुनिया के देशों के साथ दोस्ती की बात की, लेकिन उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि अमेरिका यह बात अच्छी तरह समझता है कि सभी देशों की प्राथमिकता अपना राष्ट्र हित देखना होता है। दुनिया के सबसे ताकतवर शख्स बनने वाले ट्रंप ने आश्वस्त किया कि उनकी सरकार दूसरे देशों पर दबाव की कूटनीति नहीं अपनाएगी। उन्होंने कहा कि ‘अमेरिका फर्स्ट’ के सपने को फिर से जीवंत बनाने के लिए वह अमेरिका का पुनर्निर्माण करेंगे। जोश से भरपूर 16 मिनट के भाषण में ट्रंप ने कहा कि हम मिलकर आने वाले कई सालों के लिए अमेरिका और दुनिया का रुख तय करेंगे। हम चुनौतियों का समाना करेंगे, हम बाधाओं से टकराएंगे लेकिन काम को पूरा करके रहेंगे। 
उन्होंने कहा कि कई सालों से अमेरिकियों ने अमेरिकी उद्योग की कीमत पर विदेशी उद्योगों के फलने-फूलने में सहयोग किया। उन्होंने अपने चुनाव प्रचार के संदर्भ में कहा कि काफी लंबे समय से वाशिंगटन में एक छोटा सा समूह सरकारी मलाई खा रहा है, जबकि अमेरिकी नागरिक जिम्मेदारी उठाने के लिए पैदा हुए हैं। वाशिंगटन फल-फूल रहा है लेकिन इसकी संपत्ति में जनता को कुछ नहीं मिलता। राजनेता समृद्ध होते गए लेकिन नौकरियां कम होती गईं और फैक्ट्रियां बंद हो गईं। सत्ता खुद को बचाने में लगा रहा लेकिन उसने देश की जनता का परवाह नहीं किया। उनकी जीत आपकी जीत नहीं थी। उन्होंने राजधानी में उत्सव मनाया, लेकिन पूरे देश में संघर्ष कर रहे परिवारों के लिए उत्सव मनाने जैसा कुछ नहीं था। एक गैर राजनीतिक व्यक्ति से राष्ट्रपति चुने जाने का ट्रंप का सफर बेहद मजेदार रहा है। अपनी पार्टी की ओर से उम्मीदवार चुने जाने से लेकर राष्ट्रपति निर्वाचित होने तक विवादों में रहे ट्रंप ने अपनी प्रतिद्वंद्वी और कद्दावर नेता हिलेरी क्लिंटन को मात दी है। शपथ लेते हुए उन्होंने अपना बायां हाथ दो बाइबिल पर रखा हुआ था। इसमें से एक अब्राहम लिंकन की ऐतिहासिक बाइबिल थी, जबकि दूसरी उनकी मां ने उन्हें दी थी। उन्हें अमेरिका के प्रधान न्यायाधीश जस्टिस जॉन रॉबर्ट्स ने पद की शपथ दिलाई।
ओबामा ने लिखा लेटर
अमेरिका के 44वें राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने कार्यकाल के खत्म होने पर एक पत्र लिखकर सबको शुक्रिया अदा किया। ओबामा ने सभी अमेरिकियों का शुक्रिया अदा करते हुए कहा अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में मेरे 8 साल बेहद ही शानदार रहे, आप सभी लोग इस दौरान मेरे लिए अच्छाई, स्थिरता और ताकत के स्त्रोत थे। 
उन्होंने लोगों को अपनी प्रेरणा का स्त्रोत बताते हुए कहा ‘राष्ट्रपति के रूप में मैंने अपने कार्यकाल के में जो भी सिखा वो आप सभी लोगों से ही सिखा। आप ही ने मुझे बेहतर राष्ट्रपति और एक अच्छा इंसान बनाया।’इस प्रांत में महिलाओं को नही है नहाने की इजाजत, फिर भी हैं सबसे खूबसूरत

ओबामा ने अपने शासनकाल के दौरान आर्थिक संकट को याद करते हुए कहा कि हमने इस दौरान पड़ोसियों और अलग-अलग समुदायों को संकट के दौर में एक-दूसरे की मदद करते देखा। अपने कार्यकाल की उपल्बधियों को याद करते हुए ओबामा ने कहा हम लोगों को चिकित्सा सुविधा प्रदान कर उनकी जिंदगी में बदलाव लेकर आएं, हमने समलैंगिकों के विवाह को कानूनी मान्यता प्रदान की।

उन्होंने धीमी विकास गति पर ध्यान केंद्रित करते हुए कहा ‘आप सभी को याद रखना होगा कि हमारा देश किसी एक व्यक्ति की परियोजना पर अधारित नहीं है, हमारे लोकतंत्र में सबसे खास शब्द है ‘हम’ जो कि हमें मिलकर और साथ चलकर किसी भी संकट से उबारने में मदद करता है।’

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा

अमेरिका सुरक्षित पड़ोसी चाहता है।

एक नए विजन के साथ उनकी सरकार काम करेगी।

मैं आप लोगों को कभी झुकने नहीं दूंगा।

हम अपनी नौकरी दोबार पाएंगे।

हम ऐसा कर के दिखाएंगे।

 यह आपका समय है।

 मेरी सरकार पर आपका नियंत्रण होगा।

हम दूसरों की सीमा की सुरक्षित करेंगे, न कि अपनी।

 खाली समय अब खत्म हो गया है।

नए राष्ट्रीय सम्मान का समय आ गया है।

 हर रंग के लोग अमेरिकी हैं।

 हम धरती से कट्टर इस्लामिक आतंकवाद को मिटा देंगे।

 मैं बाय अमेरिकन और हायर अमेरिकन का अनुसरण करूंगा।

 ‘अमेरिका फर्स्ट’ नारे के साथ शपथ की शुरुआत की।

 हम वाशिंगटन डीसी को ताकत लौटा रहे हैं।

 डोनाल्ड ट्रंप दो बाइबिल लेकर पहुंचे थे। एक अब्राहम लिंकन की और दूसरी उनकी मां द्वारा दी गई।

ट्रंप के शपथ ग्रहण समारोह की हर 

जनवरी 2017 में इस देश के लोग फिर से देश की सरकार बने हैं। हर कोई आपको सुन रहा है। इस एतिहासिक पल को सभी देख रहे हैं।अमेरिका आपका देश है। हमारी सरकार लोगों की सरकार है।

बड़ी खबर: हिंदुओं के लिए राम मंदिर बनवा रहे हैं नवाज शरीफ

डोनाल्ड ट्रंप बने 45वें अमेरिकी राष्ट्रपति। शपथ लेने के बाद राष्ट्रपति ट्रंप ने पूर्व राष्ट्रपतियों और जनता को दिया धन्यवाद।

अमेरिकी उपराष्ट्रपति के तौर पर माइक पेंस ने शपथ ली।

ट्रंप के शपथ लेने से पहले अमेरिका का राष्ट्रगान गाया जा रहा है। 

बतौर राष्ट्रपति ट्रंप का पहला भाषण सुनने के लिए व्हाइट हाउस के बाहर तकरीबन 10 लाख लोग जमा हुए हैं।

शपथ ग्रहण समारोह में बराक ओबामा, मिशेल ओबामा, बिल क्लिंटन, हिलेरी क्लिंटन, जॉर्ज बुश भी शामिल हैं।

You May Also Like

English News