अमेरिका में अखबार के दफ्तर पर गोलीबारी में 5 की मौत, हमलावर का था अखबार से विवाद

अमेरिका के मैरीलैंड शहर में गोलीबार की सूचना है। जानकारी के मुताबिक, एक बंदूकधारी ने स्थानीय अखबार के ऑफिस पर हमला कर दिया। अब तक पांच लोगों के मारे जाने की सूचना है। कुछ लोग घायल हैं। पुलिस और सेना की टीम मौके पर पहुंच गई है।अमेरिका के मैरीलैंड शहर में गोलीबार की सूचना है। जानकारी के मुताबिक, एक बंदूकधारी ने स्थानीय अखबार के ऑफिस पर हमला कर दिया। अब तक पांच लोगों के मारे जाने की सूचना है। कुछ लोग घायल हैं। पुलिस और सेना की टीम मौके पर पहुंच गई है।  अधिकारियों के अनुसार, एक संदिग्ध व्यक्ति को हिरासत में लिया गया है। उसकी उम्र 40 साल के करीब है और वो मैरीलैंड का रहने वाला है। हमला कैपिटल गजट नामक लोकल अखबार पर हुआ है। हमले के समय वहां कई लोग मौजूद थे। आरोपी से पूछताछ की जा रही है। जिस बिल्डिंग पर हमला हुआ, वहां अन्य ऑफिस भी हैंं। करीब 170 कर्मचारियों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है।  38 वर्षीय हमलावर का नाम जरॉड रामॉस बताया जा रहा है। बताया जा रहा है कि आरोपी का लंबे वक्त से कैपिटल गैजेट के साथ विवाद चल रहा था। आरोपी जरॉड ने साल 2012 में कैपिटल गैजेट के खिलाफ मानहानि का मुकदमा भी दायर कराया था। जानकारी के मुताबिक, रामोस कैपिटल गैजेट में अपने खिलाफ खबर छापने से नाराज था।  रामोस ने जान से मारने की बात लिखी थी -   2012 में रामोस ने कैपिटल गैजेट में कॉलम लिखने वाले एरिक हार्टले पर मानहानि का केस दायर किया था। दरअसल, हार्टले ने अखबार में लिखा था कि रामोस ने एक महिला को फेसबुक पर अश्लील नामों से बुलाया और जान से मारने की धमकी दी। इस मामले में रामोस को आपराधिक शोषण का दोषी पाया गया। 2015 में मेरीलैंड की अदालत ने कैपिटल गैजेट और एक पूर्व रिपोर्टर के पक्ष में फैसला सुनाया। जिसके बाद से वे लगातार धमकियां दे रहा था।  पांच की मौत, संदिग्ध गिरफ्तार -   अमेरिका में मेरीलैंड राज्य के एनापोलिस में एक अखबार के दफ्तर पर अंधाधुंध गोलीबारी में पांच लोगों की मौत हो गई है। ये दफ्तर कैपिटल गैजेट अखबार का है। पुलिस ने एक संदिग्ध को भी गिरफ्तार कर लिया है। इस बीच मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। बताया जा रहा है कि अखबार के दफ्तर में एक अज्ञात बंदूकधारी घुसा और उसने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। बता दें कि एनापोलिस शहर वॉशिंगटन से एक घंटे की दूरी पर है।  आतंकी हमला नहीं -   इस बीच कानून प्रवर्तन अधिकारी ने इसे आतंकी हमला मानने से इन्कार कर दिया है। उन्हें कहा ये आतंकी हमला नहीं बल्कि स्थानीय घटना है। वहीं, फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (FBI) की टीम मौके पर पहुंचकर जांच कर रही है।  अंधाधुंध फायरिंग की वजह साफ नहीं -   पुलिस ने हमलावर को हिरासत में ले लिया है। जांच अधिकारियों ने बताया है, 'हमें जानकारी मिली थी कि एक बंदूकधारी दफ्तर के अंदर गोलियां चला रहा है। हम तुरंत मौके पर पहुंचे और बंदूकधारी को हिरासत में लिया। वहीं, घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया।'  ट्रंप ने जताया दुख -   वहीं, इस घटना को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी दुख जताया है। ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, 'मुझे एनापोलिस में कैपिटल अखबार के दफ्तर में गोलीबारी के बारे में बताया गया। पीड़ित और उनके परिवार के साथ मेरी संवेदनाएं हैं।'  गौरतलब है कि अमेरिका में अंधाधुंध फायरिंग का ये कोई पहला मामला नहीं है। इसी साल फरवरी में फ्लोरिडा के हाइस्कूल में भी अंधाधुंध गोलीबारी की गई। इस दर्दनाक हादसे में 17 लोगों की जान चली गई। वहीं, मई में टेक्सास के एक स्कूल में हुई गोलीबारी में 10 लोग मारे गए थे।

अधिकारियों के अनुसार, एक संदिग्ध व्यक्ति को हिरासत में लिया गया है। उसकी उम्र 40 साल के करीब है और वो मैरीलैंड का रहने वाला है। हमला कैपिटल गजट नामक लोकल अखबार पर हुआ है। हमले के समय वहां कई लोग मौजूद थे। आरोपी से पूछताछ की जा रही है। जिस बिल्डिंग पर हमला हुआ, वहां अन्य ऑफिस भी हैंं। करीब 170 कर्मचारियों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है।

38 वर्षीय हमलावर का नाम जरॉड रामॉस बताया जा रहा है। बताया जा रहा है कि आरोपी का लंबे वक्त से कैपिटल गैजेट के साथ विवाद चल रहा था। आरोपी जरॉड ने साल 2012 में कैपिटल गैजेट के खिलाफ मानहानि का मुकदमा भी दायर कराया था। जानकारी के मुताबिक, रामोस कैपिटल गैजेट में अपने खिलाफ खबर छापने से नाराज था।

रामोस ने जान से मारने की बात लिखी थी –

2012 में रामोस ने कैपिटल गैजेट में कॉलम लिखने वाले एरिक हार्टले पर मानहानि का केस दायर किया था। दरअसल, हार्टले ने अखबार में लिखा था कि रामोस ने एक महिला को फेसबुक पर अश्लील नामों से बुलाया और जान से मारने की धमकी दी। इस मामले में रामोस को आपराधिक शोषण का दोषी पाया गया। 2015 में मेरीलैंड की अदालत ने कैपिटल गैजेट और एक पूर्व रिपोर्टर के पक्ष में फैसला सुनाया। जिसके बाद से वे लगातार धमकियां दे रहा था।

पांच की मौत, संदिग्ध गिरफ्तार –

अमेरिका में मेरीलैंड राज्य के एनापोलिस में एक अखबार के दफ्तर पर अंधाधुंध गोलीबारी में पांच लोगों की मौत हो गई है। ये दफ्तर कैपिटल गैजेट अखबार का है। पुलिस ने एक संदिग्ध को भी गिरफ्तार कर लिया है। इस बीच मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। बताया जा रहा है कि अखबार के दफ्तर में एक अज्ञात बंदूकधारी घुसा और उसने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। बता दें कि एनापोलिस शहर वॉशिंगटन से एक घंटे की दूरी पर है।

आतंकी हमला नहीं –

इस बीच कानून प्रवर्तन अधिकारी ने इसे आतंकी हमला मानने से इन्कार कर दिया है। उन्हें कहा ये आतंकी हमला नहीं बल्कि स्थानीय घटना है। वहीं, फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (FBI) की टीम मौके पर पहुंचकर जांच कर रही है।

अंधाधुंध फायरिंग की वजह साफ नहीं –

पुलिस ने हमलावर को हिरासत में ले लिया है। जांच अधिकारियों ने बताया है, ‘हमें जानकारी मिली थी कि एक बंदूकधारी दफ्तर के अंदर गोलियां चला रहा है। हम तुरंत मौके पर पहुंचे और बंदूकधारी को हिरासत में लिया। वहीं, घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया।’

ट्रंप ने जताया दुख –

वहीं, इस घटना को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी दुख जताया है। ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, ‘मुझे एनापोलिस में कैपिटल अखबार के दफ्तर में गोलीबारी के बारे में बताया गया। पीड़ित और उनके परिवार के साथ मेरी संवेदनाएं हैं।’

गौरतलब है कि अमेरिका में अंधाधुंध फायरिंग का ये कोई पहला मामला नहीं है। इसी साल फरवरी में फ्लोरिडा के हाइस्कूल में भी अंधाधुंध गोलीबारी की गई। इस दर्दनाक हादसे में 17 लोगों की जान चली गई। वहीं, मई में टेक्सास के एक स्कूल में हुई गोलीबारी में 10 लोग मारे गए थे।

You May Also Like

English News