अमेरिका में खड़ा हुआ बड़ा आर्थिक संकट, लाखों लोग बेरोजगारी की कगार पर….

अमेरिका ने पिछले दिनों पाक सहित कई देशों को आर्थिक सहायता देना बंद कर दिया है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने यह सहायता बंद करने की वजह पाक को आतंक का पनाहगाह बताया और नाराजगी भी जताई। लेकिन अब जो खबरें सामने आ रही हैं वो ये हैं कि अमेरिका में बड़ा आर्थिक संकट खड़ा हो गया है।अमेरिका में खड़ा हुआ बड़ा आर्थिक संकट, लाखों लोग बेरोजगारी की कगार पर....अगर समय पर अमेरिका के दोनों सदनों में  आर्थिक विधेयक पारित नहीं हुआ तो वहां शटडाउन की नौबत आ जाएगी।  यानी कई सरकारी विभागों को  बंद करना पड़ेगा और लाखों कर्मचारी बेरोजगार हो जाएंगे और उन्हें वेतन के बिना घर बैठना पड़ेगा। कुल मिलाकर अमेरिकी अर्थव्यवस्था बहुत बड़े खतरे से गुजर रही है। पांच साल में दूसरी बार ऐसी स्थिति बनने के बाद आशंका जताई जा रही है कि क्या अमेरिका दिवालियेपन की ओर बढ़ रहा है।

बता दें कि फिलहाल अमेरिका में एंटीडेफिशिएंसी एक्ट लागू है। इस एक्ट के लागू होते ही संघीय एजेंसियों को पैसे की कमी की वजह से अपना कामकाज रोकना पड़ता है। बजट न होने की वजह से कर्मचारियों की छुट्टी पर भेज दिया जाता है और उन्हें  इस छुट्टी के दौरान वेतन भी नहीं दिया जाता। इस स्थिति में सरकार संघीय बजट लाती है, जिसे प्रतिनिधि सभा और सीनेट, दोनों में पारित कराना जरूरी होता है।

इस शटडाउन की स्थिति से पार पाने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पास शुक्रवार मध्यरात्रि तक का समय है। अगर यह बिल सीनेट में पास नहीं हुआ तो शटडाउन भी नहीं टाला जा सकेगा यानि आर्थिक संकट से अमेरिका पूरी तरह घिर चुका है। 

अमेरिकी  में शटडाउन की स्थिति पहली बार नहीं बनी है

फिलहाल अमेरिकी प्रशासन में 35 लाख कर्मचारी हैं अगर वहां  शटडाउन की स्थिति पैदा हो जाती है तो करीब साढ़े आठ लाख कर्मचारियों को पहले ही दिन से घर पर बैठना पड़ सकता है।  लेकिन इन सबके  बीच सैन्यकर्मियों की ड्यूटी लगी है, उन्हें इस क्राइसिस के बाद भी नहीं हटाया जाएगा।

अमेरिकी  में शटडाउन की स्थिति पहली बार नहीं बनी है। इससे पहले वर्ष 1981, 1984, 1990, 1995-96 और 2013 में भी शटडाउन हो चुका है। तब अमेरिका की स्थिति इतनी खराब हो चुकी थी कि उसके  पास खर्च करने के लिए पैसा भी  नहीं बचा था। पांच साल पहले भी  अक्टूबर 2013 में यहां शटडाउन हुआ था, जो दो हफ्तों तक चला था और 8 लाख कर्मचारियों को इस दौरान घर बैठना पड़ा था। तब बराक ओबामा राष्ट्रपति थे। 

You May Also Like

English News