अमेरिका में H-1B वीजा की नई प्रक्रिया आज से होगी शुरू…

अमेरिका में एच1बी वीजा प्राप्त करने की नई प्रक्रिया सोमवार से शुरू होगी। ट्रंप प्रशासन ने नई व्यवस्था में इस वीजा को हासिल करने की प्रक्रिया को पहले की तुलना में कड़ा किया है। ट्रंप प्रशासन ने अपने यहां की नौकरियों में स्थानीय लोगों की हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए यह कदम उठाया है। मालूम हो की एच1बी वीजा प्रक्रिया भारतीय आईटी पेशेवरों में काफी लोकप्रिय है।  अमेरिका में H-1B वीजा की नई प्रक्रिया आज से होगी शुरू...

एच1बी वीजा जारी करने वाली संघीय एजेंसी अमेरिकी नागरिकता व आव्रजन सेवाएं (यूएससीआईएस)ने कहा है कि वीजा हासिल करने के दौरान छोटी से छोटी गलती को भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और समूहों पर इस बात की चर्चा है कि इमिग्रेशन अटॉर्नी अब पहले की तुलना में अधिक वीजा आवेदन खारिज करेंगे। 

साल 2019 की वीजा प्रक्रिया शुरू होने से पहले यूएससीआईएस ने चेताया था कि सभी डुप्लीकेट आवेदन खारिज कर दिए जाएंगे। इससे पहले कंपनियां एक से अधिक आवेदन करती थीं जिससे आवेदक के लॉटरी सिस्टम से वीजा हासिल करने की संभावना बढ़ जाती थी। संघीय एजेंसी ने फिलहाल प्रीमियम प्रोसेसिंग को अस्थायी रूप से स्थगित कर रखा है। एजेंसी ने कहा है कि हम निकट भविष्य में प्रीमियम प्रोसेसिंग की तारीखों की घोषणा करेंगे। अभी तक यूएससीआईएस ने अभी तक कम्प्यूटर से लॉटरी के जरिये वीजा देने की योजना के संकेत नहीं दिए हैं। एच1बी वीजा के लिए संघीय सरकार को औसतन करीब चार लाख रुपये शुल्क के रूप में देना होता है।

तकनीकी कंपनियां सबसे अधिक निर्भर

एच1बी वीजा एक गैर प्रवासी वीजा है जो अमेरिकी कंपनियों को अपने यहां विदेशी कामगारों को रखने की अनुमति प्रदान करता है। इसके लिए कर्मचारी को सैद्धांतिक के साथ ही तकनीकी कुशलता की आवश्यकता होती है। तकनीकी कंपनियां भारत और चीन जैसे देशों से हजारों कर्मचारियों की अपने यहां नियुक्ति करने के लिए इस वीजा पर सबसे अधिक निर्भर रहती हैं।

प्रति वर्ष 65 हजार वीजा होंगे जारी

एक साल में 65 हजार वीजा ही जारी किए जाएंगे। कांग्रेस ने प्रत्येक वित्तीय वर्ष में 65 हजार वीजा जारी करने की सीमा तय की है। इनमें से पहले 20 हजार आवेदन उन लाभार्थियों की ओर से किया जाएगा जिनके पास अमेरिका से मास्टर्स या इससे उच्चतर शिक्षा होगी। इन लोगों को तय सीमा से छूट होगी।

You May Also Like

English News