अयोध्या में बोले कटियार- मंदिर निर्माण के लिए भगवान राम चाहते हैं एक और बलिदान

नवसंवत्सर विक्रमी संवत के शुभारंभ पर तुलसी उद्यान में शनिवार को आयोजित सभा में राज्यसभा सांसद विनय कटियार ने कहा कि 2019 में राममंदिर निर्माण की शुरुआत हो जाएगी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।अयोध्या में बोले कटियार- मंदिर निर्माण के लिए भगवान राम चाहते हैं एक और बलिदान

इसके पूर्व संत-धर्माचार्यों व श्रद्धालुओं ने रामकोट क्षेत्र की परिक्त्रस्मा भी की।  विक्रमादित्य महोत्सव समिति की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में राम मंदिर निर्माण के साथ समूचे राष्ट्र को राममय बनाने का संकल्प लिया गया।

सभा में राज्यसभा सांसद विनय कटियार ने कहा कि अयोध्या में कई मस्जिदें हैं, लेकिन उनको यहीं मस्जिद चाहिए, यह इनकी ‘महाजिद’ है। कहा कि रामकोट की परिक्रमा का मतलब भगवान राम की परिक्रमा है। 

भगवान राम को मुक्त कराने के लिए अब तक साढ़े तीन लाख रामभक्तों का बलिदान हो चुका है। भगवान राम एक और बलिदान चाहते हैं। बलिदान कैसा होगा यह कहना कठिन है, लेकिन इसके लिए हमें तैयार रहना होगा।

‘रामभक्तों का बलिदान जाया नहीं जाने देंगें’

मुलायम सिंह यादव ने 16 कारसेवकों की मौत की बात कही थी, लेकिन ये सत्यता से परे हैं, इसमें 50 से ज्यादा कारसेवक मारे गए थे। मामला सुप्रीम कोर्ट में है, क्या निर्णय होगा मालूम नहीं। लेकिन रामभक्तों का बलिदान जाया नहीं जाने देंगें।

आगे उन्होंने कहा कि कुछ लोग जिनका कोई लेना-देना नहीं है, वह वार्ता करने आ रहे हैं, फार्मूला लेकर आ रहे हैं लेकिन अब कोई फार्मूला मान्य नहीं होगा। इसके पूर्व महंत देवेंद्र प्रसादाचार्य ने कहा कि हमें राम मंदिर निर्माण के लिए संकल्प लेना चाहिए ताकि अगले वर्ष हम लोग भव्य राम मंदिर की परिक्रमा करें।

महंत कमलनयन दास ने कहा कि रामकोट की परिक्रमा का संदेश पूरे राष्ट्र को जाना चाहिए। महंत कन्हैयादास रामायणी ने कहा कि विक्रम महोत्सव राम जन्मभूमि पर भव्य राममंदिर निर्माण का संकल्प है।

मतगजेंद्र बाबा का पूजन कर धर्माचार्यों व श्रद्धालुओं ने जय श्रीराम के उद्घोष के बीच रामकोट क्षेत्र की परिक्रमा शुरू की। परिक्रमा में रथ पर सवार भगवान राम, सीता, लक्ष्मण, गणेश, हनुमान जी के विग्रह भक्तों के श्रद्धाकर्षण का केंद्र बने।

परिक्रमा में सांसद विनय कटियार के अलावा नगर विधायक वेद गुप्ता समेत महंत रामशरण दास, महंत मैथिली रमण शरण, महंत रामदास, राजकुमार दास, महंत मिथिलेश नंदिनी शरण, महंत अनंताचार्य, शशिकांत दास, अवध बिहारी दास, महंत अवध किशोर शरण, दिलीप दास, आदित्य नारायण मिश्र, अभिषेक मिश्र, शक्ति सिंह, घनश्यामदास पहलवान सहित अन्य मौजूद रहे।

You May Also Like

English News