अवसरवाद बनाम सिद्धांतः क्या दो साल ही मुख्यमंत्री रहेंगे प्रेमकुमार धूमल?

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव की सियासी जंग जीतने निकली बीजेपी ने प्रेम कुमार धूमल को अपना सेनापति नियुक्त कर दिया है. धूमल के नाम के ऐलान ने सियासी पंडितों को चौंका दिया है. इसकी वजह है उनकी उम्र. पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी के इस वयोवृद्ध दिग्गज ने अपनी उम्र के 73 साल पूरे कर लिए हैं.अवसरवाद बनाम सिद्धांतः क्या दो साल ही मुख्यमंत्री रहेंगे प्रेमकुमार धूमल?Election: समाजवादी ने लखनऊ मेयर सहित तीन प्रत्याशियों के नाम का किया ऐलान!

लोकसभा चुनाव जीतने के बाद बीजेपी ने अपने 75 साल पूरे कर चुके नेताओं को रिटायर कर दिया था. ऐसे में धूमल के नाम के ऐलान से सवाल उठ रहे हैं कि क्या ये बीजेपी का अवसरवाद है या फिर चुनाव जीतने पर वो धूमल को सिर्फ दो साल सीएम पद पर रखेगी और 75 साल पूरे होने के बाद किसी नए नेता को हिमाचल की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी?

हिमाचल में बीजेपी के पास सीएम कैंडिडेट बनने लायक कई चेहरे थे, इनमें जे पी नड्डा जैसे नेताओं का नाम लिया जा सकता है लेकिन माना जा रहा है कि राज्य के जातिगत समीकरणों को देखते हुए ही बीजेपी ने एक बार फिर धूमल पर दांव खेला है. हिमाचल का चुनावी इतिहास देखें तो एक बार कांग्रेस और एक बार बीजेपी की सरकार यहां बनती रही है. इस बार बारी बीजेपी की है. इसलिए वो कोई मौका हाथ से जाने देना नहीं चाहती. यही वजह है कि धूमल के नाम के ऐलान में उसने अपने 75 साल वादे सिद्धांत को भी किनारे रख दिया.

प्रेम सिंह धूमल की उम्र फिलहाल 73 साल है और अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा होने तक वे 78 साल के हो जाएंगे. यहीं पेंच है. बीजेपी अगर 75 साल वाले अपने सिद्धांत पर कायम रहती है तो धूमल केवल 2 साल के लिए सीएम रहेंगे. उसके बाद उन्हें मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़नी पड़ सकती है. लेकिन अगर बीजेपी ने धूमल को पूरे 5 साल के लिए सीएम बनाने का फैसला किया है तो ये उसका राजनीतिक अवसरवाद ही कहा जाएगा. 

75 साल के चलते कई मंत्रियों को छोड़ना पड़ा पद

बता दें कि नरेंद्र मोदी जब 2014 में प्रधानमंत्री बने तो उन्होंने बीजेपी नेताओं के मंत्री बनने की उम्र सीमा 75 साल तय कर दी थी. यही वजह रही कि 2014 में चुनाव जीतने के बावजूद लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी जैसे नेता केंद्र में मंत्री नहीं बन पाए. इसके अलावा जिन मंत्रियों की उम्र 75 साल हुई उन्हें भी मंत्री पद बीच में ही छोड़ना पड़ा. इनमें नजमा हेपतुल्ला और कलराज मिश्रा शामिल हैं.

कई राज्यों में भी बीजेपी के इस 75 साल के फॉर्मूले का असर देखा गया. मध्यप्रदेश में मंत्री बाबू लाल गौर को पद छोड़ना पड़ा था. गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल को भी 75 साल के इस नियम के चलते ही कुर्सी छोड़नी पड़ी थी. यही वजह है कि धूमल के नाम का ऐलान चौंका रहा है वहीं कुछ जानकार ये भी मान रहे है कि धूमल पर बीजेपी ने चुनाव जिताने के लिए दांव खेला है और हो सकता है कि दो साल बाद उन्हें हटाकर किसी और नेता की ताजपोशी कर दी जाए.

You May Also Like

English News