अहमदाबाद के रोड शो में त्रिवेंद्रसिंह रावत ने, देश के जाने माने उद्यमियों को दिया न्यौता

देवालयों का प्रदेश उत्तराखंड अब राज्य को विकास की पटरी पर दौडाने के लिए बॉलीवुड के लिए पलक बिछाऐगा। पर्यटन, फार्मा व आयुर्वेद उत्पाद के क्षेत्र में अपनी विशिष्ट पहचान बनाने के बाद प्रदेश अब फूड प्रोसेसिंग, वैकल्पिक ऊर्जा, ऑटोमोबाइल व फिल्म शूटिंग जैसे उद्योग को बढावा देगा। देहरादून में 7 व 8 अक्टूबर को होने वाले निवेशक सम्मेलन के लिए अहमदाबाद के रोड शो में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्रसिंह रावत ने गुजरात व देश के कई जाने माने उद्यमियों को न्यौता दिया।देवालयों का प्रदेश उत्तराखंड अब राज्य को विकास की पटरी पर दौडाने के लिए बॉलीवुड के लिए पलक बिछाऐगा। पर्यटन, फार्मा व आयुर्वेद उत्पाद के क्षेत्र में अपनी विशिष्ट पहचान बनाने के बाद प्रदेश अब फूड प्रोसेसिंग, वैकल्पिक ऊर्जा, ऑटोमोबाइल व फिल्म शूटिंग जैसे उद्योग को बढावा देगा। देहरादून में 7 व 8 अक्टूबर को होने वाले निवेशक सम्मेलन के लिए अहमदाबाद के रोड शो में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्रसिंह रावत ने गुजरात व देश के कई जाने माने उद्यमियों को न्यौता दिया।   उत्तराखंड को अभी तक बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगौत्री व यमुनौत्री चारधाम के लिए जाना जाता था लेकिन बीते कुछ वर्ष में राज्य ने पर्यटन व फार्मा सेकटर में लंबी छलांग लगाई है। मुख्यमंत्री रावत ने बताया कि पहले जो पर्यटक छह माह में एक बार राज्य में आता था अब वह दो माह में आने लगा है।  मेन्युफेक्चरिंग के क्षेत्र में राज्य में विकास हुआ है साथ ही फार्मा उद्योग भी फलफूल रहा है। राज्य की विकास दर 11,5 फीसदी है जिसमें सबसे अधिक योगदान मेन्युफेक्चरिंग का ही है। रावत ने बताया कि उत्तराखंड कुदरत का उपहार है जहां हर कोई जाना पसंद करता है, देवालयों के लिए प्रसिद्व राज्य अब बॉलीवुड के लिए भी पलक पांवडे बिछा रहा है, खुद रावत बताते हैं कि बीते कुछ वर्ष में ही राज्य में 46 फिल्म की शूटिंग हुई है, अभिनेता रजनीकांत, दक्षिण के हीरो महेशबाबू, बाहूबली के निर्देशक राजा मौली भी उत्तराखंड में आ चुके हैं।   नेता विपक्ष पद को लेकर कांग्रेस में दरार, राहुल से मिलकर करेंगे दिल की बात यह भी पढ़ें मुख्यमंत्री रावत बताते हैं कि राज्य में पहले धार्मिक पर्यटन होता था लेकिन अब पर्यटक जिम कार्बेट, रिवर राफ्टिंग, रिमोट एरिया विजिटिंग, एडवेंचर ट्यूर, माउन्टनियरिंग के लिए भी आने लगे हैं। रावत ने बताया कि राज्य में करीब 324 उद्योग कार्यरत हैं तथा सरकार 12 सेक्टर पर फोकस कर रही है जिसमें देश विदेश से निवेश आकर्षित किया जा सकता है।  जब रावत से जागरण संवाददाता ने पूछा की योग गुरु बाबा रामदेव तो विदेशी कंपनियों के खिलाफ हैं, इस पर मुख्यमंत्री ने बडे ही सधे अंदाज में जवाब दिया कि मेक इन इंडिया भी हमारी प्राथमिकता है। देश में स्वदेश का चलन भी जरूरी है। रावत ने कहा उद्योगों को मंजूरी के लिए सिंगल विंडो सिस्टम लागू किया है जिससे 15 दिन में सभी औपचारिकता व स्वीकृतियाँ पूरी कर दी जाती है।   राजीव सातव ने कहा- क्या भाजपा गुजरात विधानसभा भंग करने को तैयार है यह भी पढ़ें उत्तराखंड सरकार के फोकस सेक्टर  फूड प्रोसेसिंग, वैकल्पिक उऊर्जा, इन्फोर्मेशन टेक्नोलोजी, ट्यूरिज्म एंड हॉस्पीटेलिटी, ऑटोमोबाइल, बायो टेक्नोलॉजी, फार्मास्यूटिकल, नेचुरल फाइबर, वेलनेस एंड आयुष, फिल्म शूटिंग, हॉर्टीकल्चर, हर्बल एंड एरोमेटिक।

उत्तराखंड को अभी तक बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगौत्री व यमुनौत्री चारधाम के लिए जाना जाता था लेकिन बीते कुछ वर्ष में राज्य ने पर्यटन व फार्मा सेकटर में लंबी छलांग लगाई है। मुख्यमंत्री रावत ने बताया कि पहले जो पर्यटक छह माह में एक बार राज्य में आता था अब वह दो माह में आने लगा है।

मेन्युफेक्चरिंग के क्षेत्र में राज्य में विकास हुआ है साथ ही फार्मा उद्योग भी फलफूल रहा है। राज्य की विकास दर 11,5 फीसदी है जिसमें सबसे अधिक योगदान मेन्युफेक्चरिंग का ही है। रावत ने बताया कि उत्तराखंड कुदरत का उपहार है जहां हर कोई जाना पसंद करता है, देवालयों के लिए प्रसिद्व राज्य अब बॉलीवुड के लिए भी पलक पांवडे बिछा रहा है, खुद रावत बताते हैं कि बीते कुछ वर्ष में ही राज्य में 46 फिल्म की शूटिंग हुई है, अभिनेता रजनीकांत, दक्षिण के हीरो महेशबाबू, बाहूबली के निर्देशक राजा मौली भी उत्तराखंड में आ चुके हैं।

मुख्यमंत्री रावत बताते हैं कि राज्य में पहले धार्मिक पर्यटन होता था लेकिन अब पर्यटक जिम कार्बेट, रिवर राफ्टिंग, रिमोट एरिया विजिटिंग, एडवेंचर ट्यूर, माउन्टनियरिंग के लिए भी आने लगे हैं। रावत ने बताया कि राज्य में करीब 324 उद्योग कार्यरत हैं तथा सरकार 12 सेक्टर पर फोकस कर रही है जिसमें देश विदेश से निवेश आकर्षित किया जा सकता है।

जब रावत से जागरण संवाददाता ने पूछा की योग गुरु बाबा रामदेव तो विदेशी कंपनियों के खिलाफ हैं, इस पर मुख्यमंत्री ने बडे ही सधे अंदाज में जवाब दिया कि मेक इन इंडिया भी हमारी प्राथमिकता है। देश में स्वदेश का चलन भी जरूरी है। रावत ने कहा उद्योगों को मंजूरी के लिए सिंगल विंडो सिस्टम लागू किया है जिससे 15 दिन में सभी औपचारिकता व स्वीकृतियाँ पूरी कर दी जाती है।

उत्तराखंड सरकार के फोकस सेक्टर

फूड प्रोसेसिंग, वैकल्पिक उऊर्जा, इन्फोर्मेशन टेक्नोलोजी, ट्यूरिज्म एंड हॉस्पीटेलिटी, ऑटोमोबाइल, बायो टेक्नोलॉजी, फार्मास्यूटिकल, नेचुरल फाइबर, वेलनेस एंड आयुष, फिल्म शूटिंग, हॉर्टीकल्चर, हर्बल एंड एरोमेटिक। 

You May Also Like

English News