देवबंद पहली जीत शुरू हुई बदली सत्ता में:आखिर क्यूँ जीती भाजपा मुस्लिम बाहुल्य देवबंद से भाजपा

देवबंद सीट जो कि मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र है वहां से आज शुरू हुई भाजपा की जीत फिर तेज़ी से सत्ता में बदली.
सहारनपुर
यूपी विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत का सिलसिला यूपी के मुस्लिम बाहुल्य जिले सहारपुर से शुरू हुआ. सबसे पहली जीत भाजपा को देवबंद सीट से मिली। यहां भाजपा प्रत्याशी कुंवर बृजेश सिंह ने बसपा के माजिद अली को 26,355 वोटों से मात दी। भाजपा की इस जीत से कयास लगाया जा रहा है कि मुस्लिमों ने भी भाजपा को इस बार दिल खोलकर वोट किया। बृजेश सिंह को जहां 67,474 वोट मिले, वहीं बसपा प्रत्याशी को 35,750 वोट हासिल हुए। तीसरे नंबर पर सपा-कांग्रेस प्रत्याशी माविया अली रहे जिन्हें 22,391 वोटों से संतोष करना पड़ा। अब तक सत्तासीन समाजवादी पार्टी ने 2012 के चुनाव में उत्तर प्रदेश में 75जिलों में 224 सीटों पर जीत हासिल की थी.
मालूम हो होली से पहले यूपी भगवा होली खेलता नजर आ रहा है। देवबंद की इस सीट पर जीत से अंदाजा लगाया जाने लगा था कि भाजपा को पूर्ण बहुमत मिलता दिख रहा है। ऐसा होता है तो यह पहला मौका होगा जब यूपी के इतिहास में पहली बार किसी पार्टी को 300 से ज्यादा सीटें मिलेंगी। जिन इलाकों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रैलियां की वहां भाजपा को भारी वोट मिले और प्रत्याशियों को जीत भी मिली।

देवबंद, सहारनपुर लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र में आता है और ये अनारक्षित है. निर्वाचन आयोग सांख्यिकी के अनुसार, देवबंद के कुल 2,92,273 पंजीकृत मतदाता हैं, जिसमें से 1,60,300 पुरुष और 1,31,973 महिलाएं हैं. ऐसे में क्या ये प्रश्न नहीं उठता कि देवबंद जहाँ कि दारूल उलूम व राजनैतिक इतिहास के कारण मुस्लिम प्रत्याशी की जीत होनी चाहिए थी वहां भाजपा ने कैसे जीत हासिल कर ली?

कहीं ऐसा तो नहीं कि यहाँ फीमेल फैक्टर ने काम किया हो. चर्चा में रहे ट्रिपल तलाक़ के कारण देवबंद की महिलाओं ने एकजुट होकर भाजपा को जीत तक पहुँचाया हो ? कुछ भी हो फिलहाल माहौल भाजपा की जीत का है और हारने वाली पार्टियों को गलतियों का आंकलन करने का.

You May Also Like

English News