आखिर साधु-संतों के आगे झुके MP के CM शिवराज सिंह चौहान…

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोमवार को धर्मनगरी चित्रकूट पहुंचे। यहां उन्होंने साधु और संतों से मुलाकात की। सीएम ने भरत घाट पर मंदाकिनी नदी की हालत देखकर चिंता जताई। एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को चित्रकूट में सीवरेज प्लांट का शुभारंभ सनकादिक महाराज से करवाया।  आखिर साधु-संतों के आगे झुके MP के CM शिवराज सिंह चौहान...अभी अभी: राष्ट्रपति कोविन्द के घर घेराव करने पहुंचे हजारों शिक्षामित्र…

धर्मनगरी चित्रकूट का 30 प्रतिशत इलाका यूपी और 70 प्रतिशत इलाका मध्यप्रदेश राज्य की सीमा में आता है। चित्रकूट का विकास न होने की वजह से साधु-संतों ने एमपी सरकार का विरोध करना शुरू कर दिया था। संतों का कहना था कि मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की भाजपा सरकार को दस साल से भी ज्यादा का समय हो गया लेकिन चित्रकूट के विकास की ओर सरकार ने बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया।

अपनी तमाम मांगों को लेकर संत 28 जुलाई से धरने पर बैठ गए थे। तीन दिन तक साधु और संतों का धरना-प्रदर्शन चलता रहा। विरोध बढ़ने पर एमपी की सरकार की नींद टूटी और चित्रकूट के डेवलपमेन्ट की बात कहकर संतों का प्रदर्शन खत्म कराया गया। सोमवार को चित्रकूट पहुंचे एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मिनी स्मार्ट सिटी के रूप में धर्मनगरी चित्रकूट को विकसित किया जाएगा। इसके लिए 180 करोड़ का प्रोजेक्ट बनाया गया है। यहां आने वाले पर्यटकों से अवैध वसूली बंद की जाएगी। एमपी सरकार के नगरीय विकास एवं आवास विभाग की ओर से मिनी स्मार्ट सिटी मिशन के रूप में चित्रकूट के विकास को तपोभूमि चित्रकूट परियोजना का नाम दिया है।

You May Also Like

English News