आज इन दिग्गजों की किस्मत का फैसला ईवीएम मशीन हो जायेगा कैद

लखनऊ : शनिवार को पश्चिम यूपी के 15 जिलों के मतदाता जहां एक तरफ अपने मतों का प्रयोग करेंगे, वहीं दूसरी तरफ कई बड़े दिग्गजों की भी किस्मत का फैसला यहां के मतदाता भी तय करेंगे। आज हो रही वोटिंग में इन दिग्गजों की किस्मत ईवीएम मशीन में कैद हो जायेगी।

 


आईयें हम आप को बताते हैं कि कुछ ऐसे बड़े चेहरों के बारे में जो पश्चिमी यूपी से चुनाव मैदान में हैं।

लक्ष्मीकांत बाजपेयी भाजपा। ये भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष हैं और मेरठ सीट से मौजूदा विधायक हैं। मुस्लिम बहुल मेरठ पर भाजपा को हराने के लिए विपक्षी दलों ने पूरा दमखम लगा दिया है। बाजपेयी को भरोसा है कि वे पांचवीं बार जीत दर्ज कर पाएंगे। इससे पहले वे 1989, 1996, 2002 और 2012 में यहांं का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं।

संगीत सोम भाजपा। अपने विवादिात बयानों को लेकर संगीत सोम हमेशा चर्चा में रहे हैं। भाजपा ने मेरठ की सरधना सीट से उन्हें मैदान में उतारा है। सोम पर मुजफ्फरनगर दंगे भड़काने के आरोप लगा था। उनके खिलाफ सपा ने अतुल प्रधान और बसपा ने मोहम्मद इमरान को उतारा है।

पंकज सिंह भाजपा। पंकज सिंह देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह के बेटे हैं और वह गौतमबुद्धनगर की नोएडा सीट पर भाजपा प्रत्याशी हैं। उनका मुकाबला समाजवादी पार्टी के सुनील चौधरी से हैए वहीं मायावती की बसपा ने रविकांत मिश्रा को मैदान में उतारा है।

मृगांका सिंह भाजपा। ये कैराना से भाजपा सांसद हुकुम सिंह की बेटी हैं। इन्हें पार्टी ने कैराना से ही टिकट दिया है। हुकुम सिंह ने कैराना से हिंदुओं का पलायन के मुद्दे को उठाकर तुफान ला दिया था।

अब्दुल्ला आजम सपा। समाजवादी के कद्दावर मंत्री आजम खान को तो सभी जानते हैं। वह भी अक्सर अपने बयानों को लेकर खासा चर्चा में रहते हैं। अब्दुला आजम उनके ही बेटे हैं। मुस्लिम चेहरा बनाते हुए सपा ने इन्हें स्वार विधानसभा से टिकट दिया है।

राहुल यादव सपा। ये लालू यादव के दामाद हैं। सपा ने इन्हें बुलंदशहर की सिकंदराबाद से टिकट दिया है। 2012 में यहां दिलचस्प मुकाबला हुआ था। तब लालू के समधी और राहुल यादव के पिता जितेंद्र यादव को भाजपा प्रत्याशी विमला सोलंकी से शिकस्त मिली थी। अब राहुल का मुकाबला विमला से है।

You May Also Like

English News