आज राष्ट्रपति पद की कांग्रेस उम्मीदवार मीरा कुमार उत्तराखंड जाने की तैयारी में….

राष्ट्रपति पद के चुनाव को लेकर कांग्रेस आलाकमान बेशक गंभीर हो मगर प्रदेश कांग्रेस उतना गंभीर नहीं दिखाई दिया है। शायद ये कमजोर संख्या बल के दबाव का ही असर रहा कि उसने निर्दलीय विधायकों को साधने का प्रयास नहीं किया। मजेदार बात यह है कि दोनों निर्दलीय विधायकों का संबंध कांग्रेस से प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से रहा है। आज राष्ट्रपति पद की कांग्रेस उम्मीदवार मीरा कुमार उत्तराखंड जाने की तैयारी में....जेल में बंद शशिकला ने अधिकारियों को 2 करोड़ रिश्वत देकर बनवाया स्पेशल किचन…

बृहस्पतिवार को राष्ट्रपति पद के लिए यूपीए की उम्मीदवार मीरा कुमार आज राजधानी में होंगी। लेकिन उन्हें समर्थन देने वाले सिर्फ कांग्रेस विधायक ही होंगे। ये सभी विधायक दिल्ली जाकर उनके प्रस्ताव बन चुके हैं। इसलिए उनके साथ होने को लेकर कोई शंका नहीं है।

11 के कमजोर संख्या बल के बावजूद उसके पास सत्ता पक्ष पर राजनीतिक बढ़त बनाने का मौका था। मगर वह ऐसा करने में चूक गई। पूर्व कैबिनेट मंत्री प्रीतम सिंह ने यह कहकर प्रदेश कांग्रेस की उदासीनता की पोल खोली की कि भाजपा ने उनसे पहले समर्थन मांगा, इसलिए वे उसके साथ चले गए।

यानी यदि कांग्रेस पहले संपर्क करती तो शायद वे मीरा कुमार के समर्थन में होते।  बहरहाल, मीरा कुमार बृहस्पतिवार को देहरादून पहुंचकर कांग्रेस विधायकों से मुलाकात करेंगी। विधायक मंडल दल की बैठक होगी। इस दौरान वह पत्रकारों से मुखातिब होंगी और राष्ट्रपति चुनाव लड़ने की राजनीतिक वजह सामने रखेंगी।  

मतदान स्थल पर प्रतिबंध रहेगा मोबाइल फोन 

राष्ट्रपति चुनाव के लिए तैयारियां पूरी कर ली गई। विधानसभा भवन में मतदान करने को अलग से कक्ष बनाया गया है। 17 जुलाई को मतदान की प्रक्रिया सुबह 10 बजे से शाम पांच बजे तक चलेगी।

निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार मतदान स्थल पर मोबाइल, वायरलैस, कैमरा लाने पर प्रतिबंध रहेगा। विधानसभा सचिव एवं सहायक रिटर्निंग आफिसर जगदीश चंद्र ने बताया कि राष्ट्रपति निर्वाचन के लिए विधानसभा भवन के द्वितीय तल पर 321 कक्ष में मतदान करने की व्यवस्था की गई।

जिसमें निर्वाचन आयोग की ओर से अधिकृत विधानसभा के निर्वाचित सदस्य, संसद सदस्य मतदान करेंगे। उन्होंने बताया कि विधानसभा के निर्वाचित सदस्य एवं संसद सदस्य भारत निर्वाचन आयोग से नियमानुसार निर्धारित प्रारूप पर आवेदन करने के उपरांत निर्वाचन आयोग की अनुमति से किसी भी राज्य मुख्यालय में स्थित निर्वाचन स्थल अथवा संसद भवन कक्ष संख्या-62 नई दिल्ली में भी मत देने की सुविधा प्राप्त कर सकते हैं।

निर्वाचन आयोग के दिशा निर्देश एवं निर्धारित प्रारूप सभी सदस्यों को भेजी जा चुकी है। मतदान के दिन मतदान स्थल पर मोबाइल फोन, वायरलेस तथा कैमरा आदि लाने पर प्रतिबंध रहेगा। मतदान करने के लिए सदस्यों को अपना परिचय पत्र दिखाना होगा। जिसके बाद ही मतदान रूम में प्रवेश करने की अनुमति होगी। 

You May Also Like

English News