Crime: लखनऊ में आटो सवार किन्नर को मारी गयी गोली!

लखनऊ: आशियाना इलाके में आटो से जा रहे एक किन्नर को वैन सवार लोगों ने गोली मार दी। अचानक हुई इस घटना से बीच सड़क पर अफरा-तफरी मच गयी। गोली लगने से घायल किन्नर को इलाज के लिए ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है।


पीजीआई के डूडा कालोनी में किन्नर चंचल रहता है। बताया जाता है कि रविवार की रात करीब 8 बजे चचंल आलमबाग चौराहे से तेलीबाग के लिए एक आटो 150 रुपये में बुक किया था। आटो रिक्शे को संतोष नाम का चालक चल रहा था। आटो जैसे ही गन्ना अनुसंधान के मोड़ के पास पहुंचा, वैसे ही एक वैन सवार बदमाशों ने आटो को ओवरटेक कर रोक लिया।

आटो चालक और उसमें सवार किन्नर इससे पहले कुछ समझ पाते वैन सवार बदमाशों ने किन्नर को गोली मार दी। गोली किन्नर के पेट और हाथ में लगी और वह लहुलूहान हो गया। अचानक हुई इस घटना से इलाके में अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया। पल भर के लिए ट्रैफिक मानो थम सा गया। वहीं आटो चालक संतोष भी अपनी जान बचाकर आटो छोड़कर भाग खड़ा हुआ।

वारदात को अंजाम देने के बाद वैन सवार बदमाश बड़ी आराम से वहां से भाग खड़े हुए। मौके पर मौजूद एक राहगरी नागेन्द्र ने सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी। सूचना मिलते ही मौके पर एसपी नार्थ अनुराग वत्स, सीओ कैण्ट तनु उपाध्याय, इंस्पेक्टर आशियाना मौके पर पहुंच गये। पुलिस ने घायल किन्नर को इलाज के लिए लोकबंधु अस्पताल में भर्ती कराया, जहां से डाक्टरों ने उसकी गंभीर हालत को देखते हुए उसको ट्रामा सेंटर रिफर कर दिया। फिलहाल घायल किन्नर को ट्रामा सेंटर में इलाज चल रहा है। किन्नर चंचल को गोली मारे जाने की खबर मिलते ही उसके साथी किन्नर ट्रामा सेंटर पहुंच गये।

आपसी गुटबाजी हो सकती है घटना की वजह
किन्नर चंचल को गोली किसने और क्यों मारी फिलहाल इस बात का पता नहीं चल सका है। शुरुआती छानबीन में पुलिस का कहना है कि किन्नरों का किसी आम आदमी से जल्दी किसी बात को लेकर विवाद या झगड़ा नहीं होता है। किन्नरों के आपसी गुटों में जरुर विवाद चलता रहता है। पुलिस को आशंका है कि शायद इसी गुटबाजी के चलते किन्नर चंचल को गोली मारी गयी है। फिलहाल पुलिस किन्नर के मोबाइल फोन का विवरण खंगालने के साथ ही उसके साथियों से भी बातचीत कर रही है।

आटो में एक किशोरी भी थी मौजूद
शुरुआती छानबीन में पुलिस को इस बात का पता चला है कि घटना के वक्त आटो में एक 16 साल की किशोरी भी मौजूद थी। किन्नर को गोली मारने जाने के बाद किशोरी कहां चली गयी, यह बात किसी को नहीं पता। सीओ कैण्ट तनु उपाध्याय ने बताया कि किशोरी का किन्नर से कोई लेनदेना नहीं है, वह आटो में बतौर सवारी बैठी थी और घटना के बाद वहां से चली गयी। फिर भी किशोरी के बारे में पुलिस अपने स्तर से पता लगा रही है।

loading...

You May Also Like

English News