अब मंत्रोच्चारण से किया जाएगा आतंकवाद का सफाया

देश और दुनिया भर में पनप रहे आतंकवाद पर काबू पाने के लिए जहां एक तरफ सरकार सर्जिकल स्ट्राइक कर रही है। वहीं देश में आतंकवाद के सफाये का एक अनूठा तरीका अपनाया जा रहा है। आजकल आध्यात्मिक स्तर पर भी आतंकवाद रोकने का प्रयास भी हो रहा है। जी हां, यह काम कर रहा है गायत्री परिवार। देशभर के गायत्री मंदिरों में हर रोज होने वाले हवन और विशिष्ट अनुष्ठानों में एक खास मंत्र का उच्चाचरण करते हुए आहुतियां दी जा रही हैं। इस मंत्र के जरिए आतंकवाद के समाप्त होने की कामना की जा रही है।अब मंत्रोच्चारण से किया जाएगा आतंकवाद का सफाया

इस मंदिर प्रसाद में भक्तों को मिलता है सोना

यह मंत्र है – ॐ भूर्भुवः स्वः क्लीं क्लीं क्लीं तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात्। क्लीं क्लीं क्लीं ऊं। स्वाहा।

हरिद्वार के गायत्री परिवार से जुड़े वीरेश्वर उपाध्याय के अनुसार, इस मंत्र के माध्यम से दी गईं आहुतियां दैवीय शक्तियों को पुष्ट करती हैं और आसुरी शक्तियों का शमन करती हैं। इसलिए सूक्ष्म जगत को प्रभावित करने और आतंकवाद को समाप्त करने के लिए यह एक अनूठा प्रयोग है। उपाध्याय ने आगे बताया, देशभर के गायत्री मंदिरों में यह प्रयोग हो रहा है। यही नहीं, गायत्री परिवार के साधक भी अपने स्तर पर राष्ट्रहित में इस मंत्र का जाप नियमित कर रहे हैं।

जाने , मासिक धर्म के बारे में क्या कहते हैं भारतीय धर्म

‘ह्रीं श्रीं क्लीं’ सरस्वती, लक्ष्मी और काली के बीज मंत्र हैं। ह्रीं यानी सात्विकता से समस्या का समाधान, वहीं श्रीं यानी राजसी। इसी तरह क्लीं तामसिक तत्व है। उक्त मंत्र में क्लीं शब्द का उपयोग करने का तात्पर्य है दुर्जन को उसी की भाषा में जवाब देना। यह कालिका शक्ति के द्वारा आतंकवाद का सर्वनाश है।

 

You May Also Like

English News