आपका मन मोह लेगी इस गांव की खूबसूरती

आज के समय में गांव भी शहरों में बदल चुके हैं. पर आज भी कुछ जगहों पर ऐसे गांव मौजूद हैं जहां की खूबसूरती हरियाली और प्राकृतिक नजारे आपके मन को मोह लेंगे. आज हम आपको एक ऐसे ही गांव के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे भारत के आखिरी गांव के नाम से जाना जाता है. आज के समय में गांव भी शहरों में बदल चुके हैं. पर आज भी कुछ जगहों पर ऐसे गांव मौजूद हैं जहां की खूबसूरती हरियाली और प्राकृतिक नजारे आपके मन को मोह लेंगे. आज हम आपको एक ऐसे ही गांव के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे भारत के आखिरी गांव के नाम से जाना जाता है.   यह गांव भारत और तिब्बत की सीमा पर बसा हुआ है. इस गांव का नाम छितकुल है. यहां पर आप चारों तरफ बर्फ से लदी पर्वत श्रेणियां देख सकते हैं. इसके अलावा आपको यहां पर चारों तरफ हरियाली ही हरियाली नजर आएगी. गर्मियों की छुट्टियां बिताने के लिए यह गांव बेस्ट है. आप यहां पर ठंड के साथ साथ सुकून से अपनी छुट्टियों को बिता  सकते हैं.   चितकुल गांव में आपको नदी में चमकती सूरज की छाया मोतियों जैसी दिखाई देगी. यह गांव समुद्र तल से 3450 मीटर ऊंचाई पर बसा हुआ है. यह भारत और तिब्बत की सीमा पर मौजूद भारत का अंतिम गाँव है इसलिए इस गांव को भारत के आखिरी गांव के नाम से जाना जाता है.

यह गांव भारत और तिब्बत की सीमा पर बसा हुआ है. इस गांव का नाम छितकुल है. यहां पर आप चारों तरफ बर्फ से लदी पर्वत श्रेणियां देख सकते हैं. इसके अलावा आपको यहां पर चारों तरफ हरियाली ही हरियाली नजर आएगी. गर्मियों की छुट्टियां बिताने के लिए यह गांव बेस्ट है. आप यहां पर ठंड के साथ साथ सुकून से अपनी छुट्टियों को बिता  सकते हैं. 

चितकुल गांव में आपको नदी में चमकती सूरज की छाया मोतियों जैसी दिखाई देगी. यह गांव समुद्र तल से 3450 मीटर ऊंचाई पर बसा हुआ है. यह भारत और तिब्बत की सीमा पर मौजूद भारत का अंतिम गाँव है इसलिए इस गांव को भारत के आखिरी गांव के नाम से जाना जाता है.

You May Also Like

English News