इंडियन आयडल में हिस्सा ले चुके इस व्यक्ति पर दर्ज हुए वाहन चोरी के ढेरों मामले

छह से अधिक गर्लफ्रेंड और खुद के महंगे शौक पूरे करने के लिए ताइक्वांडो के राष्ट्रीय स्तर के चैंपियन सूरज बहादुर ने अपराध की ऐसी राह पकड़ी कि उसके खिलाफ लूटपाट के अब तक दो दर्जन मामले दर्ज हो चुके हैं। वह ताइक्वांडो में दो गोल्ड मेडल जीत चुका है। पेशे से कम्प्यूटर इंजीनियर सूरज बेहतरीन गायक भी है और इंडियन आयडल में हिस्सा ले चुका है। बाहरी दिल्ली की वाहन चोरी निरोधक शाखा ने सूरज उर्फ फाइटर को उसके सहयोगी के साथ लूटपाट के मामले में गिरफ्तार किया है। दिल्ली पुलिस उसे पहले भी गिरफ्तार कर चुकी है। पुलिस ने पूछताछ के बाद लूटपाट के पांच मामले सुलझाने का दावा किया है। इंडियन आयडल में हिस्सा ले चुके इस व्यक्ति पर दर्ज हुए वाहन चोरी के ढेरों मामले

Politics: हार्दिक पटेल ने कांग्रेस को 3 नवम्बर तक का समय दिया, जानिए क्या कहा!

पुलिस उपायुक्त एमएन तिवारी ने बताया कि गत 21 अक्तूबर को रणहौला निवासी दीपक अपने तीन अन्य दोस्तों के साथ इलाके में घूम रहा था। इसी दौरान उन लोगों ने स्कूटी सवार तीन बदमाशों को एक ऑटो चालक से लूटपाट करते देखा। चारों युवक लूटपाट का विरोध करने वहां पहुंचे, लेकिन बदमाश युवकों की आंख में मिर्च का पाउडर डालकर लूटपाट कर फरार हो गए। 

यूं चढ़े पुलिस के हत्थे  
वाहन चोरी निरोधक शाखा ने मामले की छानबीन शुरू की। इसी दौरान एक सूचना पर पुलिस की टीम ने रणहौला निवासी सूरज उर्फ फाइटर को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया। उसके पास से पुलिस ने दीपक का पर्स, एटीएम कार्ड, एक पिस्टल, मिर्च का स्प्रे और वारदात में इस्तेमाल स्कूटी बरामद कर ली। पुलिस ने उसकी निशानदेही पर उसके पड़ोस में रहने वाले उसके सहयोगी अनिल को भी गिरफ्तार कर लिया। सूरज के खिलाफ पहले से 24 मामले दर्ज हैं। मीडिया के सामने पेश करने पर सूरज ने गाना गाकर भी सुनाया। 

मुंबई के अच्छे परिवार से ताल्लुक रखता है सूरज
पुलिस की तफ्तीश में सामने आया कि सूरज मुंबई में रहने वाले एक अच्छे परिवार से ताल्लुक रखता है। उसके पिता मुंबई हाईकोर्ट में वकील हैं। सूरज को बचपन से ताइक्वांडो और गाने का शौक था। उसने कंप्यूटर इंजीनियरिंग में डिप्लोमा किया। साथ ही वह अपने खेल और गाने के शौक को भी पूरा करता रहा। वह वर्ष 2013 और 2014 में ताइक्वांडो का राष्ट्रीय चैंपियन बना। अपने गाने का शौक पूरा करने के लिए उसने इंडियन आयडल में भी हिस्सा लिया। गलत आदतों के कारण परिजनों ने उसे घर से निकाल दिया था।  

​14 दिन पहले ही जेल से निकला था  
जांच में पता चला कि सूरज 14 दिन पहले ही जेल से बाहर आया था। जेल में रहने के दौरान उसने अपना गिरोह बना लिया और बाहर निकलने के बाद वारदातों को अंजाम देने लगा। पुलिस के मुताबिक पहली बार उसे जनकपुरी थाना पुलिस ने वर्ष 2014 में लूटपाट के मामले में गिरफ्तार किया था। उसके पास से 49 मोबाइल फोन बरामद हुए थे। उसके बाद तिलक नगर थाना पुलिस ने जून 2017 में उसे गिरफ्तार किया था।  पुलिस अधिकारियों के मुताबिक सूरज को अच्छे कपड़े और जूते पहनने का शौक है। साथ ही वह महिला दोस्तों के साथ नाइट क्लबों में घूमता है। उसकी करीब आधा दर्जन गर्लफ्रेंड है। जिन पर वह रुपये लूटाता है। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक सूरज सिर्फ नाम ब्रांड का फिल्टर्ड पानी ही पीता है।

loading...

You May Also Like

English News