इंद्राणी ने कहा- कार्ति मामले में हूं गवाह, इसलिए मेरी जान को खतरा

शीना बोरा मर्डर केस के आरोप में जेल में बंद इंद्राणी मुखर्जी ने जान का खतरा बताया है. इंद्राणी मुखर्जी ने नागपाड़ा पलिस को एक नोट दिया है. इस नोट में कहा है कि क्योंकि वह कार्ति चिदंबरम मामले में गवाह हैं इसलिए उनकी जान को खतरा है. इंद्राणी ने मांग की है कि उन्हें किसी सेफ जगह पर भेजा जाए. नागपाड़ा पुलिस इस मामले में इंद्राणी का केस दर्ज करेगी.  शीना बोरा मर्डर केस के आरोप में जेल में बंद इंद्राणी मुखर्जी ने जान का खतरा बताया है. इंद्राणी मुखर्जी ने नागपाड़ा पलिस को एक नोट दिया है. इस नोट में कहा है कि क्योंकि वह कार्ति चिदंबरम मामले में गवाह हैं इसलिए उनकी जान को खतरा है. इंद्राणी ने मांग की है कि उन्हें किसी सेफ जगह पर भेजा जाए. नागपाड़ा पुलिस इस मामले में इंद्राणी का केस दर्ज करेगी.    हाल ही में इंद्राणी मुखर्जी को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. ड्रग ओवरडोज के कारण उनकी तबीयत काफी बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्हें अस्पताल लाया गया था. हालांकि, अब उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया है.  आपको बता दें कि शीना बोरा मर्डर केस की मुख्य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी आईएनएक्स मीडिया केस के मनी लॉन्ड्रिंग मामले में भी आरोपी हैं. वह 24 अप्रैल 2012 को अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या करने के आरोप में जेल में बंद हैं. उनके पति और मीडिया व्यापारी पीटर मुखर्जी भी इस केस में जेल में बंद हैं.  शीना बोरा की हत्या का मामला इंद्राणी के ड्राइवर श्यामवर राय की गिरफ्तारी के बाद सामने आया था. उसे पुलिस ने 21 अगस्त 2015 को गैरकानूनी ढंग से हथियार रखने के आरोप में गिरफ्तार किया था, लेकिन इससे शीना बोरा मर्डर केस सुलझ गया था.  श्यामवर राय की गिरफ्तारी के बाद मुंबई के तत्कालीन पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया ने शीना बोरा के केस को फिर से खोलने का आदेश दिया था. पूछताछ के दौरान ड्राइवर राय ने पुलिस को शीना की हत्या के बारे में बताया था. इसके बाद इस मामले में इंद्राणी, पीटर और खन्ना की गिरफ्तारी हुई थी.  यह केस सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया गया था. आईएनएक्स मीडिया केस की जांच के सिलसिले में कुछ दिनों पहले इंद्राणी और कार्ति चिदंबरम को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की गई थी. पूर्व गृह मंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति आईएनएक्स मीडिया केस में इस समय जमानत पर चल रहे हैं.

हाल ही में इंद्राणी मुखर्जी को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. ड्रग ओवरडोज के कारण उनकी तबीयत काफी बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्हें अस्पताल लाया गया था. हालांकि, अब उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया है.

आपको बता दें कि शीना बोरा मर्डर केस की मुख्य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी आईएनएक्स मीडिया केस के मनी लॉन्ड्रिंग मामले में भी आरोपी हैं. वह 24 अप्रैल 2012 को अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या करने के आरोप में जेल में बंद हैं. उनके पति और मीडिया व्यापारी पीटर मुखर्जी भी इस केस में जेल में बंद हैं.

शीना बोरा की हत्या का मामला इंद्राणी के ड्राइवर श्यामवर राय की गिरफ्तारी के बाद सामने आया था. उसे पुलिस ने 21 अगस्त 2015 को गैरकानूनी ढंग से हथियार रखने के आरोप में गिरफ्तार किया था, लेकिन इससे शीना बोरा मर्डर केस सुलझ गया था.

श्यामवर राय की गिरफ्तारी के बाद मुंबई के तत्कालीन पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया ने शीना बोरा के केस को फिर से खोलने का आदेश दिया था. पूछताछ के दौरान ड्राइवर राय ने पुलिस को शीना की हत्या के बारे में बताया था. इसके बाद इस मामले में इंद्राणी, पीटर और खन्ना की गिरफ्तारी हुई थी.

यह केस सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया गया था. आईएनएक्स मीडिया केस की जांच के सिलसिले में कुछ दिनों पहले इंद्राणी और कार्ति चिदंबरम को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की गई थी. पूर्व गृह मंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति आईएनएक्स मीडिया केस में इस समय जमानत पर चल रहे हैं.

You May Also Like

English News