इजरायल दौरे से पहले मोदी-नेतन्याहू का ब्लॉग- क्रॉस बॉर्डर आतंकवाद दोनों के लिए चुनौती

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को इजरायल दौरे पर रवाना होंगे. यह किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री का पहला इजरायली दौरा है, यही कारण है कि ये दौरा ऐतिहासिक हो जाता है. इजरायल रवाना होने से पहले पीएम मोदी ने इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के साथ मिलकर एक ब्लॉग लिखा है जिसमें उन्होंने इस दौरे की पूरी महत्ता को समझाया है.

इजरायल दौरे से पहले मोदी-नेतन्याहू का ब्लॉग- क्रॉस बॉर्डर आतंकवाद दोनों के लिए चुनौती

पढ़ें पीएम मोदी का पूरा ब्लॉग –

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया के लिए लिखे गए ब्लॉग में दोनों देशों के पीएम ने लिखा है कि इजरायल की ऐतिहासिक यात्रा आज से शुरू होगी, यह किसी भी भारतीय पीएम की पहली इजरायली यात्रा है. मैं और पीएम नेतन्याहू इससे पहले भी एक बार मिल चुके हैं, लेकिन यह पहली बार है कि हम दोनों इजरायल की धरती पर मिलेंगे. दोनों देशों के बीच कूटनीतिक रिश्तों को 25 साल पूरे हो रहे हैं, दोनों देशों के बीच की दोस्ती लगातार मजबूत होती गई है.

दोनों देश अपने अलग-अलग कल्चर, लोकतंत्र और ऐतिहासिक धरोहरों के साथ जीते हैं, हमारे सामने कई तरह की चुनौतियां हैं लेकिन इन सभी चुनौतियों का सामना हम साथ आकर कर सकते हैं. भारत में यहूदी समुदाय काफी समय पहले आए थे, और उन्हें कभी भी किसी मुश्किलों का सामना नहीं करना पड़ा.

भारत और इजरायल एक साथ आगे बढ़ रहे हैं, भारत दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था है वहीं इजरायल के पास काफी नई तकनीक है. दोनों देश अगर एक साथ आते हैं, तो खेती, पानी, सुरक्षा, प्रदूषण, शिक्षा जैसे कई हिस्सों में हमें काफी फायदा होगा. दोनों देश टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में काफी अहम योगदान कर सकते हैं, इसमें स्पेस-संचार-शिक्षा का महत्व ज्यादा है. दोनों देशों में पानी को लेकर काफी समस्या है, जिसे टेकनोलॉजी के माध्यम से सुलझाया जा सकता है.

आतंक से साथ लड़ेंगे 

भारत में मैन्यूफैक्चरिंग के क्षेत्र में मेक इन इंडिया काम कर रहा है लेकिन इजरायल ने इसे मेक विद इंडिया के साथ आगे बढ़ाया जो कि काफी स्वागत योग्य है. दोनों देश आतंकवाद को एक अहम समस्या मानते हैं हमें उम्मीद है कि दोनों देश आतंकवाद के खिलाफ एक साथ लड़ेंगे.

क्रॉस बॉर्डर आतंकवाद मुख्य समस्या

वहीं इजरायल के एक अखबार को इंटरव्यू के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि दोनों देशों के लिए क्रॉस बॉर्डर आतंकवाद एक मुख्य समस्या है. बॉर्डर के पार की शक्तियां हमारे देश की अखंडता को तोड़ने में लगी हुई है, जिसमें ये लोग धर्म का दुरुपयोग करते हैं, युवाओं और पूरे क्षेत्र को गलत रास्ते पर ले जाते हैं.

You May Also Like

English News