इन फिल्मों को बच्चों के सामने गलती से भी ना देखें…

2015 में आई एरोटिक हॉलीवुड फिल्म ’50 शेड्स ऑफ ग्रे’ का दूसरा पार्ट जल्द ही रिलीज होने वाला है। बोल्ड और एरोटिक कंटेंट होने के बावजूद भी इस फिल्म को इंडियन ऑडियंस ने पसंद किया।

यह फिल्म थिएटर्स से कहीं लोगों ने बंद कमरे में देखी। इसका कंटेंट कुछ ऐसा था जिसके फैमिली या पेरेंट्स के साथ देखने सेहत के लिए हानिकारक होता।

पीरियड आने पर यहां होता है जानवरों जैसा सलूक, प्राइवेट पार्ट से करते हैं…

वैसे, आमतौर पर हम कई फिल्में अकेले खूब एन्जॉय और पसंद करते हैं, लेकिन अगर वही फिल्म फैमिली के साथ देख ले तो हाय-तौबा मच जाए। एक नजर डालते हैं ऐसे ही फिल्मों पर जिन्हें फैमिली खासकर पेरेंट्स के साथ देखने के बारे में हम सोच भी नहीं सकते…

50 शेड्स ऑफ ग्रे (2015)
2015 में आई इस एरोटिक फिल्म को किसी ने भी फैमिली के साथ नहीं देखी होगी। डकोटा जॉनसन और जेमी डोरनन स्टारर इस फिल्म में BDSM की थीम पर आराधित थी। बोल्डनेस की सारी हदें पार करने वाली इस फिल्म ने बॉक्सऑफिस पर 3384 करोड़ रुपए का कलेक्शन किया था।
नेबर्स (2014)
निकोलस स्टोलर की कॉमेडी फिल्म ‘नेबर्स’ एक मिडिल एज कपल की कहानी हैं, जो जल्द ही अपने बेबी का वैलकम करने वाले होते हैं। इसी बीच उनके पड़ोस में ऐसे शख्स की एंट्री होती है, जो उनका जीना हराम कर देता है। फिल्म के एक सीन में कपल के नवजात बच्चे को कंडोम चबाते हुए दिखाया गया है।
अमेरिकन पाई सीरीज (1999-2012)
इस सीरीज की चार सेक्स कॉमेडी फिल्में अमेरिकन पाई (1999), अमेरिकन पाई 2 (2001), अमेरिकन वेडिंग (2003) और अमेरिकन री-यूनियन (2012) ने बॉक्सऑफिस पर दस्तक दी। स्कूल-कॉलेज के स्टूडेंट्स की लाइफ पर बेस्ड इस फिल्म में सेक्स कंटेंट को ऐसे परोसा किया कि इसे फैमिली के साथ देखने के बारे में कोई सोच भी नहीं सकते।

You May Also Like

English News