इन महिलाओं के साथ कभी नहीं बनाने चाहिए शारीरिक संबंध, जानिए कौन हैं वह महिलाएं?

शादी का फैसला जीवन का सबसे महत्वपूर्ण फैसला होता है. यह निर्णय दो लोगों की जिंदगी बदल देता है. सही साथी का चुनाव सबसे मुश्किल काम होता है. यदि आप लव मैरिज कर रहे हैं तो ठीक वर्ना अरेंज मैरिज करने वालों के लिए सही साथी का चुनाव करना बहुत चुनौतीपूर्ण होता है. गलत इंसान के साथ शादी हो जाने पर व्यक्ति मन ही मन किलस्ता रहता है और आखिरी में किसी गलत काम को अंजाम दे देता है. वह बाहरी लोगों में अपनी खुशी ढूंढने लगता है. कई बार तो वह नाजायज़ संबंध बनाने से भी नहीं चूकता. लेकिन शास्त्रों की मानें तो कुछ स्त्रियों से पुरुषों को भूलकर भी शारीरिक संबंध स्थापित नहीं करने चाहिए. कौन हैं वह स्त्रियां आईये जानते हैं.

अविवाहित स्त्री

शास्त्रों की मानें तो एक पुरुष को कभी भी एक अविवाहित स्त्री से संबंध नहीं बनाना चाहिए. इसे पाप का दर्जा दिया गया है. एक पुरुष को शादी करने के बाद ही एक स्त्री से शारीरिक संबंध बनाना चाहिए. यदि कोई व्यक्ति जोर ज़बरदस्ती या कुंवारी लड़की से संबंध बनाता है, तो उसे उसके साथ ही शादी भी करनी चाहिए.

विधवा स्त्री

पुरुष को विधवा स्त्री से भूलकर भी संबंध नहीं बनाना चाहिए. यदि ग़लती से यह हो भी जाए तो उसे फ़ौरन उस स्त्री से विवाह कर लेना चाहिए. शास्त्रों में ऐसे संबंधों को घोर पाप बताया गया है.

ब्रह्माचर्य का पालन कर रही स्त्री

ब्रहमाचार्य का पालन कर रही स्त्री या फिर ऐसी स्त्री जो कि कठोर तपस्या में लीन हो, भूलकर भी संबंध नहीं बनाना चाहिए. ऐसा करने पर स्त्री की तपस्या भंग होगी जिस वजह से आप महापाप के भागी बन जाएंगे.

दोस्त की पत्नी

अपनी दोस्त की पत्नी के बारे में ग़लत सोचना या उस पर बुरी नज़र रखना बहुत ग़लत है. दोस्त की पीठ पीछे उसकी पत्नी से संबंध बनाना पाप के समान है. दोस्त की पत्नी को हमेशा इज्ज़त देनी चाहिए.

दुश्मन की पत्नी

दुश्मन की पत्नी को कभी भी अपने करीब नहीं लाना चाहिए. उसके साथ किसी भी प्रकार का संपर्क या फिर शारीरिक संबंध पाप के बराबर है. ऐसी स्त्री को अनदेखा कर देना चाहिए नहीं तो आगे जाकर भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है.

शिष्य की पत्नी    

गुरु और शिष्य का रिश्ता बहुत पवित्र होता है. इसलिए ओहदे में खुद से नीचे की या अपने शिष्य की पत्नी के साथ कभी शारीरिक संबंध नहीं स्थापित करने चाहिए. शास्त्रों में इसे महापाप का दर्जा दिया गया है.

नशे में डूबी स्त्री

नशे में डूबी स्त्री से कभी भी संबंध स्थापित नहीं करना चाहिए. जिस स्त्री ने किसी कारण से अपने होश खो दिए हों उसके साथ संबंध बनाने से बचें. नशे में फायदा उठाने वाला व्यक्ति महापापी कहलाता है.

 

You May Also Like

English News