इमरान खान को बनानी होगी गठबंधन सरकार, अभी भी अधिकृत नतीजों का इंतजार

पाकिस्तान में बुधवार को हुए आम चुनावों में क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान अहमद खान नियाजी (65) की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआइ) को 118 सीटें हासिल हुई हैं। दो सीटों पर मतगणना अभी जारी है और दोनों पर उनकी पार्टी आगे चल रही है।पाकिस्तान में बुधवार को हुए आम चुनावों में क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान अहमद खान नियाजी (65) की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआइ) को 118 सीटें हासिल हुई हैं। दो सीटों पर मतगणना अभी जारी है और दोनों पर उनकी पार्टी आगे चल रही है।  272 सदस्यीय नेशनल असेंबली की 270 सीटों के लिए चुनाव कराए गए थे, लिहाजा सरकार बनाने के लिए इमरान खान को 136 सीटों की दरकार होगी। बढ़त वाली दोनों सीटें जीतने के बावजूद उन्हें बहुमत के लिए 16 सदस्यों के समर्थन की जरूरत होगी। ऐसे में अन्य पार्टियों से गठबंधन करना उनकी मजबूरी है।  पाकिस्तान चुनाव आयोग ने अभी नतीजों की औपचारिक घोषणा नहीं की है, लेकिन चुनाव अधिकारियों के मुताबिक, पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) नेशनल असेंबली में 62 सीटें हासिल कर दूसरे स्थान पर है। जबकि पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो के पुत्र बिलावल भुट्टो के नेतृत्व वाली पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) 43 सीटें हासिल कर तीसरे स्थान पर है।  उधर, स्पष्ट बहुमत के अभाव में पीटीआइ ने समर्थन जुटाने की कवायद शुरू कर दी है। हालांकि उसकी सहयोगी पीएमएल-क्यू को पांच सीटें हासिल हुई हैं और छह सीटें जीतने वाली मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट (एमक्यूएम) ने पहले ही इमरान को समर्थन पर रजामंदी दे दी है। लिहाजा, पीटीआइ ने बहुमत का आंकड़ा जुटाने के लिए सबसे पहले 12 निर्दलीय सदस्यों से संपर्क किया है।  पार्टी को विश्वास है कि देश का 19वां प्रधानमंत्री बनने के लिए इमरान खान को उनका समर्थन प्राप्त हो जाएगा। बता दें कि पाकिस्तान की नेशनल असेंबली की कुल सदस्य संख्या 342 है, लेकिन प्रत्यक्ष चुनाव सिर्फ 272 सीटों पर कराया जाता है। जबकि 70 सीटें निर्वाचित सीटों के अनुपात में विभिन्न पार्टियों को हासिल होती हैं। इस तरह इमरान खान की पार्टी को बहुमत के लिए 171 सदस्यों के समर्थन की जरूरत होगी।  इमरान की सुरक्षा बढ़ी-  पाकिस्तान का अगला प्रधानमंत्री बनने जा रहे इमरान खान को वीवीआइपी सिक्योरिटी प्रोटोकॉल प्रदान किया गया है। यह सुरक्षा पाकिस्तान में सरकार के प्रमुख को मुहैया कराई जाती है।  सरकार गठन पर चर्चा-  इमरान खान के बानी गाला आवास पर शुक्रवार को पीटीआइ के वरिष्ठ नेताओं की एक बैठक हुई। बताते हैं कि इसमें इमरान को भरोसा दिलाया गया कि पार्टी को आवश्यक समर्थन हासिल हो जाएगा। बैठक में मंत्रिमंडल गठन पर भी चर्चा हुई।  सेना ने किया ट्वीट-  पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा कि अल्लाह जिन्हें चाहता है उन्हें ही इज्जत बख्शता है। सेना के इस ट्वीट को सोशल मीडिया पर इमरान को समर्थन की पुष्टि के तौर पर देखा जा रहा है।  विपक्ष में बैठेगी पीएमएल-एन-  पीएमएल-एन ने अपनी कार्यसमिति की बैठक में विपक्ष में बैठने का फैसला किया है। पार्टी का कहना है कि वह मजबूत विपक्ष की भूमिका निभाएगी।  पंजाब प्रांत में भी पीटीआइ सरकार के आसार-  नेशनल असेंबली के साथ-साथ बुधवार को पाकिस्तान के चारों प्रातों में भी चुनाव कराए गए थे। अब तक पीएमएल-एन के प्रभुत्व में रहे पंजाब प्रांत की 297 सीटों में से पार्टी को इस बार सिर्फ 127 सीटें हासिल हुई हैं। जबकि इमरान की पीटीआइ को 123 और उसकी सहयोगी पीएमएल-क्यू को सात सीटें मिली हैं। निर्दलियों को यहां 29 सीटें मिली हैं और यहां सरकार गठन में उनकी भूमिका अहम हो गई है। हालांकि 18 निर्दलियों ने इमरान का समर्थन करने का फैसला कर लिया है, लिहाजा यहां भी पीटीआइ की सरकार बनने के आसार हैं।  सिंध में पीपीपी को स्पष्ट बहुमत-  सिंध प्रांत में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) को स्पष्ट बहुमत हासिल हो गया है। प्रांत के 131 सदस्यीय असेंबली में पार्टी को 74, पीटीआइ को 22 और एमक्यूएम को 16 सीटें मिली हैं।  खैबर पख्तूनवा में पीटीआइ को दो तिहाई बहुमत-  खैबर पख्तूनवा प्रांत में इमरान खान की पार्टी पीटीआइ को दो तिहाई बहुमत मिला है। 99 सदस्यीय असेंबली में पार्टी ने 66 सीटें हासिल की हैं। 10 सीटें पाने वाली मुत्ताहिदा मजलिस ए अमल (एमएमए) यहां दूसरे स्थान पर रही।  बलूचिस्तान में त्रिशंकु असेंबली-  बलूचिस्तान में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है। नवगठित बलूचिस्तान आवामी पार्टी (बीएपी) को 51 सदस्यीय असेंबली में सर्वाधिक 13 सीटें मिली हैं। जबकि एमएमए को नौ, बलूचिस्तान नेशनल पार्टी और निर्दलियों को पांच-पांच और पीटीआइ को चार सीटें मिली हैं।

272 सदस्यीय नेशनल असेंबली की 270 सीटों के लिए चुनाव कराए गए थे, लिहाजा सरकार बनाने के लिए इमरान खान को 136 सीटों की दरकार होगी। बढ़त वाली दोनों सीटें जीतने के बावजूद उन्हें बहुमत के लिए 16 सदस्यों के समर्थन की जरूरत होगी। ऐसे में अन्य पार्टियों से गठबंधन करना उनकी मजबूरी है।

पाकिस्तान चुनाव आयोग ने अभी नतीजों की औपचारिक घोषणा नहीं की है, लेकिन चुनाव अधिकारियों के मुताबिक, पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) नेशनल असेंबली में 62 सीटें हासिल कर दूसरे स्थान पर है। जबकि पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो के पुत्र बिलावल भुट्टो के नेतृत्व वाली पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) 43 सीटें हासिल कर तीसरे स्थान पर है।

उधर, स्पष्ट बहुमत के अभाव में पीटीआइ ने समर्थन जुटाने की कवायद शुरू कर दी है। हालांकि उसकी सहयोगी पीएमएल-क्यू को पांच सीटें हासिल हुई हैं और छह सीटें जीतने वाली मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट (एमक्यूएम) ने पहले ही इमरान को समर्थन पर रजामंदी दे दी है। लिहाजा, पीटीआइ ने बहुमत का आंकड़ा जुटाने के लिए सबसे पहले 12 निर्दलीय सदस्यों से संपर्क किया है।

पार्टी को विश्वास है कि देश का 19वां प्रधानमंत्री बनने के लिए इमरान खान को उनका समर्थन प्राप्त हो जाएगा। बता दें कि पाकिस्तान की नेशनल असेंबली की कुल सदस्य संख्या 342 है, लेकिन प्रत्यक्ष चुनाव सिर्फ 272 सीटों पर कराया जाता है। जबकि 70 सीटें निर्वाचित सीटों के अनुपात में विभिन्न पार्टियों को हासिल होती हैं। इस तरह इमरान खान की पार्टी को बहुमत के लिए 171 सदस्यों के समर्थन की जरूरत होगी।

इमरान की सुरक्षा बढ़ी-

पाकिस्तान का अगला प्रधानमंत्री बनने जा रहे इमरान खान को वीवीआइपी सिक्योरिटी प्रोटोकॉल प्रदान किया गया है। यह सुरक्षा पाकिस्तान में सरकार के प्रमुख को मुहैया कराई जाती है।

सरकार गठन पर चर्चा-

इमरान खान के बानी गाला आवास पर शुक्रवार को पीटीआइ के वरिष्ठ नेताओं की एक बैठक हुई। बताते हैं कि इसमें इमरान को भरोसा दिलाया गया कि पार्टी को आवश्यक समर्थन हासिल हो जाएगा। बैठक में मंत्रिमंडल गठन पर भी चर्चा हुई।

सेना ने किया ट्वीट-

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा कि अल्लाह जिन्हें चाहता है उन्हें ही इज्जत बख्शता है। सेना के इस ट्वीट को सोशल मीडिया पर इमरान को समर्थन की पुष्टि के तौर पर देखा जा रहा है।

विपक्ष में बैठेगी पीएमएल-एन-

पीएमएल-एन ने अपनी कार्यसमिति की बैठक में विपक्ष में बैठने का फैसला किया है। पार्टी का कहना है कि वह मजबूत विपक्ष की भूमिका निभाएगी।

पंजाब प्रांत में भी पीटीआइ सरकार के आसार-

नेशनल असेंबली के साथ-साथ बुधवार को पाकिस्तान के चारों प्रातों में भी चुनाव कराए गए थे। अब तक पीएमएल-एन के प्रभुत्व में रहे पंजाब प्रांत की 297 सीटों में से पार्टी को इस बार सिर्फ 127 सीटें हासिल हुई हैं। जबकि इमरान की पीटीआइ को 123 और उसकी सहयोगी पीएमएल-क्यू को सात सीटें मिली हैं। निर्दलियों को यहां 29 सीटें मिली हैं और यहां सरकार गठन में उनकी भूमिका अहम हो गई है। हालांकि 18 निर्दलियों ने इमरान का समर्थन करने का फैसला कर लिया है, लिहाजा यहां भी पीटीआइ की सरकार बनने के आसार हैं।

सिंध में पीपीपी को स्पष्ट बहुमत-

सिंध प्रांत में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) को स्पष्ट बहुमत हासिल हो गया है। प्रांत के 131 सदस्यीय असेंबली में पार्टी को 74, पीटीआइ को 22 और एमक्यूएम को 16 सीटें मिली हैं।

खैबर पख्तूनवा में पीटीआइ को दो तिहाई बहुमत-

खैबर पख्तूनवा प्रांत में इमरान खान की पार्टी पीटीआइ को दो तिहाई बहुमत मिला है। 99 सदस्यीय असेंबली में पार्टी ने 66 सीटें हासिल की हैं। 10 सीटें पाने वाली मुत्ताहिदा मजलिस ए अमल (एमएमए) यहां दूसरे स्थान पर रही।

बलूचिस्तान में त्रिशंकु असेंबली-

बलूचिस्तान में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है। नवगठित बलूचिस्तान आवामी पार्टी (बीएपी) को 51 सदस्यीय असेंबली में सर्वाधिक 13 सीटें मिली हैं। जबकि एमएमए को नौ, बलूचिस्तान नेशनल पार्टी और निर्दलियों को पांच-पांच और पीटीआइ को चार सीटें मिली हैं।

You May Also Like

English News