इवांका ने ट्रंप के जीतते ही मांग लिया उनका हक, कहा- अगली राष्ट्रपति मैं

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर नई किताब सामने आ रही है. इसमें ऐसी संभावना व्यक्त की जा रही है कि उनकी बेटी इवांका ट्रंप अमेरिका की राष्ट्रपति बनने की दौड़ में शामिल हो सकती हैं. किताब में इस बात का जिक्र है कि ट्रंप के जीतते ही इवांका ने अपने पति से कहा था- अगली राष्ट्रपति मैं बनूंगी. बता दें कि अभी इवांका ट्रंप की सलाहकारा हैं.इवांका ने ट्रंप के जीतते ही मांग लिया उनका हक, कहा- अगली राष्ट्रपति मैंइवांका ने ट्रंप के जीतते ही मांग लिया उनका हक, कहा- अगली राष्ट्रपति मैं

कैसे लगाया जा रहा है अनुमान

अमेरिकी पत्रकार माइकल वॉल्फ की किताब आने वाली है. इस किताब का नाम ‘फायर एंड फरी : इनसाइड द ट्रंप वाइट हाउस’ है. इसी में जिक्र है कि कैसे ट्रंप के जीतने के बाद इवांका ने अपने पति के सामने ये बात कही थी. उन्होंंने कहा था- अब अमेरिकी की अगली राष्ट्रपति मैं बनूंगी. अपने पति कुश्नर से कहा था- अमेरिकी की पहली महिला राष्ट्रपति तो मैं बनूंगी, हिलेरी नहीं. कुश्नर इसके लिए राजी भी हो गए थे. और उन्होंने तय भी कर लिया कि अगर ऐसा मौका आता है तो वह इवांका को ही प्राथमिकता देंगे. बता दें कि पत्रकार माइकल वॉल्फ ने लंबा समय डोनाल्ड ट्रंप और उसके परिवार के साथ गुजार है. हालांकि, व्हाइट हाउस ने किताब के ज्यादातर दावों को खारिज कर दिया है.

नई किताब में और भी कई दावें

1. इसमें लिखा है कि ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति नहीं बनना चाहते थे, बल्कि टेलीविजन की दुनिया में अपना करियर बनाना चाहते थे. लेकिन अपने दोस्त की सलाह पर वो राष्ट्रपति के उम्मीदवार बने. उनके दोस्त और पूर्व फॉक्स न्यूज प्रमुख रोजर एलिस ने उनसे कहा कि अगर तुम टीवी में अपना करियर बनाना चाहते हो तो राष्ट्रपति पद के लिए खड़े हो जाओ.

2. राष्ट्रपति उम्मीदवार बनते ही ट्रंप ने H1B वीजा का विरोध शुरू कर दिया था, लेकिन इससे पहले उन्होंने मीडिया मुगल रुपट मर्डोक से फोन पर कहा था कि H1B वीजा अमेरिका के लिए अच्छा है, इससे बेहतर कामगार आते हैं. जिसकी अमेरिका को जरुरत भी है. 

3. ट्रंप पर देशद्रोह का भी आरोप लगा था, क्योंकि ट्रंप के पूर्व रणनीतिकार स्टीव बेनन को कोट करते हुए इसमें लिखा है कि उनके बेटे और दामाद चुनाव अभियान के दौरान रुसी वकील से मिले. और इस आरोप पर ट्रंप ने कहा था कि बेनन को नौकरी से निकाल दिया गया था, जिसकी वजह से वह पागल हो चुके हैं.

आपको बता दें कि इस किताब को लिखने वाले लेखक पहले 18 महीने ट्रंप के साथ रहे और ट्रंप के आसपास रहने वाले लोगों से मिले, उनसे बातचीत की. और इस आधार पर यह नई किताब लिखी गई है.

You May Also Like

English News