इस कड़ाके की ठंड में भी ‘गर्म’ हुआ लंबी

लंबी। पंजाब विधानसभा चुनाव के कारण भीषण शीतलहर के बावजूद लंबी क्षेत्र गर्म है। यहां से राज्य की राजनीति के दो दिग्गजों के आमने-सामने आने से पूरा माहौल गर्म हाे गया है। पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के अपना नामांकन पत्र दाखिल कर मुख्यमंत्री एवं शिअद प्रत्याशी प्रकाश सिंह बादल के खिलाफ ताल ठोक दी है।

पंजाब विधानसभा चुनाव

सिद्धू ने भरा अमृतसर ईस्‍ट से नामांकन, कहा- कोई निजी लड़ाई नहीं

मौजूदा मुख्यमंत्री एवं पूर्व मुख्यमंत्री के आमने-सामने विधानसभा चुनाव मैदान में होने की प्रदेश के इतिहास में पहली बार हुई इस प्रकार की चुनौतीपूर्ण घटना के साथ कड़ाके की इस सर्दी के बीच लंबी में सियासी गर्मी लगतार बढ़ रही है। कैप्टन अमरिंदर सिंह लंबी में मुख्यमंत्री बादल के खिलाफ दहाड़ें मार रहे थे तो वहीं दूसरी ओर मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल भी लंबी हलके के ही विभिन्न गांवों में कैप्टन अमरिंदर सिंह को कभी धाड़वी तो कभी बाहरी हमलावर कहकर उन्हें सबक सिखाने का लोगों से आह्वान कर रहे थे।

बादलों ने कराया बरगाड़ी का बेअदबी कांड : अमरिंदर

पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए मलोट के मिमिट में लंबी के चुनाव अधिकारी अनमोलदीप सिंह धालीवाल को अपना नामांकन पत्र सौंपने के बाद विभिन्न गांवों में रोड शो करते हुए कैप्टन अमरिंदर लंबी पहुंचे। लंबी में बस स्टैंड के नजदीक अपने कार्यालय के उद्घाटन के बाद उन्होंने बाबा मान सिंह स्टेडियम में जनसभा को किया।

पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए ताल ठोंकते हुए कैप्टन ने आरोप लगाया कि बरगाड़ी में श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी बादलों ने खुद कराई है, ताकि बिखरी हुई सिख कौम को इकट्ठा कर चुनाव में इसका लाभ लिया जा सके, लेकिन दांव उल्टा पड़ गया। इतना ही नहीं बादल ने 1977-78 में भी गुरुद्वारों में बीडिय़ों व सिगरेटों के टुकड़े फिंकवाए थे। साथ ही मंदिरों में गायों की पूंछें काटकर फिंकवाई थीं।

कैप्टन ने कहा कि श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। कांग्रेस के सत्ता में आते ही इस कांड की जांच करवाकर बादलों को अंदर करेंगे। अकाल पुरख भी बादलों को इस कांड के लिए कभी माफ नहीं करेगा। वैसे तो बादल जब विधानसभा चुनाव हारेंगे खुद ही लंबी से चले जाएंगे। फिर भी चुनाव में सब लोग एक होकर उन्हें कहें कि हुण तूं चल ऐथों …।

कैप्टन ने कहा कि उन्होंने खुद कांग्रेस हाईकमांन से लंबी से विधानसभा चुनाव लडऩे देने की अपील की थी, ताकि बादलों को मांजा फेरा जा सके। अब वह यहां आ गए हैं और बादलों को लंबी से निकालकर ही दम लेंगे। दुष्टों को ठीक करना केवल उन्हें ही आता है। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि वह इस क्षेत्र के नेता दियाल सिंह कोलियांवाली सहित अन्य स्थानीय नेताओं को सत्ता में आने के 24 घंटे में ही सलाखों के अंदर पहुंचाएंगे।

जूतियां मारने व चुटकलों से नहीं चलती सरकार

पंजाब विधानसभा चुनाव में दम आजमा रही आम आदमी पार्टी पर बरसते हुए कैप्टन ने उसके प्रत्याशी जरनैल सिंह का नाम लेते हुए कहा कि किसी को जूतियां मारने से सरकारें नहीं चलतीं। भगवंत मान और गुरप्रीत सिंह वड़ैच पर व्यंग्य करते हुए कैप्टन ने कहा कि क्या वे चुटकलों के साथ सरकार चलाएंगे। दिल्ली में इनकी सरकार का हाल देख लें। 19 विधायक जेल में हैं।

अमरिंदर ने कहा कि आप ने पंजाब में चुनाव प्रबंधन के लिए 22 लोग बिहार से मंगवाएं हैं। इसी तरह अब 50 हजार लोग विभिन्न राज्यों से पोलिंग बूथों पर लगाने के लिए बुलाए जा रहे हैं। क्या पंजाब में आप वालों को लोग नहीं मिल रहे।

PM मोदी ने नोटबंदी का बम फेंककर हिंदुस्तान को हिरोशिमा, नागासाकी बना डाला

चिट्टे से मरे युवक के घर गए कैप्टन

जनसभा से पहले कैप्टन लंबी में नशे के कारण मारे गए हरिंदर सिंह के घर पर भी गए। हरिंदर की कुछ समय पहले चिट्टे के कारण से मौत हो गई थी। उन्होंने हरिंदर के परिजनों से हमदर्दी जताई। इस मौके पर पंजाब कांग्रेस की प्रभारी आशा कुमारी, रणइंदर सिंह, राजा वडि़ंग, महेशइंद्र बादल के अलावा कई मालवा क्षेत्र से कई अन्य प्रत्याशी भी मौजूद थे।

कैप्टन के ताल ठोकने के बाद बढ़े बादल के दौरे

लंबी के पंजाब चुनाव के रण में कैप्टन अमरिंदर सिंह के ताल ठोकने के बाद मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के हलके में दौरों की गिनती भी बढ़ गई है। पिछले सप्ताह तीन दिन का दौरा करने के बाद बादल का इस सप्ताह दो दिन का कार्यक्रम था, जो बढ़कर तीन दिन का हो गया।

मुख्यमंत्री ने बुधवार को लंबी हलके के गांव राणीवाला, असपालां, सरावां बोदला, कबरवाला, कट्टियंवाली, पक्की, गुरुसर, डबवाली ढाब, बुर्ज सिद्धवां, शामखेड़ा, कर्मगढ़, भगवानपुरा आदि गांवों में चुनावी जनसभाएं करके लोगों से कैप्टन अमरिंदर सिंह को उनकी जमानत जब्त करवाकर सबक सिखाने का आह्वान किया। उन्होंने कैप्टन अमरिंदर और साथ में ही आप के प्रत्याशी जरनैल सिंह को भी कभी धाड़वी तो कभी बाहरी शक्तियां करार दिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब विधानसभा चुनाव में इन लोगों को लंबी हलके में भेजकर लंबी के लोगों की गैरत को ललकारा है। उन्होंने कैप्टन व झाड़ू वालों से सचेत रहने की अपील करते हुए कहा कि आपणा मारू तां छांवे सिट्टू। बादल ने कहा कि कांग्रेस को पता नहीं मेरे साथ क्या दुश्मनी है।

यह भी पढ़ें: पंजाब विधानसभा चुनाव: लंबी आएं कैप्टन, सिपाही बना कर भेज देंगे : सुखबीर

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने पंजाब का आर्थिक व सामाजिक तौर पर ही नहीं, धार्मिक तौर पर भी भारी नुकसान किया है। सबसे बड़ा नुकसान श्री हरिमंदिर साहिब पर हमला कर किया है। इस हमले के दौरान श्री अकाल तख्त साहिब को तबाह कर दिया गया और श्री गुरु ग्रंथ साहिब को गोलियां तक मारी गईं।

पंजाब विधानसभा चुनाव की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि 1984 में दिल्ली में हजारों का सिखों का कत्लेआम किया। सिखों पर पेट्रोल एवं गलों में टायर डालकर आग लगाकर मारा गया। बुद्धिजीवी लोगों ने प्रधानमंत्री के पास जाकर जब यह नरसंहार का मुद्दा उठाया तो कहा गया कि जब बड़ा दरख्त गिरता है तो ऐसे ही होता है।

सिद्धू को दलबदलू करार दिया

नवजोत सिंह सिद्धू को दलबदलू करार देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उसके लिए उन्होंने क्या नहीं किया। उसकी पत्नी तक को मंत्री बनाया। अब विधानसभा चुनाव में इसने पाला बदल लिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र में अपनी सरकार बन चुकी है। इसलिए अब पंजाब में फिर से अपनी सरकार बनाएं ताकि अधूरे काम पूरे हो सकें। उन्होंने कहा कि काम करते समय कुछ काम बीच में भी रह जाते हैं। इसलिए फिलहाल ऐसी बातों का गुस्सा करने का समय नहीं है। ऐसी बातों को भूलकर एकजुट हो बाहरी शक्तियों का मुकाबला करें।

 

You May Also Like

English News