इस चीज से रजनीकांत को लगता है डर, जानिए किसने उन्हें कहा ‘अनपढ़’

तमिल सुपरस्टार रजनीकांत ने राजनीति में एंट्री का ऐलान कर दिया है. वे अब नई पार्टी बनाएंगे. इस मौके पर उन्होंने कहा- ‘मैं राजनीति में आने से नहीं डरता हूं, लेकिन मीडिया से डरता हूं. मैं इस संबंध में अभी बच्चा हूं. मुझे मीडिया को लेकर अधिक एक्टिव और अलर्ट रहना होगा.’ आइए जानते हैं रजनीकांत के राजनीति में आने से जुड़ी खास बातें…इस चीज से रजनीकांत को लगता है डर, जानिए किसने उन्हें कहा 'अनपढ़'
 तीन तलाक पर पार्टियों के रवैये से मुस्लिम हैरान, दूर रहने की दी सलाह…

रजनीकांत ने भले आज राजनीति में आने का ऐलान किया हो, लेकिन वे पहले से राजनीतिक रूप से सक्रिय माने जाते हैं. कई बार वे राजनीतिक दलों को समर्थन देने का ऐलान करते रहे हैं. वहीं, जयललिता से भी उनके टकराव की खबरें आती थी.
 

बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने रजनीकांत के राजनीति में आने के मौके पर उन्हें ‘अनपढ़’ करार दिया है. उन्होंने कहा- ‘रजनीकांत के पास भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए कोई साफ एजेंडा नहीं है. यह एक मजाक है कि नया सुपरस्टार राजनीति में आ रहा है.’
 

फैंस से मुलाकात के बाद रजनीकांत ने श्री राघवेंद्र कल्याण मंडपम में कहा, ‘मेरा राजनीति में आना तय है. मैं अब राजनीति में आ रहा हूं. यह आज की सबसे बड़ी जरूरत है.’
 

रजनीकांत आगे कहा कि वह अपनी नई राजनीतिक पार्टी बनाएंगे. उन्होंने घोषणा की कि अगले विधानसभा चुनावों में वह राज्य की सभी विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े करेंगे. रजनीकांत ने कहा, ‘मेरी पार्टी के तीन मंत्र होंगे, सच्चाई, मेहनत और विकास’.
 

रजनीकांत ने यह भी कहा, ‘राजनीति की दशा काफी खराब हो गई है. सारे राज्य हमारा मजाक बना रहे हैं. अगर मैं राजनीति में नहीं आता हूं तो यह लोगों के साथ धोखा होगा.’
 

रजनीकांत ने आगे कहा कि आज राजनीति के नाम पर नेता हमसे हमारा पैसा लूट रहे हैं और अब इस राजनीति को जड़ से बदलने की जरूरत है.
 

दक्षिण भारत के जानेमाने फिल्म अभिनेता ने कहा, ‘जहां भी सत्ता का दुरुपोयग होगा, मैं उसके खिलाफ खड़ा रहूंगा. उन्होंने कहा कि आज चारों ओर भ्रष्टाचार है और राजनीति का सिर्फ नाटक हो रहा है.’
 

इसी साल मई में रजनीकांत ने कहा था- ‘ईश्वर ने चाहा तो वो राजनीति में उतर सकते हैं’. यह सुनकर उनके फैन्स काफी खुश हुए थे.
 

इससे पहले रजनीकांत ने सिस्टम बदलने को लेकर भी बात कही थी. एक बार रजनीकांत ने कहा था- तमिलनाडु की राजनीति में अच्छे लोग तो हैं, लेकिन राज्य की राजनीति बुरी हालत में है, सिस्टम में कुछ गड़बड़ी है, हमें इसे बदलने की जरूरत है.
 

रजनीकांत 23 साल तक कर्नाटक में रहे हैं, लेकिन 44 साल तमिलनाडु में रहे हैं. तमिलनाडु ने उन्हें काफी अधिक लोकप्रियता दी है और वे खुद को तमिल ही मानते हैं.
 

कई लोगों को उम्मीद थी कि रजनीकांत धांसू तरीके से राजनीति में एन्ट्री करेंगे.
 

रजनीकांत एक मैच के दौरान अभिनेता आमिर खान के साथ बैठे हुए.

You May Also Like

English News