इस तरह से मेट्रो स्टेशनों की रिमॉडलिंग कर रहा DMRC…

दिल्ली मेट्रो नेटवर्क विस्तार के साथ यात्रियों की संख्या भी तेजी से बढ़ी है। इसका सबसे ज्यादा असर मेट्रो स्टेशन पर दिखता है। कई मेट्रो स्टेशन पर दिन भर भीड़ रहती है। पीक आवर्स में चलना आसान नहीं रहता। ऐसे में  दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन स्टेशनों की रि इंजीनियरिंग कर उसमें बदलाव कर रही है।इससे यात्रियों को यात्रा के दौरान दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा। इस तरह से मेट्रो स्टेशनों की रिमॉडलिंग कर रहा DMRC...

Rape: इस हैवान ने 100 साल की बुजुर्ग महिला से किया रेप, इलाज के दौरान महिला की मौत!

मेट्रो ने अभी तक  स्टेशनों की रिमॉडलिंग के जरिए नई दिल्ली, चांदनी चौक, राजीव चौक, वैशाली (गाजियाबाद) हूडा सिटी सेंटर जैसे स्टेशनों के डिजाइन में बदलाव कर चुकी है। वहीं ऐसे ही करीब 17 स्टेशनों पर अभी रिमॉडलिंग को लेकर काम चल रहा है। इसमें दिल्ली के अलावा एनसीआर के स्टेशन भी शामिल है। यह बदलाव भीड़ का सर्वे करने और आने वाली दिक्कतों को ध्यान में रखकर किया जा रहा है। 

डीएमआरसी के एक अधिकारी के मुताबिक, भीड़ हमेशा एक जैसी नहीं होती। भीड़ बढने साथ स्टेशनों की री-इंजीनियरिंग की जरूरत पड़ती है। किसी निकास गेट पर भीड़ बढ़ जाती है तो किसी पर कम होती है। उस ट्रैफिक प्रेशर को ध्यान में रखकर उसका बदलाव किया जाता है। ऐसे कई स्टेशनों पर जहां भीड़ बढ़ी है वहां के ट्रैफिक पैटर्न का अध्ययन करने के बाद यह बदलाव किया जा रहा है। 

मसलन, वैशाली पर पहले टिकट काउंटर सिक्योरिटी चेक प्वाइंट एक जगह ही पहली मंजिल (कॉनकोर्स एरिया) पर था। इससे कई बार भीड़ होने के साथ लंबी कतारें हो जाती थी। अब वैशाली पर टिकट काउंटर्स को पहली मंजिल से शिफ्ट करके ग्राउंड फ्लोर पर बाहर कर दिया गया है। इससे भीड़ दो जगह बंट गई। 

इसी तरह नई दिल्ली स्टेशन पर पहले बैरिकेड लगाकर रेलवे स्टेशन व एयरपोर्ट मेट्रो लाइन पर जाने वाली भीड़ को बांटा जाता था अब वहां अलग-अलग रैंप बनाया गया है टिकट काउंटर को वहां से हटा दिया गया है। लक्ष्मी नगर स्टेशन पर भीड़ को देखते हुए वहां का सिक्योरिटी चेक प्वाइंट शिफ्ट करने की तैयारी है। फिलहाल दिल्ली में 218 किलोमीटर का नेटवर्क परिचालन में है। रोजाना इसपर करीब 28 लाख लोग सफर करते है।

loading...

You May Also Like

English News