इस फल से वापस पा सकते हैं आप अपने सर पर बाल

सीताफल एक बड़ा ही स्वादिष्ट फल है जिसकी खूबियों के बारे में आयुर्वेद में भी वर्णन है। ऐसी मान्यता है कि सीता ने वनवास के समय श्रीराम को यह भेंट किया था काले घने बाल हर किसी को पसंद होते हैं, लेकिन आजकल की दौड़ती-भागती लाइफ में अकसर लोग अपने बालों पर उतना ध्यान नहीं दे पाते जितना अपने ड्रेसिंग स्टाइल पर देते हैं, ऐसे में उन्हें बाल झड़ने और बालों के टूटने की समस्या का सामना करना पड़ता है।

इस फल से वापस पा सकते हैं आप अपने सर पर बाल

आज के समय में बाल सफेद होना, झडऩा या गंजापन आम बीमारी बन चुका है। इस समस्या से दुनिया में ज्यादातर लोग जूझ रहे हैं। लेकिन इसका भी एक उपाय है और वो है सीताफल। जी हां, इस फल के सेवन से बॉडी में कई फायदे होते हैं। साथ ही ये फल बालों के लिए भी काफी लाभदायक साबित होता है । आइए जानते हैं इससे जुड़े कुछ फायदे…

सीताफल की खूबियां  सीताफल की खूबियों के बारे में आयुर्वेद में भी वर्णन है। ऐसी मान्यता है कि सीता ने वनवास के समय श्रीराम को यह भेंट किया था। तभी से इसका नाम सीताफल पड़ा। आयुर्वेद के अनुसार शीताफल शरीर को शीतलता पहुंचाता है। यह फल पित्तशामक, तृषाशामक, उल्टी रोकने वाला, पौष्टिक, तृप्तिकर्ता, कफ एवं वीर्यवर्धक, मांस एवं रक्त वर्धक, बलवर्धक, वात दोष शामक और हृदय के लिए लाभदायी है।
1 सीताफल के पत्तों को पीस कर फोड़ों पर लगाने से वो ठीक हो जाते हैं।
2 सीताफल के बीजों को बकरी के दूध के साथ पीसकर लगाने से सिर के उड़े हुए बाल भी फिर से उग आते हैं।
3 सीताफल घबराहट दूर कर हार्टबीट को सही करता है। कमजोर हृदय या उच्च रक्तचाप के रोगियों के लिए इसका सेवन बहुत ही लाभदायक है।
4 कच्चा सीताफल खाने से अतिसार और पेचिश में फायदा मिलता है। कच्चे सीताफल को काटकर सुखा दें और पीसकर रोगी खिलाएं। इससे डायरिया सही हो जाएगा।
5 सीताफल दवा का काम भी करता है। इस फल को खाने से दुर्बलता दूर होकर मैनपावर बढ़ती है।

You May Also Like

English News