इस मंदिर में यू नहीं माथा टेकने पहुंचे मोदी, ये हैं मान्यता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को गुजरात के कच्छ इलाके से राज्य में अपने चुनावी अभियान की शुरुआत की. पीएम मोदी सबसे पहले कच्छ के आशापुरा मंदिर पहुंचे और भगवान का आशीर्वाद लिया. प्रधानमंत्री ने मंदिर में करीब 20 मिनट तक पूजा-अर्चना भी की. आइए जानते हैं इस मंदिर का इतिहास और इसकी महत्ता जिसकी वजह से पीएम मोदी ने भी इस मंदिर में मत्था टेकने के बाद ही चुनावी दौरे का श्रीगणेश किया.इस मंदिर में यू नहीं माथा टेकने पहुंचे मोदी, ये हैं मान्यता
मरने के बाद भारत की इस जगह में पहुंचती है व्यक्ति की आत्मा

गुजरात की धरती पर मंदिरों और धामों का खासा महत्व है. पीएम मोदी ने जिस आशापुरा मंदिर में दर्शन करने के बाद चुनावी जनसभाओं को संबोधित किया उसके भी बड़ी संख्या में अनुयायी हैं. आशापुरा को कच्छ की कुलदेवी माना जाता है और बड़ा तादाद में इलाके के लोगों की उनमें आस्था है.
 

आशापुरा माता को कई समुदायों द्वारा कुलदेवी के रूप में माना जाता है, और मुख्यत: नवानगर, राजकोट, मोरवी, गोंडल बारिया राज्य के शासक वंश चौहान, जडेजा राजपूत, कच्छ, की कुलदेवता है. गुजरात में आशापुरा माता का मुख्य मंदिर कछ मे माता नो मढ़ (भुज से 95 किलोमीटर दूर) पर स्थित है. वहां पर कछ के गोसर और पोलादिया समुदाय के लोग भी आशापुरा माता को अपनी कुलदेवता मानते हैं.
 

14वीं शताब्दी में निर्मित आशापुरा माता मंदिर जडेजा राजपूतों की प्रमुख कुलदेवी आशापुरा माता को समर्पित है. इस मंदिर का निर्माण जडेजा साम्राज्य के शासनकाल के दौरान किया गया था.
 

आशापुरा देवी मां को अन्नपूर्णा देवी का अवतार माना जाता है. आशापुरा देवी मां के प्रति श्रद्धालुओं की गहरी आस्था है. ऐसी मान्यता है कि आशापुरा देवी मां हर मुराद अवश्य पूरी करती हैं. गुजरात में कई अन्य समुदाय भी आशापुरा देवी को अपनी कुलदेवी के तौर पर पूजते हैं.
 

अत्यधिक प्राचीन इस मंदिर को कई बार भूकंप से क्षति भी पहुंची है. पहली बार 1819 में और दूसरी बार 2001 में आए भूकंप से मंदिर क्षतिग्रस्त हो चुका है. मंदिर के भीतर 6 फीट ऊंची लाल रंग की आशापुरा माता की मूर्ति स्थापित है. साल भर श्रद्धालु माता के दर्शन के लिए मंदिर में जुटते हैं. नवरात्र के दौरान इस मंदिर में खूब चहल-पहल देखने को मिलती है.
 

आशापुरा देवी मां का उल्लेख पुराणों औऱ रूद्रयमल तंत्र में भी मिलता है. इस मंदिर में पूजा की शुरूआत कब हुई, इसका कोई ठोस प्रमाण तो नहीं मिलता है लेकिन 9वीं शताब्दी ईस्वी में सिंह प्रांत के राजपूत सम्मा वंश के शासनकाल के दौरान आशापुरा देवी की पूजा होती थी. इसके बाद कई और समुदायों ने भी आशापुरा देवी की पूजा करना शुरू कर दी.
 

आशापुरा माता की मूर्ति की एक खास बात यह है कि उनकी 7 जोड़ी आंखें हैं.
 

राजस्थान में पोखरण, मादेरा, और नाडोल मे आशापुरा माता के मंदिर हैं. ये मंदिर श्रद्धालुओं की आस्था के बडे केंद्र हैं.
 

गुजरात की राजनीति में इन धामों का कितना महत्व है, इसे इस उदाहरण से भी समझा जा सकता है कि नरेंद्र मोदी जब तक मुख्यमंत्री रहे, वो हर चुनाव में खोडलधाम माता के सामने मत्था टेकने जाते थे. हालांकि, इस बार पटेलों की नाराजगी के बावजूद मोदी वहां नहीं गए हैं. दूसरी तरफ राहुल गांधी द्वारकाधीश मंदिर से लेकर गांधीनगर के अक्षरधाम मंदिर तक जा चुके हैं. बिना पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के राहुल राजकोट में जलाराम बापा के मंदिर भी जा चुके हैं. हालांकि, अभी तक उनका कच्छ दौरा नहीं हुआ है.

You May Also Like

English News