इस शख्स का कैश बैलेंस जानकर हैरान हो जाएंगे आप

दुनिया के शीर्ष अरबपतियों में से एक वॉरेन बफे पिछले हफ्ते शनिवार को बर्कशर हैथवे की सालाना बैठक में शामिल हुए थे,  इस बैठक में दुनिया के तीसरे सबसे अमीर शख्स ने दुनिया के बड़े निवेशकों को कई बिज़नेस टिप्स दिए और कई मुद्दों पर चर्चा की, लेकिन इन सबमे सबसे अधिक चर्चित मुद्दा कैश रिज़र्व का रहा. इसमें भी वॉरेन बफे का कैश रिज़र्व जानकर सभी लोग हैरान रह गए. वॉरेन बफे की कंपनी के पास इतना कैश पड़ा है कि वह भारत की 100 अरब डॉलर के क्लब में पहुंचने वाली कंपनी टीसीएस को बिना किसी परेशानी के खरीद सकते हैं.  बर्कशर हैथवे के पास मौजूदा समय में 116 अरब डॉलर (7,656 अरब रुपये) का कैश रिजर्व है. दुनिया के शीर्ष अरबपतियों में से एक वॉरेन बफे पिछले हफ्ते शनिवार को बर्कशर हैथवे की सालाना बैठक में शामिल हुए थे,  इस बैठक में दुनिया के तीसरे सबसे अमीर शख्स ने दुनिया के बड़े निवेशकों को कई बिज़नेस टिप्स दिए और कई मुद्दों पर चर्चा की, लेकिन इन सबमे सबसे अधिक चर्चित मुद्दा कैश रिज़र्व का रहा. इसमें भी वॉरेन बफे का कैश रिज़र्व जानकर सभी लोग हैरान रह गए. वॉरेन बफे की कंपनी के पास इतना कैश पड़ा है कि वह भारत की 100 अरब डॉलर के क्लब में पहुंचने वाली कंपनी टीसीएस को बिना किसी परेशानी के खरीद सकते हैं.  बर्कशर हैथवे के पास मौजूदा समय में 116 अरब डॉलर (7,656 अरब रुपये) का कैश रिजर्व है.   सिर्फ यही नहीं वे हमारे देश के कई बैंकों के डूबे हुए लोन का 85 फीसद भी आसानी से ख़त्म कर सकते हैं, मौजूदा समय में इन बैंकों का कुल बैड लोन  8,96,891 करोड़ है. जबकि वॉरेन की कंपनी के पास 7,65,600 करोड़ रुपये की नकदी है. हमे लगता है कि इतना कैश होने के बाद तो क्या सुकून का जीवन होता होगा, लेकिन वारेन इसी बात के लिए मीटिंग बुलाते हैं , चर्चाएं करते हैं , कि इतनी बड़ी धनराशि का क्या उपयोग किया जाए. वे इस कैश कलेक्शन को लेकर हमेशा चिंतित रहते हैं.   पहले कयास लगाए जा रहे थे कि वॉरेन अपने कैश को निवेशकों के बीच लाभ के बंटवारे के तौर पर बाँट सकते है, लेकिन वॉरेन ने बैठक के दौरान इस मामले में रूचि नहीं दिखाई है,  उनका कहना है कि मेरा निवेश में ज्यादा भरोसा है. आपको बता दें कि वॉरेन को दुनिया के बेहतरीन निवेशकों में गिना जाता है, वे ऐप्पल, आईबीएम और दुनिया की कई बड़ी कंपनियों में निवेश कर चुके हैं

सिर्फ यही नहीं वे हमारे देश के कई बैंकों के डूबे हुए लोन का 85 फीसद भी आसानी से ख़त्म कर सकते हैं, मौजूदा समय में इन बैंकों का कुल बैड लोन  8,96,891 करोड़ है. जबकि वॉरेन की कंपनी के पास 7,65,600 करोड़ रुपये की नकदी है. हमे लगता है कि इतना कैश होने के बाद तो क्या सुकून का जीवन होता होगा, लेकिन वारेन इसी बात के लिए मीटिंग बुलाते हैं , चर्चाएं करते हैं , कि इतनी बड़ी धनराशि का क्या उपयोग किया जाए. वे इस कैश कलेक्शन को लेकर हमेशा चिंतित रहते हैं. 

पहले कयास लगाए जा रहे थे कि वॉरेन अपने कैश को निवेशकों के बीच लाभ के बंटवारे के तौर पर बाँट सकते है, लेकिन वॉरेन ने बैठक के दौरान इस मामले में रूचि नहीं दिखाई है,  उनका कहना है कि मेरा निवेश में ज्यादा भरोसा है. आपको बता दें कि वॉरेन को दुनिया के बेहतरीन निवेशकों में गिना जाता है, वे ऐप्पल, आईबीएम और दुनिया की कई बड़ी कंपनियों में निवेश कर चुके हैं

You May Also Like

English News