उत्तराखंड: जौलीग्रांट एयरपोर्ट की नई पहल, अब हैंडबैग पर नहीं लगेंगे टैग

जिस तरह से दुनिया आगे बढ़ रही है, ऐसे में समय की कीमत और बढ़ती जा रही है. वक़्त के महत्व को लेकर लोग ज्यादा संजीदा हो रहे हैं. यही वजह है कि मौजूदा समय में ज्यादातर लोग समय की बचत के लिए हवाई यात्रा करते हैं. लेकिन इस हवाई सफ़र के लिए भी लोगों को सुरक्षा वजहों के चलते काफी समय गवाना पड़ जाता है. उत्तराखंड के जौलीग्रांट एयरपोर्ट ने यात्रियों की सुविधा के लिए एक नया कदम उठाया है.उत्तराखंड: जौलीग्रांट एयरपोर्ट की नई पहल, अब हैंडबैग पर नहीं लगेंगे टैग

नहीं लगेगा हैंडबैग पर टैग, बचेगा यात्रिओं का समय

जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर बढ़ती हुई लोगों की संख्या को देखते हुए नई सुविधा को शुरू किया गया है. जिसमें हवाई यात्रियों के हैंडबैग पर टैग लगने से लेकर चेकिंग व्यवस्था में भी छूट की सुविधा शामिल है. बता दें कि अब तक हवाई यात्रियों के हैंडबैग पर टैग लगाने के बाद ही सिक्योरिटी होल्ड एरिया में जाने की इज़ाजत होती थी. टैग के आधार पर ही चेकिंग की बाकी प्रक्रिया पूरी की जाती थी. हालांकि कई बड़े हवाईअड्डो पर ऐसी सुविधा दी जाती है, लेकिन जौलीग्रांट जैसा छोटा एयरपोर्ट शायद पहला ऐसा एयरपोर्ट है जिसने ये कदम उठाया है.

खत्म हुई पुरानी व्यवस्था

इस सहूलियत से देहरादून के यात्रियों को समय में बचत मिलेगी. जौलीग्रांट एयरपोर्ट के डायरेक्टर विनोद शर्मा का कहना है कि इस नई सुविधा से एयरपोर्ट पर पहले से ज्यादा बेहतर तरीके से सुरक्षा रखी जा सकेगी. विनोद शर्मा ने आज तक से खास बातचीत में बताया कि यात्रियों को पहले टैग और फिर टैग पर लगने वाले स्टैम्प के चलते कई बार परेशानियों का सामना करना पड़ता था. वो परेशानियां अब बिल्कुल ख़त्म हो जाएंगी. 

सुरक्षा में 5 नए एचडी कैमरे

एयरपोर्ट डायरेक्टर ने बताया कि सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए एयरपोर्ट में 5  HD कैमरे और लगाए गए हैं. जिससे एयरपोर्ट में कैमरों की संख्या 65 हो गई है. जो जौलीग्रांट हवाई यात्रियों पर पैनी नज़र रखेंगे. वहीं पहले से लगे 60 कैमरों की व्यवस्था और दुरुस्त हो जाएगी.

गौरतलब है कि कई बार पहले भी आतंकी गतिविधियों की धमकी के चलते जौलीग्रांट एयरपोर्ट हमेशा से ही अलर्ट पर रहा है, लेकिन कैमरों की बढ़ती संख्या एक-एक कौने से सभी गतिविधियों को सुरक्षा एजेंसी तक पहुंचा सकेंगी. 

You May Also Like

English News