उत्तर कोरिया के मिसाइल से डरी दुनिया, संयुक्त राष्ट्र से किया बैठक बुलाने का आग्रह

उत्तरी कोरिया द्वारा बैलेस्टिक मिसाइल लांच करने और आगे इसी प्रकार के कुछ और परीक्षण करने का ऐलान करने के बाद दुनिया के विकसित देशों ने इसे सैन्य व सुरक्षा पर खतरा मानते हुए संयुक्त राष्ट्र से तुरंत सुरक्षा परिषद की बैठक बुलाने का आग्रह किया है। अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया ने संयुक्त राष्ट्र से आव्हान किया कि वह शीघ्र राजनयिक चर्चा शुरू करे।
उत्तर कोरिया के मिसाइल से डरी दुनिया, संयुक्त राष्ट्र से किया बैठक बुलाने का आग्रह

आप भी जानिए! मर्द हीं नहीं बल्कि औरते भी दूसरी महिलांए कि इन अंगों को निहारती हैं

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी मिशन के प्रवक्ता ने कहा कि सोमवार देर शाम (भारतीय समयानुसार मंगलवार सुबह) को यह बैठक अपेक्षित है। माना जा रहा है कि उत्तरी कोरिया द्वारा किया जाने वाला यह प्रतिबंधित परीक्षण संभवतया अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को चुनौती देने के मकसद से किया गया है, क्योंकि ट्रंप ने प्योंगयांग में इस तरह के परीक्षणों पर सख्त रुख अपनाया था।उत्तर कोरिया की मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस परीक्षण के दौरान देश के नेता किम योंग उन खुद वहां पर मौजूद थे। इस बीच प्योंगयांग से कहा गया है कि उसका मकसद परमाणु हथियारों से पीछे हटने का कतई नहीं है।

ट्रंप को चुनौती देने के लिए कोरिया ने किया बैलिस्टिक मिसाइल का टेस्ट

अमेरिका में शिंजो अबे और ट्रंप की मुलाकात में भी उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण की चर्चा प्रमुखता से हुई। ट्रंप ने जापान को अमेरिका का सच्चा भागीदार बताते हुए पूरा समर्थन देने की बात कही। इसके बाद अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से तुरंत बैठक बुलाकर मिसाइल परीक्षण पर बातचीत करने की अपील की।

दक्षिण कोरिया के विदेश मंत्रालाय ने मिसाइल टेस्ट को ‘सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव का सीधा उल्लंघन’ बताते हुए कहा कि यह कोरियाई प्रायद्वीप और समूचे अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए भी खतरा है।

न्यूट्रॉन बम की क्षमता भी है उ. कोरिया के पास

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के तहत उत्तर कोरिया पर हर तरह की बैलेस्टिक तकनीक पर प्रतिबंध लगाया गया है। ये प्रतिबंध उस पर 2006 में किए गए पहले परमाणु परीक्षण के बाद लगाए गए थे। लेकिन इसके बावजूद प्योंगयांग लगातार तकनीकी हथियार विकसित करता रहा। माना जा रहा है कि फिलहाल उत्तर कोरिया के पास न्यूट्रॉन बम बनाने की क्षमता भी विकसित हो चुकी है। पिछले कुछ सालों में मिसाइल कार्यक्रम भी तेज हुआ है।चीन ने मिसाइल परीक्षण की निंदा की
बीजिंग। चीन ने उत्तर कोरिया के बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण का विरोध किया और संबंधित पक्षों से संयम तथा क्षेत्रीय स्थिरता बनाए रखने की अपील की। चीन ने इस परीक्षण की निंदा करते हुए दावा किया कि यह परीक्षण अमेरिका और दक्षिण कोरिया के साथ विवादों के मद्देनजर हुए हैं।समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जेंग शुनाग ने कहा है कि उत्तर कोरिया द्वारा बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का उल्लंघन है। उन्होंने सभी पक्षों से संयम बरतने तथा क्षेत्रीय स्थिरता बनाए रखने की अपील की है।

You May Also Like

English News