उत्तर प्रदेश के खिलाडिय़ों को भी दिया अटल बिहारी ने बड़ा तोहफा

राजनीति के माहिर खिलाड़ी पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी ने खेल के क्षेत्र में उत्तर प्रदेश को बड़ा तोहफा दिया। लखनऊ में भारतीय खेल प्राधिकरण का उप केंद्र उनकी ही देन है। आज यहां पर प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले खिलाड़ी तो ओलंपिक, एशियाई खेल तथा राष्ट्रमंडल खेलों में देश को पदक दिला रहे हैं।राजनीति के माहिर खिलाड़ी पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी ने खेल के क्षेत्र में उत्तर प्रदेश को बड़ा तोहफा दिया। लखनऊ में भारतीय खेल प्राधिकरण का उप केंद्र उनकी ही देन है। आज यहां पर प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले खिलाड़ी तो ओलंपिक, एशियाई खेल तथा राष्ट्रमंडल खेलों में देश को पदक दिला रहे हैं।   अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने संसदीय क्षेत्र रहे लखनऊ को खेल के क्षेत्र में आधुनिक सुविधाएं देने पहली की थी। उसी का नतीजा है कि मौजूदा समय में खेल के क्षेत्र में शहर का विकास दिख रहा है। उन्होंने हर क्षेत्र को शामिल कर शहर के विकास की नींव रखी। इसी तरह खिलाडिय़ों के लिए भी उन्होंने सरोजनी नगर में हज हाउस के पास भारतीय खेल प्राधिकरण का उप केंद्र बनवाया। मौजूदा समय में यह उपकेंद्र से क्षेत्रीय केंद्र बन गया।  तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई ने 23 फरवरी 2004 को भारतीय खेल प्राधिकरण के उपकेंद्र का उद्घाटन भी किया। साईं से साक्षी मलिक, गीता फोगाट, दिनेश फोगाट, पूजा जैसे कई नामी खिलाड़ी समेत अन्य खिलाड़ी भी देश का नाम रोशन कर रहे हैं। इसके अलावा शहर के कई लोगों को रोजगार भी मिला है। इस केंद्र को सुविधाओं को देख कर वर्ष 2014 को इसे साईं नेताजी सुभाष रीजनल सेंटर घोषित किया गया।

अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने संसदीय क्षेत्र रहे लखनऊ को खेल के क्षेत्र में आधुनिक सुविधाएं देने पहली की थी। उसी का नतीजा है कि मौजूदा समय में खेल के क्षेत्र में शहर का विकास दिख रहा है। उन्होंने हर क्षेत्र को शामिल कर शहर के विकास की नींव रखी। इसी तरह खिलाडिय़ों के लिए भी उन्होंने सरोजनी नगर में हज हाउस के पास भारतीय खेल प्राधिकरण का उप केंद्र बनवाया। मौजूदा समय में यह उपकेंद्र से क्षेत्रीय केंद्र बन गया।

तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई ने 23 फरवरी 2004 को भारतीय खेल प्राधिकरण के उपकेंद्र का उद्घाटन भी किया। साईं से साक्षी मलिक, गीता फोगाट, दिनेश फोगाट, पूजा जैसे कई नामी खिलाड़ी समेत अन्य खिलाड़ी भी देश का नाम रोशन कर रहे हैं। इसके अलावा शहर के कई लोगों को रोजगार भी मिला है। इस केंद्र को सुविधाओं को देख कर वर्ष 2014 को इसे साईं नेताजी सुभाष रीजनल सेंटर घोषित किया गया।

You May Also Like

English News